मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

होली की हुडदंग कमेंट्स के संग


  1. प्रथम कुण्डलिया शालिनी रस्तोगी  जी,, को  छ्न्द  समर्पित.......

    वृन्दावन के दृश्य का, सुंदर हुआ बखान
    बच-बच भागें गोपियाँ, भीग रहे परिधान
    भीग रहे परिधान , रंग कान्हा ने डाला
    धूम मची हर ओर , ढीठ है मुरली वाला
    होली का त्यौहार,लगे सबको मन-भावन
    प्रेम रंग में डूब , गया सारा वृन्दावन ||


  2. आदरणीय कालीपद "प्रसाद" जी की रचना को समर्पित....

    लड्डू हल्वा बर्फियाँ , ठंडाई और भांग
    होली के त्यौहार में, भाँति-भाँति के स्वांग
    भाँति-भाँति के स्वांग , सूरतें गोरी- काली
    आँख तरेरे कहीं , देखती है घरवाली
    साली भी है मस्त, देख जीजा का जल्वा
    मतवाले पी भाँग , माँगते लड्डू – हल्वा ||

  3. आदरणीय रविकर जी के अद्भुत सवैया छंदों को समर्पित...

    होली के त्यौहार पर , रचे सवैया-छंद
    शब्द चयन अद्भुत अहा, भाव भरे आनंद
    भाव भरे आनंद , रंग बरसायें अक्षर
    छुपे कहाँ हैं आज , सामने आयें रविकर
    खेलें रंग—गुलाल , गटकें भांग की गोली
    भूलें सब परहेज , मस्त हों खेलें होली ||


  4. आदरेया डॉ. निशा महाराणा जी की उत्कृष्ट रचना को सादर समर्पित....

    नौकरिया सौतन भई , होली है बेरंग
    कोयलिया क्यों कूक कर,करती मुझको तंग
    करती मुझको तंग, न भाये टेसू मन को
    नैना नीर बहाय ,तरसते पिय दरसन को
    जियरा जर-जर जाय , बसे परदेस सँवरिया
    होली है बेरंग , भई सौतन नौकरिया ||


  5. आदरणीय मदन मोहन सक्सेना जी की रचना को सादर समर्पित.......

    फागुन गुमसुम गुम हुआ, तुम बिन सब बेनूर
    होली का त्यौहार है , छोड़ो आज गुरूर
    छोड़ो आज गुरूर , झूम कर खेलें होली
    प्रेम - रंग में डूब , करें हम हँसी – ठिठोली
    जीवन आज सजायँ , फूल चाहत के चुन-चुन
    सिखलाने को प्यार , महीना आया फागुन ||

  6. परम आदरणीय श्री अरुन  शर्मा अनंत को सादर समर्पित.....

    बीबी बैठी मायके , गुझिया ना दे स्वाद
    भंग गटकता रात-दिन, हो कर के आजाद
    हो कर के आजाद , मनाता जी भर होली
    मचा रहा हुड़दंग , लिये मित्रों की टोली
    बड़े दिनों के बाद , मिले सब यार करीबी
    किस्मत की है बात , मायके बैठी बीबी ||
  7. श्री अरुण निगम जी रचना पर सादर समर्पित,,,,

    बीबी बैठी माइके ,होरी नही सुहाय
    सजनी मोरे घर नही,रंग न मोको भाय
    रंग न मोको भाय रूठ मइके में बैठी
    होली में दिलवाव ,नहि तो रहेगी ऐठी
    अरूण अब ले आव,बड़ी एल.ई.डी.टीबी
    घर लौट आ जाये ,गई जो मइके बीबी,,,,



     लिंक

    प्रस्तुतकर्ता  -  धीरेन्द्र सिंह भदौरिया,

50 टिप्‍पणियां:

  1. Holi ke baad Holi ka ye rasaswadan......mazedaar laga!! behtareen rachnayen.

    उत्तर देंहटाएं
  2. रचना पर रचना रूप में धन्यवाद कहने का यह अंदाज़ भी बहुत अच्छा लगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. अरुण कुमार निगम जी! और धीरेन्द्र सिंह भदौरिया जी! -जोड़ी सलामत रहे और हम सबको कुंडलियों का प्रसाद मिलता रहे -आभार

    उत्तर देंहटाएं
  4. होली धमाल पर बहुत ही बेहतरीन कुंडलियाँ,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  5. DEAR SIR,

    I NEED YOUR SUPPORT,SUJJETIONS & MARKS TO MAKE MY ALL BLOGS MORE USEFULL FOR PEOPLE..

    I AM DOING ALL THIS WORK TILL LAST 8 YEARS WITHOUT ANY HELP IN BLOGING..

    NOW I WANT TO MAKE THEM MORE USEFULL FOR POOR,PUZZELD, PEOPLS...

    I HAVE DONET 42 TIME MY BLOOD "A+" GROUP...I

    AM ALSO OPERTING A SCHOOL IN VRUNDAVAN,NEAR MATHURA(U.P.) WHERE MORE THEN 322 CHILDREN TAKING EDUCATION FREE OF COST WITH FREE FOOD,BOOKS & LODGING..

