मंगलवार, 16 जुलाई 2013

अभी भी आशा है,



वेंकटनगर में  हमारे बहुत करीबी पारिवारिक मित्र और पड़ोसी,
दायें से - श्री रामकृष्ण गुप्ता,उनकी बहन और जीजाजी, केदार नाथ  त्रासदी में लापता,  
अभी भी आशा है,

 हिम्मत  न   हारो  तुम ,अभी  भी  आशा  है  
आँख में  आँसू न  लाओ,अभी  भी  आशा  है,

कोई  आ  सकता  अभी, कोई  दस्तक  देगा 
द्वार पर  कान  लगाओ,अभी  भी आशा  है,


आख़री  क्षण  में ,परिणाम  बदल  सकता है 
आख़री   जोर   लगाओ  अभी  भी  आशा  है,

  अब भी संभव  है कि ,शायद कोई लौट आये   
  हारकर  लौट  न  जाओ ,अभी  भी आशा  है,  


 जूझना  छोड़कर, टूटो  न  अभी  ओ  जीवन  
 अभी न  मौत  को बुलाओ, अभी भी आशा है, 

ईश्वर  अभी है, शायद कोई  करिश्मा कर दे  
 हृदय  को  धीर  बँधाओ , अभी  भी  आशा है,  

dheerendra dheer 


       

56 टिप्‍पणियां:

  1. आशा ही तो जीने का मकसद बनती हैं.....
    बहुत सार्थक भाव..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. बेहद सुन्दर प्रस्तुतीकरण ....!!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (17-07-2013) को में” उफ़ ये बारिश और पुरसूकून जिंदगी ..........बुधवारीय चर्चा १३७५ !! चर्चा मंच पर भी होगी!
      सादर...!
      शशि पुरवार

      हटाएं
  2. जूझना छोड़कर, टूटो न अभी ओ जीवन
    अभी न मौत को बुलाओ, अभी भी आशा है,

    जान है तो जहान है...सुंदर आशा भरा गीत..

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर आशा कभी नहीं छोडनी चाहिए।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब भी संभव है कि ,शायद कोई लौट आये
    हारकर लौट न जाओ ,अभी भी आशा है,
    ...........बहुत सुन्दर.............

    उत्तर देंहटाएं
  5. काश , यह आशा पूर्ण हो !
    मार्मिक परिस्थितयां हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब तो परिजन आशा के भरोसे ही जिंदा है, ईश्वर यह आशा पूर्ण करें.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. आशा के लौं को जलाएं रखना यही तो जिंदगी है... बहुत सार्थक पोस्ट .

    उत्तर देंहटाएं
  8. बस यही आशा तो जीने का संबल है .....भावुक करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  9. सकारात्‍मक दृष्‍टि‍कोण रखने वाली बात . अच्‍छी लगी .

    उत्तर देंहटाएं
  10. आशा ही तो है जो जीवन को आगे बढाती है ,बहुत सुन्दर प्रस्तुति !

    latest post सुख -दुःख

    उत्तर देंहटाएं
  11. अब भी संभव है कि ,शायद कोई लौट आये
    हारकर लौट न जाओ ,अभी भी आशा है,

    आशा का संचार करती सार्थक सकारात्‍मक दृष्‍टि‍कोण

    उत्तर देंहटाएं
  12. bahut dukhad hua yah sab... hame to bas apne andar ummid ko jagaye rakhna hai.. aur ham kar bhi kya sakte hai.. saadar

    उत्तर देंहटाएं
  13. मार्मिक अभिव्यक्ति,...आशा पर दुनिया टिकी है...

    उत्तर देंहटाएं
  14. आशा है ....पर बहुत-बहुत धूमिल सी ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. कहते हैं,आशा से आकाश थमा है...शुभ शुभ हो...........

