शुक्रवार, 26 अप्रैल 2013

तुम्हारा चेहरा ,



तुम्हारा चेहरा 

    चाँद से भी खूबसूरत है तुम्हारा चेहरा      
हमने सौ बार निगाहों में उतारा चेहरा,

सबकी नजरों से महफिल में बचाकर नजरें
चुपके - चुपके से हर नजर ने निहारा चेहरा,

देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
आपने आईने  में जिस वक्त संवारा चेहरा,

तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी मुझे याद नही 
मेरी  नजरो  को नहीं  दूजा  गवांरा चेहरा,

फिर किसी  को देखने की  तमन्ना न होगी 
इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,


DHEERENDRA,”dheer”


54 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 27/04/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. नई पुरानी हलचल में मेरी रचना को शामिल करने के लिए शुक्रिया,यशोदा जी,,,

      हटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (27-04-2013) कभी जो रोटी साझा किया करते थे में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. चर्चामंच में मेरी रचना को शामिल करने के लिए आभार,शास्त्री जी,,,

      हटाएं
  3. फिर किसी को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,
    ...... ये पोस्ट भी बेह्तरीन है
    कुछ लाइने दिल के बडे करीब से गुज़र गई....

    उत्तर देंहटाएं
  4. चाँद से भी खूबसूरत है चेहरा,बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. फिर किसी को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,

    के लिए बधाई . प्रणाम सहित सुप्रभात ...

    उत्तर देंहटाएं
  6. चाँद से भी खूबसूरत तुम्हारा चेहरा
    हमने सौ बार निगाहों में उतारा चेहरा ................सर ....बहुत ही सुंदर ,उम्दा ।

    उत्तर देंहटाएं
  7. तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी मुझे याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवांरा चेहरा,

    वाह !!!!! आदरणीय धीरेंद्र जी खूबसूरत चेहरे की तरह ही खूबसूरत गज़ल....

    उत्तर देंहटाएं
  8. चेहरे पर सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं

  9. नूर उसका है चांदनी भी उसकी देखा जिसने भी चेहरा तेरा ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,……………बहुत ही प्यारी गज़ल दिल को छू गयी

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर....
    चेहरा भी..ग़ज़ल भी :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह बहुत खूब ....नजाकत के साथ गज़ल :)

    उत्तर देंहटाएं
  13. फिर किसी को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा
    बहुत सुन्दर....
    चेहरा भी..ग़ज़ल भी
    सादर !!

    उत्तर देंहटाएं
  14. तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी मुझे याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवांरा चेहरा,

    ...वाह! बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  15. are waaaaaaaah waaaaaah kya bat hai bhot khub
    or tisra sher to kya khoo.................bhot khub bhot khub

    उत्तर देंहटाएं
  16. देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,

    बहुत सुंदर !!

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूबसूरत अभिव्यक्ति ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  18. सबकी नजरों से महफिल में बचाकर नजरें
    चुपके - चुपके से हर नजर ने निहारा चेहरा,-----
    रोमानी अंदाज की सुंदर गजल
    बेहतरीन प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर..खूबसूरत अभिव्यक्ति ..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत खूब हुज़ूर

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  21. खूबसूरती को बड़े सुन्दर शब्दों में समेटा है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  22. जब शक्ल में रब दिख जाये तो फ़िर किसी ओर का चेहरा देखना किसे गवारा होगा? बहुत ही सुंदर.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति आदरणीय हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  24. फिर किसी को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,

    बहुत बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  25. बेहतरीन अभिव्यक्ति , बहुत ही सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  26. फिर किसी को देखने की तमन्ना न होगी
    इक नजर देख लिया जिसने तुम्हारा चेहरा,

    बेहतरीन अहसास और सुंदर शब्द में अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  27. तेरे चेहरे के सिवा कुछ भी मुझे याद नही
    मेरी नजरो को नहीं दूजा गवांरा चेहरा,..

    प्रेम हो दिल मिएँ तो ऐसा होता है ... कुछ ओर दिखाई भी नहीं देता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,
    क्या खूब बहुत सुन्दर।।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  30. देखकर आपको कुछ वो भी तो हैरान होगा
    आपने आईने में जिस वक्त संवारा चेहरा,

    क्या खुबसूरत पंक्तियाँ हैं .....
    साभार!

    उत्तर देंहटाएं
  31. चाँद से भी खूबसूरत तुम्हारा चेहरा
    हमने सौ बार निगाहों में उतारा चेहरा =बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत खूबसूरत है तुम्‍हारा चेहरा...वाह

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत बढ़िया कविता लिखी आपने...सुन्दर !

    सफ़र हैं सुहाना
    www.safarhainsuhana.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  34. तस्‍वीर एवं प्रस्‍तुति लाजवाब ....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,