मंगलवार, 27 मार्च 2012

तुम्हारा चेहरा.....

तुम्हारा चेहरा

चाँद से भी खूबसूरत है तुम्हारा चेहरा
हमने सौ बार निगाहों में उतारा चेहरा,

सबकी नजरों से महफिल में बचाकर नजरें
चुपके-चुपके से हर नजर ने निहारा चेहरा,

देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,

तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी "धीर" को याद नही
मेरी नजरो को नहीं दूजा गवारा चेहरा,

फिर किसी शख्स को देखने की तमन्ना न होगी
इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,

DHEERENDRA,”dheer”

93 टिप्‍पणियां:

  1. वाह..........
    बहुत खूबसूरत...

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाकई बड़ा खुबसूरत है चेहरा !
    सुंदर रचना ....

    उत्तर देंहटाएं
  3. खूबसूरत सी सूरत थी या
    कल्पना की मूरत थी,
    मींचता हूँ खोलता हूँ आँख अपनी,
    सोचता हूँ ख़्वाब था या थी अप्सरा कोई...

    उत्तर देंहटाएं
  4. ठण्ड कलेजे पै गई, अब न धीर-अधीर ।
    दर्शन उनके जो हुवे, करे कैद तश्वीर ।

    करे कैद तश्वीर, दूसरा मन न भावे ।
    मिली धीर को हीर, चीर हृदय दिखलावे ।

    दीवाना दिलदार, शक्ल भायें न दूजे ।
    भूल गया संसार, पड़ी जो ठण्ड कलेजे ।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. सुंदर चेहरे के लिए सुंदर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  6. सुन्दर चेहरे का...बहुत खूबसूरती से किया गया वर्णन!

    उत्तर देंहटाएं
  7. देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,
    हैरान खुद कम हम भी नहीं ,

    देखते अपना, नजर आता है चेहरा तेरा .

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद खूबसूरत है... सुन्दर रचना के लिए आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  9. फिर किसी शख्स को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा ...

    कुछ तो खास है उनके चेहरे में जो तमन्ना पूरी हो गयी ... खूबसूरत शेर हैं सभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सबकी नजरों से महफिल में बचाकर नजरें
    चुपके-चुपके से हर नजर ने निहारा चेहरा.... .बहुत खूबसूरत रचना है.

    उत्तर देंहटाएं
  11. अरवीला रविकर धरे, चर्चक रूप अनूप |
    प्यार और दुत्कार से, निखरे नया स्वरूप ||

    आपकी टिप्पणियों का स्वागत है ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आप तो भाई .... प्रेम रस में दूब रहे है

      हटाएं
    2. बबन जी,..ये तो आपकी लेखनी का असर हो रहा है,.....

      हटाएं
  12. तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी "धीर" को याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवारा चेहरा,... waah kya baat hai

    उत्तर देंहटाएं
  13. vaah kya baat hai dheer ji picture bhi jabardast kahan se chunkar lagaai hai jise dekh kar koi kavi likhe bina ruk nahi sakta ,bahut achcha likha hai.jara yahan bhi gaur farmaayen....
    बला की खूबसूरत थी ग़जब का नूर शामिल था
    मोहब्बत कैसे करता मैं वहां गुरूर शामिल था

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. हौसला बढाने के लिए बहुत२ आभार,....

      हटाएं
  14. .........यूं चल गया नूरानी चेहरे का जादू
    'धीर' को भी 'अधीर' बना गया तुम्हारा चेहरा......

    उत्तर देंहटाएं
  15. क्या बात है. शानदार गज़ल. आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  16. तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी "धीर" को याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवारा चेहरा,


    प्रेम की सादगी के साथ,बहुत सुंदर और दिल को छूती रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. अरे वाह!! कमाल की रूमानी रचना है.. आज ये भी रंग देख लिया आपका!! बधाई!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. फिर किसी शख्स को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,

    बहुत सुंदर भाव। धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या बात है ! सरस शब्दों में सौंदर्य को प्रतिष्ठित कर लालित्य को उन्माद सा दे दिया है .... बहुत सुन्दर /

    उत्तर देंहटाएं
  20. आइना चटक गया होगा,
    तेरी सूरत निहारकर,
    मैंने कुछ इस तरह
    दिल को तसल्ली दी है !

    उत्तर देंहटाएं
  21. jitna khubsurat chehra hai usse bhi sundar rachna hai.
    dhanyawad.....

    उत्तर देंहटाएं
  22. Dheerendra ji, bahut sundar!! ek guzarish bhi hai... saadar vinamra nivedan hai ki 'resent post' ki bajaay 'recent post' likha karen.. angezi mein meanings bahut alag hain...
    Saadar!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. चेहरा ही तो पहचान का प्रतीक है..

    उत्तर देंहटाएं
  24. चेहरा जितना खुबसूरत है ,उससे भी जयादा खुबसूरत आपकी रचना है |
    ............धन्यवाद् ......

    उत्तर देंहटाएं
  25. धिरेंदर जी मै भी चेहरे हो देखते रह गया ! आप की तुकबंदी सजावट के क्या कहना ! बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  26. "तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी "धीर" को याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवारा चेहरा,"

    हासिल ए गजल शेर है यह आपका !