    उत्तर देंहटाएं
  16. दिल को छूती भावप्रद रचना, सच है जब तक साँस है तब तक आस है ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. यह आशा पूर्ण हो यही कामना है ... सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  18. सब कर्मों की प्रेत छाया है फल है .ईश्वर कोई करिश्मा करने वाला मदारी नहीं है .चमत्कार की बातें भक्ति में होती हैं ज्ञान मार्ग में नहीं .अलबत्ता आदमी आस का पल्लू कभी नहीं छोड़ता .आस ही आदमी को छोड़ जाती है ड्रामा (प्रालब्ध ,कर्म फल )में जो है वही होता है .ॐ शान्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  19. शुभप्रभात
    दुआ है
    आपकी आशा जल्द पूरी हो
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  20. उम्मीद पर दुनिया कायम-
    आभार आदरणीय-

    उत्तर देंहटाएं
  21. इस त्रासदी में जिनके बिछड़ गए वे यही आश लगाए बैठे है !

    उत्तर देंहटाएं
  22. आस विश्वास बना रहे...
    बिछड़े लोग सकुशल लौट आयें, ये आशा ही संबल है!

    उत्तर देंहटाएं
  23. बस अब तो सिर्फ उम्मीद ही है..

    उत्तर देंहटाएं
  24. ये आशा और विश्वास ही रखना पड़ता है ... इन्सान और कर भी क्या सकता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. ईश्वर अभी है, शायद कोई करिश्मा कर दे
    हृदय को धीर बँधाओ , अभी भी आशा है,

    सभी सुरक्षित लौट आएं...ईश्वर से यही प्रार्थना है......

    उत्तर देंहटाएं
  26. आशा बनी रहे भाई ...शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  27. आशायें बनी रहें, जीवन बढ़ता रहे।

    उत्तर देंहटाएं
  28. आशा का दामन ही हमें आगे चलने की प्रेरणा देता है...बहुत सुंदर..

    उत्तर देंहटाएं
  29. उम्मीद पर दुनिया कायम है | उम्मीद का दामन न छोडें आशाएं जागृत रखें | भगवान् सबकी सुनते हैं उनके घर देर हैं अंधेर नहीं | हौसला रखें प्रभु सब भली करेंगे |

    उत्तर देंहटाएं
  30. भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  31. आस निराश का द्वैत ही इस युग का प्रारब्ध है कोई करे भी क्या ?

    उत्तर देंहटाएं
  32. धीरेन्द्र जी, उम्मीद पर दुनिया कायम है.....
    उम्दा, बेहतरीन अभिव्यक्ति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  33. आशा तो रखनी ही चाहिए पर परिणाम देखकर उम्मीद हारती ही है. आपके मित्र वापस आ जाएँ इसी कामना के साथ...

    उत्तर देंहटाएं
  34. ईश्वर अभी है, शायद कोई करिश्मा कर दे
    हृदय को धीर बँधाओ , अभी भी आशा है,
    उम्मीद पर ही तो दुनिया कायम है !
    बहुत सुन्दर …

    उत्तर देंहटाएं
  35. उम्मीद पर दुनिया है...
    mera naya blog

    rahulkmukul.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  36. उम्मीद पर दुनिया कायम है---
    आप निराश ना हों आपके मित्र अवश्य वापस आयेंगे
    मंगल कामनाएं हैं

    उत्तर देंहटाएं
  37. ईश्वर अभी है, शायद कोई करिश्मा कर दे
    हृदय को धीर बँधाओ , अभी भी आशा है,
    यह आशा पूर्ण हो यही कामना है ... सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  38. आशा के भरोसे ही दुनियां चल रही है इसलिए आशावान रहना भी जरुरी है !!

    उत्तर देंहटाएं
  39. ईश्वर अभी है, शायद कोई करिश्मा कर दे

    उत्तर देंहटाएं
  40. आशा बनी रहे ...शुभकामनायें !!

    उत्तर देंहटाएं
  41. आपके हर गीत लाज़वाब होते हैं

    उत्तर देंहटाएं
  42. आशा के भरोसे ही दुनियां चल रही है ,,,

    उत्तर देंहटाएं
  43. बहुत ही दुखद घटना,,,
    ईश्वर उनकी आत्मा को शांती प्रदान करे,,,

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,