शनिवार, 27 जुलाई 2013

तेरी याद आ गई ...


    तेरी याद आ गई  
 ,
बरसात आई  तो लगा कि बहार आ गई
तेरे इन्तजार में बसंत की  बहार आ गई,

आइना जब भी  देखूँ  तो  लगता  है मुझे 
पीछे से लगा जैसे आप मेरे पास आ गई, 

मैंने  दिल से  चाहा तुझे उम्र भर  तमाम
दस्तक  दिए बगैर  तेरी  बारात  आ गई,

बेचैनियाँ इतनी कि और क्या बताये धीर 
 बरसात आई  ऐसी कि  तेरी याद आ गई,  


धीरेन्द्र सिंह भदौरिया "धीर"

57 टिप्‍पणियां:

  1. बहुता सुंदर !
    कृपया जवाब के लिये ना आयें आभारी रहूँगा !

    उत्तर देंहटाएं
  2. अरे वाह ..बहोत अच्छी गजल है...आपका तख्लुस भी मकते मे शनदार तरीके से लगा है....कुल मिला कर बहेतरीन गजल

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर रचना ...................

    उत्तर देंहटाएं
  4. मैंने दिल से चाहा तुझे उम्र भर तमाम
    दस्तक दिए बगैर तेरी बारात आ गई,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेचैनियाँ इतनी कि और क्या बताये धीर
    बरसात आई ऐसी कि तेरी याद आ गई ।
    सुंदर ।

    उत्तर देंहटाएं
  6. बरस बाद बरसी है बरखा,
    आंख भी बरसा गई
    है परे जो,परी बन
    यादों में मेरे आ गई !

    उत्तर देंहटाएं
  7. मैंने दिल से चाहा तुझे उम्र भर तमाम
    दस्तक दिए बगैर तेरी बारात आ गई,

    khoob kaha
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि का लिंक आज रविवार (28-07-2013) को त्वरित चर्चा डबल मज़ा चर्चा मंच पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. आभार ...शास्त्री जी ,,,क्या करू मलेरिया बुखार के कारन १0दिन से सबके पोस्ट पर नही पहुच पा रहा,,,समय निकाल कर पहुचने की कोशिश करता हूँ किन्तु,,,,

      हटाएं
  9. वाह बहुत खूब
    मैंने दिल से चाहा तुझे उम्र भर तमाम
    दस्तक दिए बगैर तेरी बारात आ गई,
    :)

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेचैनियाँ इतनी कि और क्या बताये धीर
    बरसात आई ऐसी कि तेरी याद आ गई,
    बहुत उम्दा ... लाजवाब शेर हैं सभी ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर रचना और अभिव्यक्ति ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. अमिट छाप छोड़ गई
    प्यार से भिगो गई
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह क्या बात है -
    आभार भाई जी-

    उत्तर देंहटाएं
  14. माफ़ कीजिये।।।। दूसरा शेर ऐसा लगा जैसे जबरदस्ती ठेला गया हो |

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बरसात के साथ यादें तो आती ही हैं
    बहुत खूब
    साभार!

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या करू मलेरिया बुखार के कारन १0दिन से सबके पोस्ट पर नही पहुच पा रहा,,,समय निकाल कर पहुचने की कोशिश करता हूँ किन्तु,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  18. बरसात में तू तुझ में सारी बरसात ,भीगे हम सारी रात। बढ़िया सौंदर्य प्रधान रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  19. मैंने दिल से चाहा तुझे उम्र भर तमाम
    दस्तक दिए बगैर तेरी बारात आ गई
    बहुत खूबसूरत

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपने लिखा....
    हमने पढ़ा....और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए बुधवार 031/07/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in ....पर लिंक की जाएगी.
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    लिंक में आपका स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं

  21. मैंने दिल से चाहा तुझे उम्र भर तमाम
    दस्तक दिए बगैर तेरी बारात आ गई,
    BEAUTIFUL LINES WITH HEART TOCHING EMOTIONS

    उत्तर देंहटाएं
  22. बेचैनियाँ इतनी कि और क्या बताये धीर
    बरसात आई ऐसी कि तेरी याद आ गई,

    सुंदर भावपूर्ण गज़ल, बधाई............

    उत्तर देंहटाएं
  23. बेचैनियाँ इतनी कि और क्या बताये धीर
    बरसात आई ऐसी कि तेरी याद आ गई,

    सुंदर भावपूर्ण गज़ल, बधाई............

    उत्तर देंहटाएं
  24. व वाह ..वा वाह ...
    बधाई बढ़िया ग़ज़ल के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  25. बरसात आई तो लगा कि बहार आ गई
    तेरे इन्तजार में बसंत की बहार आ गई,......सुन्दर ग़ज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  26. बरसात आयी तो लगा कि......
    बहुत ही खूबसूरत अहसास लिए हुए ग़ज़ल.

    [ऊपर टिप्पणी से ज्ञात हुआ कि आप बुखार से पीड़ित हैं ,
    शुभकामना है कि जल्द स्वास्थ्य लाभ करें.]

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही खूबसूरत अहसास लिए हुए सुंदर ग़ज़ल.बधाई

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,