सोमवार, 6 मई 2013

नूतनता और उर्वरा,

नूतनता और उर्वरा,

 बेटी    बोली   पेड़   से , कैसे    हो   तुम   भाई , 
प्रभु  ने  हम  दोनों  की , किस्मत  एक  बनाई !

दुनिया  में  हम  दोनों  को , ज़िंदा  मारा  जाता ,
 मुझे  गर्भ  के भीतर ,तुमको बाहर  काटा जाता  !

बेटी  की  ये बात  सुन , पेड़ ने किया आत्मसात ,
मिल कर  के किया फैसला , समझाई जाऐ बात !

हमको मत काटो मारो,दिया
इंसानों को मश्वरा ,
हम  दोनों  है  पृथ्वी  की,"नूतनता" और "उर्वरा !


धीरेन्द्र सिंह भदौरिया,

54 टिप्‍पणियां:

  1. हम दोनों ही पृथ्वी की नूतनता और उर्वरा....... सुंदर संवेदनशील प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. वृक्ष और कन्या को बहुत सुन्दर उपमाएं प्रदान की नूतनता और उर्वरा वाह ,बहुत सार्थक प्रस्तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  3. हमको मत काटो मारो,दिया इंसानों को मश्वरा ,
    हम दोनों है पृथ्वी की,"नूतनता" और "उर्वरा
    सम्वेदनहीन क्यूँ बनें
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह वाह क्या बात है, बहुत सुन्दर और सारगर्भित .

    उत्तर देंहटाएं
  5. संदेश देती एक सार्थक अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह....
    बहुत बढ़िया..
    सार्थक रचना.

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. पृथ्वी और कन्या ... या नारी ... सब एक ही तो हैं ...
    आदमी बस दोहन करता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुंदर बोध कराती कविता..

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर

    1. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
      आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
      आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (08-04-2013) के "http://charchamanch.blogspot.in/2013/04/1224.html"> पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
      सूचनार्थ...सादर!

      हटाएं
  9. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (08-04-2013)
    के "http://charchamanch.blogspot.in/2013/04/1224.html"> पर भी होगी! आपके अनमोल विचार दीजिये , मंच पर आपकी प्रतीक्षा है .
    सूचनार्थ...सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमको मत काटो मारो,दिया इंसानों को मश्वरा ,
    हम दोनों है पृथ्वी की,"नूतनता" और "उर्वरा !.........बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही मार्मिक और संवेदनशील रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ...बहुत सुन्दर प्रेरणाप्रद रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. झकझोर देने वाली सुन्दर रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. सटीक और मार्मिक संदेश

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  16. लाजवाब और संवेदनशील रचना | आभार

    उत्तर देंहटाएं
  17. दुनिया में हम दोनों को , ज़िंदा मारा जाता ,
    मुझे गर्भ के भीतर ,तुमको बाहर काटा जाता !

    बहुत बढ़िया ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  18. मार्मिक रचना.. सोचने को विवश करती रचना!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. लाजवाब और संवेदनशील रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. संवेदनशील रचना.. सार्थक प्रस्तुति,आभार

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह भाई जी कितनी सहजता से गहरी बात कही है
    सुंदर रचना
    बधाई





    उत्तर देंहटाएं
  22. जीवन को जब जीते जी मारने की रवायत बन जाए तो फिर समाज का पतन निश्चित है .....आपकी रचना में एक आशा की किरन भी है ......समाज अपनी भूल समय रहते सुधार ले यही दुआ है अब तो

    उत्तर देंहटाएं
  23. बेहद सार्थक सशक्त अंदाज़ एक तरफ पर्यावरण चेतना और दूसरी तरफ सामाजिक चेतना का आवाहन सुबुद्ध बनने का .

    ॐ शान्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर प्रस्तुति . सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  25. काश आपका यह मशवरा बहरे कानों और संवेदनहीन हो चुके आदमी के मानस पर कोई प्रभाव छोड़ सके ! बहुत ही अनमोल सन्देश देती एक सार्थक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  26. प्रेरक और सटीक रचना । बेटी को अब अन्दर से कम और बाहर से ज्यादा खतरा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. सुन्दर प्रस्तुति , सुन्दर रचना, सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत प्रेरणा से भरी रचना ..सादर

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सार्थक और प्रेरक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुन्दर सशक्त अभिव्यक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  31. प्यार मेरा---भावपूर्ण अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  32. सर्वोत्त्कृष्ट, अत्युत्तम लेख आभार
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र कुछ नया और रोचक पढने और जानने की इच्‍छा है तो इसे एक बार अवश्‍य देखें,
    लेख पसंद आने पर टिप्‍प्‍णी द्वारा अपनी बहुमूल्‍य राय से अवगत करायें, अनुसरण कर सहयोग भी प्रदान करें
    MY BIG GUIDE

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सही कहा है ...पर इंसान समझना ही नहीं चाहता

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सही और सार्थक रचना
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  35. नूतनता और उर्वरा दोनों का संचयन आवश्यक है. सार्थक संदेश.

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत कम शब्दों में अत्यंत गहन बात कह दी आपने ..बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  37. बेहद गहन एवं सशक्‍त भाव रचना के ...
    आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,