मंगलवार, 25 फ़रवरी 2014

फागुन की शाम.

फागुन की शाम

पोखर में 
डूब रही 
  फागुन की शाम ! 
झुक आया 
धरती तक 
 नीला आकाश, 
देख - देख 
हो बैठी 
 पत्तियाँ उदास ! 
सूरज ने  
घोड़ों की  
  खोल दी लगाम !  
  सतरंगी किरणें    
अब - 
   पीपल से झांक,    
भाग - भाग   
जाती है   
   सूनापन आंक !    
सुधियों में   
बैठ गया   
भूला सा नाम    
पोखर में   
डूब रही   
   फागुन की शाम !  


   

37 टिप्‍पणियां:

  1. बीतता फागुन कुछ ऐसी ही अनुभूतियाँ छोड़ जाता है .......सुंदर रचना......
    साभार......

    उत्तर देंहटाएं
  2. पत्तियाँ कर लीजिये पतियाँ की जगह ।
    बहुत सुंदर रचना ।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. क्षमा करें मुझे नहीं मालूम था पतियाँ सही है !

      हटाएं
  3. डूबते फागुन के शाम का बहुत सुंदर चित्रण ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति को आज की बुलेटिन सर डॉन ब्रैडमैन और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज बुधवार (26-02-2014) को लेकिन गिद्ध समाज, बाज को गलत बताये; चर्चा मंच 1535 में "अद्यतन लिंक" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर प्रस्तुति है आदरणीय-
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  7. हमेशा से बिलकुल अलग रचना बहुत अच्छी लगी !

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत खूब ... डूबती हुयी शाम भी कितना कुछ मन में उठा जाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. साँझ ढली .पंछी घर आये .........खुबसूरत अहसास !

    उत्तर देंहटाएं
  10. फगुनाहर का असर..सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. प्रिय धीरेन्द्र भाई बहुत सुन्दर प्राकृतिक झांकी युक्त सुन्दर रचना
    जय शिव शम्भो आप को भी....
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  12. वहुत सुन्दर प्रस्तुति , फाल्गुन का सुन्दर चित्र प्रस्तुत किया है, बहुत बधाई ..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत कोमल भाव ...........बिलकुल अलग रचना बहुत अच्छी लगी !

    उत्तर देंहटाएं
  14. शानदार प्रस्तुति. से साक्षात्कार हुआ । मेरे नए पोस्ट
    "सपनों की भी उम्र होती है " (Dreams havel life) पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,