शुक्रवार, 5 अप्रैल 2013

जुल्म

जुल्म

प्यार करने वालो पर जुल्म बहुत पुराना है,
चोट दिल पर लगती मुस्कराता जमाना है!
 
फैसला है दिल  का उसको कर दिखाना है,
झील सी इन आँखों में हमको डूब जाना है!

बे -सबब नही रुख पर जुल्फ के घने साए,
फूलसे नाजुक चेहरे को धूप से बचाना है!

चाहे राह भटका कर चाहे लूट लो लेकिन,
एक दिन तुम्हे अपना हमसफ़र बनाना है!

चाहे ठुकरा दो मुझको चाहो तो अपना लो,
 धीर,धीरज रखे है ,फैसला अब बताना  है! 


dheerendra,"dheer" 

56 टिप्‍पणियां:

  1. चाहे ठुकरा दो मुझको चाहो तो अपना लो,
    धीर,धीरज रखे है ,फैसला अब तुम्हारा है!-बहुत खुबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  2. सारे ज़ुल्मों सितम कबूल....
    मोहब्बत जो है!!

    बढ़िया ग़ज़ल...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. मुहब्बत ही ना जो समझे ......बहुत बढ़िया जी

    उत्तर देंहटाएं
  4. bahut namkeen si gazal likhi hai aapne, achchhi lagi, khhaskar zulfon k chehre pe aa girne ke pichhe chhipe kaaran ko jankar achchha laga!

    उत्तर देंहटाएं
  5. बे -सबब नही रुख पर जुल्फ के घने साए,
    फूलसे नाजुक चेहरे को धूप से बचाना है!
    क्या बात है .....खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही बेहतरीन ग़ज़ल की प्रस्तुति.

    आँधी आयी गुलशन उजड़ा पत्तों की औकात है क्या,
    जिसपे तेरे तिनके थे वो शाख बेचारी टूट गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति !!
    सादर !!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बे -सबब नही रुख पर जुल्फ के घने साए,
    फूलसे नाजुक चेहरे को धूप से बचाना है!

    क्या बात.......वाह ...बहुत खुबसूरत।

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्यार करने वालो पर जुल्म बहुत पुराना है,
    चोट दिल पर लगती मुस्कराता जमाना है.....बहुत खुबसूरत.

    उत्तर देंहटाएं
  10. mohabbt zulm ke saye me hai,purani kahani hai,ye bat aaj duniya ko has has ke batani hai,sundar dastane mohabbt

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही सुन्दर अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. वाह,नाम ही धीरेन्द्र है -आपमें धीरज की कमी कहाँ!

    उत्तर देंहटाएं
  14. प्यार करने वालो पर जुल्म बहुत पुराना है,
    चोट दिल पर लगती मुस्कराता जमाना है!

    बहुत सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज रविवार (07-04-2013) के चर्चा मंच 1207 पर लिंक की गई है कृपया पधारें. सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्यार करने वालो पर जुल्म बहुत पुराना है,
    चोट दिल पर लगती मुस्कराता जमाना है!
    sahi hai ...

    उत्तर देंहटाएं

  17. बढ़िया गजल कहना सीख गए हैं धीर साहब अर्थ और भाव की सुन्दर व्यंजना .

    उत्तर देंहटाएं
  18. फैसला है दिल का उसको कर दिखाना है,
    झील सी इन आँखों में हमको डूब जाना है!..

    बस यही तो जीवन है ... झील सी आँखों मिएँ डूब जाना ... हमेशा के लिए ..

    उत्तर देंहटाएं
  19. बे -सबब नही रुख पर जुल्फ के घने साए,
    फूलसे नाजुक चेहरे को धूप से बचाना है!... बढ़िया गज़ल ... बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह बहुत सुंदर गजल
    प्रेम का महीन अहसास
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  21. हरेक शेर बहुत ही उम्दा है .....बहुत-बहुत बढिया ग़ज़ल है ...वाह जी वाह

    उत्तर देंहटाएं
  22. चाहे राह भटका कर चाहे लूट लो लेकिन,
    एक दिन तुम्हे अपना हमसफ़र बनाना है!

    -बहुत बढिया ग़ज़ल है

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुन्दर प्रस्तुति -
    आभार आदरणीय-

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही उम्दा है .....बहुत-बहुत बढिया ग़ज़ल......

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुंदर एवं भावपूर्ण रचना...

    आप की ये रचना 12-04-2013 यानी आने वाले शुकरवार की नई पुरानी हलचल
    पर लिंक की जा रही है। सूचनार्थ।
    आप भी इस हलचल में शामिल होकर इस की शोभा बढ़ाना।

    मिलते हैं फिर शुकरवार को आप की इस रचना के साथ।

    उत्तर देंहटाएं
  26. फैसला है दिल का उसको कर दिखाना है,
    झील सी इन आँखों में हमको डूब जाना है!


    उम्दा ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,