शुक्रवार, 28 फ़रवरी 2014

बदले जो न ढंग.( दोहे )

बदले जो न ढंग.
 
हाथ गुलाल लिए खड़े,मोहन  बहुत  उदास ,
राधा  पहुँची  डेट पर, और  किसी  के साथ !

राधा के  मन और है, मोहन  के  मन  और ,
इसके मन  भी चोर है, उसके मन  भी चोर !

होली दिवाली  भाय न, भाये अब  न बसंत ,
मोहन  के  मन अब  बसे, बैलेटाइन  सन्त !

पहले  चाट  पसंद  थी ,अब  पसंद  है  चैट ,
मनमोहन   की  बाँसुरी , बना  है  इंटरनेट !

राधा, मीरा, रुकमणी, सब  जाने  यह बात ,
इस मोहन  का वायदा, नहीं किसी के साथ !

देश ,वेश , भाषा  गई , बचा  है  केवल  रंग ,
यूँ  ही  गुम  हो  जावगे. बदले  जो  ना  ढंग !


धीरेन्द्र सिंह भदौरिया,
 

25 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (01-03-2014) को "सवालों से गुजरना जानते हैं" : चर्चा मंच : चर्चा अंक : 1538 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर और मनोरंजक छंद ....और उतने ही सुंदर कटाक्ष ......

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्रेम के विश्वास को आधुनिकता का श्राप

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर और सटीक दोहे...

    उत्तर देंहटाएं
  5. पहले चाट पसंद थी ,अब पसंद है चैट ,
    मनमोहन की बाँसुरी , बना है इंटरनेट !....bahut khoob ..:)

    उत्तर देंहटाएं
  6. आपकी इस प्रस्तुति को शनि अमावस्या और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत खूब ... हास्य, व्यंग का पुट लिए ....
    लाजवाब दोहे हैं सभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. रंग में भंग मिली है ..... बहुत सुन्दर दोहे .

    उत्तर देंहटाएं
  9. शानदार प्रस्तुति. से साक्षात्कार हुआ । मेरे नए पोस्ट
    "सपनों की भी उम्र होती है " (Dreams havel life) पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,