    उत्तर देंहटाएं
  27. चाँद से भी खूबसूरत है तुम्हारा चेहरा

    हमने सौ बार निगाहों में उतारा चेहरा,

    चाँद पे देखें हैं ज़माने ने लाखों क्रेटर ,

    मैंने देखा है ,बेदाग़ सुहाना चेहरा .

    उत्तर देंहटाएं
  28. फिर किसी शख्स को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,
    वाह! वाह! वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  29. देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,

    बहुत खूबसूरत गजल

    उत्तर देंहटाएं
  30. क्या बात है -धीरेन्द्र जी.....वाह ! !,

    किनारे पे ही रहियो... हमैं डर है, कहीं आप डूब ना जाएँ इस मंजर में.........

    उत्तर देंहटाएं
  31. bahut sundar rachna hai! badhai.
    aapke bahane RAVIKAR G jaise kaviyon ko bhi padhne ka mauka mil gaya!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी "धीर" को याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवारा चेहरा,..
    धीर हुए गंभीर देख यह शायद पहली बार हुआ......................?
    खुबसूरत चेहरा और सुंदर पंक्तियाँ .......................वाह.

    उत्तर देंहटाएं
  33. आपके चयन की दाद देते हैं .....वाकई सुन्दर हैं दोनों आपकी रचना और आपकी प्रेरणा!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  34. bahut sundar abhivyakti hai aapki
    फिर किसी शख्स को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,

    उत्तर देंहटाएं
  35. बेहद खूबसूरत है....बहुत ही दमदार एवं उम्‍दा प्रस्‍तुति ...आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  36. तेरे दीदार के बाद फिर कोई चाहत नहीं -वाह कितनी मोहक अभिव्यक्ति!

    उत्तर देंहटाएं
  37. सबकी नजरों से महफिल में बचाकर नजरें
    चुपके-चुपके से हर नजर ने निहारा चेहरा,
    I GET HURT WHEN I READ THE BEAUTIFUL LINES
    WITH BEAUTIFUL PICTURE BASED ON
    EMOTIONS AND FEELINGS .I AM JEALOUS OF YOU .

    उत्तर देंहटाएं
  38. कैसे गवारा होगा दूजा चेहरा, जब हर शै में नज़र आटा तेरा चेहरा |

    बढ़िया

    टिप्स हिंदी में

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत सुंदर रचना,बेहतरीन प्रस्तुति,...

    उत्तर देंहटाएं
  40. तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी "धीर" को याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवारा चेहरा,...वाह: बहुत खुबसूरत रचना..! धीरेन्द्र जी..बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  41. आपने जो लिखा हें उससे तो यह लगता हें कि खूबसूरती भी सरमाजाये |

    उत्तर देंहटाएं
  42. वाह...
    बेहतरीन प्रस्तुति...
    बहुत खूबसूरत है तुम्हारा चेहरा.

    उत्तर देंहटाएं
  43. सबकी नजरों से महफिल में बचाकर नजरें
    चुपके-चुपके से हर नजर ने निहारा चेहरा,

    मन को झकझोर ने वाली कविता अच्छी लगी । मेरे पोस्ट पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  44. फिर किसी शख्स को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,


    ---क्या बात है धीरेन्द्र जी....सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं




  45. फिर किसी शख्स को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,

    वाकई ख़ूबसूरत तो है यह चेहरा …
    जिसका भी है , भगवान उसे बुरी नज़र से बचाए …
    :)

    आदरणीय धीरेन्द्र जी
    ख़ूबसूरती को महसूस करने वाली आपकी नज़रें भी सलामत रहे !



    *दुर्गा अष्टमी* और *राम नवमी*
    की
    ~*~बधाइयां शुभकामनाएं !~*~
    शुभकामनाओं-मंगलकामनाओं सहित…
    - राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  46. अति सुन्दर . शुभकामनाएं .

    उत्तर देंहटाएं
  47. काफी डूब कर संवेदनाओं को पेश किया है. बहुत खूबसूरत गज़ल बन पड़ी है. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  48. देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,

    बहुत खूब, बहुत खूब...!
    बेहतरीन ग़ज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  49. खूबसूरती को बहुत खूबसूरती से पेश किया है ।
    बेहतरीन ।

    उत्तर देंहटाएं
  50. खूबसूरती को सलाम करती हुई बेहद खूबसूरत गजल.

    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  51. चेहरे से भी खूबसूरत गजल...

    उत्तर देंहटाएं
  52. वाह...बेहतरीन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  53. "देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,"
    -----------------------------
    वाह बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  54. भीड़ में एक चेहरा जो देखा
    वो सदा के लिए अपना बन गया ....

    उत्तर देंहटाएं
  55. "देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,"
    aah ati sundar rachana ,badhaaii

    उत्तर देंहटाएं
  56. सभी महानुभाव जो मेरे पोस्ट पर आकर अपने शब्दों से मुझे मार्ग दर्शन और मेरा हौसला बढाया सभी लोगों को दिल से शुक्रिया अदा करता हूँ और भविष्य में इसी तरह सहयोग की आशा करता हूँ,..
    बहुत२ आभार...धन्यवाद ....

    उत्तर देंहटाएं
  57. खूबसूरत चेहरा... सुन्दर भाव, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,