शुक्रवार, 3 मई 2013

दीदार होता है,

दीदार होता है,

शाम होते ही उनका इन्तजार होता है,
 प्यार में  नोक-झोक  तकरार होता है !

 
  नीचे  झुका लेते है ,हम अपनी नजरें,  
जब  उनसे   हमारा  दीदार  होता  है !

 अश्क  बहते  जब  उनकी  आँखों  से,  
आँखों  में  प्यार  का खुमार  होता है !

   थाम  लेते जब उन्हें  अपनी  बाहों में,   
  वो  नाजुक   पल   यादगार   होता  है !


धीर  को  जरूरत   नही   मांझी  की, 
प्यार  ही  जीने  का आधार  होता है !

dheerendra,dheer,

54 टिप्‍पणियां:

  1. प्यार में सब कुछ बेशुमार होता है .....धीर साहब ..

    उत्तर देंहटाएं
  2. प्यार में बहुत कुछ होता है,बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  3. प्यार का दायरा असीम है ,बहुत कुछ होता है ,बहुत सुन्दर रचना
    ateast post मैं कौन हूँ ?
    latest post परम्परा

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सही, जब प्यार (परमात्मा) का आसरा हो तो माझी की कहां जरूरत होगी.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  5. ढलती उम्र का प्यार लाजबाब होता है .......................

    उत्तर देंहटाएं
  6. प्यार ही जीने का आधार होता है ..........सही कहा है !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. धीर को जरूरत नही मांझी की,
    प्यार ही जीने का आधार होता है !
    सही कहा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुंदर प्रस्तुति....!! मेरे पोस्ट 'ओ बसंती हवा' पर पधारे.

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत ही सुन्दर भावों का सम्प्रेषण

    उत्तर देंहटाएं
  10. शाम होते ही इन्तजार उनका होता है,
    प्यार में नोक-झोक तकरार होता है bahut badhiya ....

    उत्तर देंहटाएं
  11. धीर को जरूरत नही मांझी की,
    प्यार ही जीने का आधार होता है !
    ....सुन्दर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  12. जीवन के इसी आधार की तो हमेशा हर किसी को जरुरत रहती है

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  14. अच्छा आधार है, सुंदर प्रतिक्रिया

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह.......
    बहुत सुन्दर ग़ज़ल......

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  16. भूल जी धीर वो समय सुहाना व्,पुराना
    अब तो सिर्फ प्यार का व्योपार होता है .....

    उत्तर देंहटाएं
  17. थाम लेते जब उन्हें अपनी बाहों में,
    वो नाजुक पल यादगार होता है !-----
    वाह प्यार का सुंदर अहसास
    बधाई


    उत्तर देंहटाएं
  18. थाम लेते जब उन्हें अपनी बाहों में,
    वो नाजुक पल यादगार होता है !
    .............बहुत सुन्दर ग़ज़ल
    मेरी हौसला अफज़ाई के लिए आप सभी का बहुत-बहुत शुक्रिया....!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. धीर को जरूरत नही मांझी की,
    प्यार ही जीने का आधार होता है !
    बहुत ही खूबसूरत अभिव्यक्ति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत भाव पूर्ण रचना है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं

  21. धीर को जरूरत नही मांझी की,
    प्यार ही जीने का आधार होता है !

    हाँ सर्व आत्माओं के प्रति प्यार ,खुद को भी प्यार से भर देता है ,यार में खुदा का दीदार होता है .

    उत्तर देंहटाएं
  22. भाव पूर्ण सुन्दर रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  23. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (05-05-2013) के चर्चा मंच 1235 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चामंच में मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार,,,,अरुन जी,,,

      हटाएं
  24. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत सही कहा आपने ...प्यार ही जीने का आधार होता है..

    उत्तर देंहटाएं
  26. शानदार गज़ल.प्यार है तो सब कुछ है.
    शाम होते ही इन्तजार उनका होता है,
    शायद आप "शाम होते ही उनका इन्तजार होता है" लिखना चाह रहे थे.

    उत्तर देंहटाएं
  27. थाम लेते जब उन्हें अपनी बाहों में,
    वो नाजुक पल यादगार होता है .....बहुत सुन्दर..

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुन्दर कोमल और सशक्त भाव ....
    बहुत सुन्दर गज़ल ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. अश्क बहते जब उनकी आँखों से,
    आँखों में प्यार का खुमार होता है !

    प्यार का खुमार कभी ना उतरे.
    सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  30. अश्क बहते जब उनकी आँखों से,
    आँखों में प्यार का खुमार होता है !

    वाह , बहुत खूबसूरत गजल

    उत्तर देंहटाएं
  31. वाह! अत सुन्दर.. बहुत रूमानी.

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत खूब जनाब | सादर

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  33. jo nihswarth ho vahi pyar hota hai jeevan ka aadhar.maa ka pyar jo nihsvarth hota hai usise jindagi milati hai sab ko manav kya pashu pakshiyo ko bhi.

    उत्तर देंहटाएं
  34. नीचे झुका लेते है ,हम अपनी नजरें,
    जब उनसे हमारा दीदार होता है ..

    वह .. क्या कहने उनकी नज़रों की ताब के ...
    लाजवाब गज़ल है और हर शेर कमाल का है ...

    उत्तर देंहटाएं
  35. धीर को जरूरत नही मांझी की,
    प्यार ही जीने का आधार होता है !

    उत्तर देंहटाएं
  36. धीर को जरूरत नही मांझी की,
    प्यार ही जीने का आधार होता है !..सच प्यार बिना सब बेकार है ..

    उत्तर देंहटाएं
  37. मुझे आप को सुचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि
    आप की ये रचना 10-05-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल
    पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ।
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाना।

    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,