    I HOPE A POSITE & HELP REPLY BY YOU...

    THANKING YOU....
    YOUR'S
    PANDIT DAYANAND SHASTRI

    Thank you very much .
    पंडित दयानन्द शास्त्री
    Mob.--
    ---09024390067(RAJASTHAN);;
    ----vastushastri08@gmail.com;
    ----vastushastri08@rediffmail.com;
    ----vastushastri08@hotmail.com;
    My Blogs ----
    ----1.- http://vinayakvaastutimes.blogspot.in/?m=1/;;;;
    --- 2.- https://vinayakvaastutimes.wordpress.com/?m=1//;;;
    --- 3.- http://vaastupragya.blogspot.in/?m=1...;;;
    ---4.-http://jyoteeshpragya.blogspot.in/?m=1...;;;
    ---5.- http://bhavishykathan.blogspot.in/ /?m=1...;;;
    प्रिय मित्रो. आप सभी मेरे ब्लोग्स पर जाकर/ फोलो करके - शेयर करके - जानकारी प्राप्त कर सकते हे---- नए लेख आदि भी पढ़ सकते हे..... धन्यवाद...प्रतीक्षारत....

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह वाह , एक से बढ़कर एक।
    सभी मस्त !

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही बेहतरीन कुंडलियाँ,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    इंजीनियर प्रदीप कुमार साहनी अभी कुछ दिनों के लिए व्यस्त है। इसलिए आज मेरी पसंद के लिंकों में आपका लिंक भी चर्चा मंच पर सम्मिलित किया जा रहा है और आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल बुधवार (03-04-2013) के “शून्य में संसार है” (चर्चा मंच-1203) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...सादर..!

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बहुत धन्यवाद अरुण कुमार निगम जी ... आपकी टिप्पणी मेरे लिए बहुत महत्त्वपूर्ण है ..
    साभार
    शालिनी

    उत्तर देंहटाएं
  10. अरूण अब ले आव,बड़ी एल.ई.डी.टीबी
    घर लौट आ जाये ,गई जो मइके बीबी,,,,waah holi ho to is tarah
    bahut khub bhai ji

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. एक चले रीमोट से , एक धरे रीमोट
      पीर वही समझे यहाँ,जिसने खाई चोट ||

      आभार ..........

      हटाएं
  11. अरूण अब ले आव,बड़ी एल.ई.डी.टीबी
    घर लौट आ जाये ,गई जो मइके बीबी,,,,waah holi ho to is tarah
    bahut khub bhai ji

    उत्तर देंहटाएं
  12. उत्तर
    1. सर ! प्राइज़ से कम नहीं, सरप्राइज़-सी टीप
      हाय गज़ब !मोती भरी , यह नन्हीं-सी सीप ||

      आभार आदरणीय रविकर जी, आपका अवकाश से लौट आना हमें खुशियों की सौगात दे गया...

      हटाएं
  13. बहुत अच्छा लगा ये अंदाज ..........

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह .. ये तो सोने पे सुहागा वाली बात हो गई ...
    लाजवाब भई जी बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. रंगारंग प्रस्तुति...बेहद खूबसूरत!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. वाह! आपने तो सबके रंग में खुद को रंग डाला... :-)
    बहुत सुंदर!
    धीरेन्द्र जी की रचना भी बहुत बढ़िया!
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  17. वृन्दावन के दृश्य का, सुंदर हुआ बखान
    बच-बच भागें गोपियाँ, भीग रहे परिधान
    भीग रहे परिधान , रंग कान्हा ने डाला
    धूम मची हर ओर , ढीठ है मुरली वाला
    होली का त्यौहार,लगे सबको मन-भावन
    प्रेम रंग में डूब , गया सारा वृन्दावन ||

    बहुत खूब लिखा है अरुण भाई निगम जी ने .

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन कुंडलियाँ आभार.... निगम जी

    उत्तर देंहटाएं
  19. सार्थक प्रस्तुति होली पर |होली की शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही सुन्दर एवं सार्थक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  21. भाई वाह !! मजा आ गया होली के हुडदंग का..अब गुझिया भी मिल जाये तो फिर वह वाह वाह हो जाय !!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. अरुण जी के सभी छंद व् आपका छंद सभी बेहतरीन शानदार प्रस्तुति बधाई|

    उत्तर देंहटाएं
  23. आदरणीय गुरुदेव श्री अरुण सर जी सादर प्रणाम आपकी जितनी प्रशंसा की जाए कम है आपके द्वारा रचित और हम सभी को समर्पित यह सुन्दर कुंडलिया ह्रदय को प्रेम से तर कर गए, आपका यह प्रेम समर्पण भाव आपके उदार ह्रदय को व्यक्त करता है, आपको नतमस्तक प्रणाम सादर स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  24. आप सभी लोगों का बहुत२ आभार,,,शुक्रिया,,,,

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,