गुरुवार, 26 जुलाई 2012

इन्तजार,,,

इन्तजार,,,

शाम ढलने तक, मैंने इन्तजार किया,
वर्ष बदलने तक मैंने इन्तजार किया !

मेरे लफ्ज तुमसे, कुछ कहना चाहते थे,
तेरे गुनगुनाने तक मैंने इन्तजार किया !

बेवफाई बह रही थी, मेरे अश्क-ऐ-समंदर में,
फिर भी मयखाने तक मैंने इन्तजार किया !

करवटे बदलता रहा, रात भर आहों में,
नींद के आने तक मैंने इन्तजार किया !

नम हो गया था, तकिया दोनों तरफ से,
सूरज के निकलने तक मैंने इन्तजार किया !

दिन निकला नही, पर साल बदल गया,
तेरे जाग जाने तक मैंने इन्तजार किया !

साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

dheerendra bhadauriya,

54 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत प्यारी गज़ल धीरेन्द्र जी.
    सुन्दर एहसास...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  2. साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    बहुत सुन्दर गज़ल धीरेन्द्र जी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    अच्छी प्रस्तुति !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. दिन निकला नही, पर साल बदल गया,
    तेरे जाग जाने तक मैंने इन्तजार किया !

    साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    धीरेन्द्र जी ये इंतजारी और बे -करारी बढ़िया है बहुत अच्छी प्रस्तुति है .बस ज़रा अनुनासिक का ध्यान रखें -"नही "को भाई साहब सब जगह "नहीं "कर लें.बड़ी मेहरबानी आपकी होगी. कर्मे इनायत भी हुज़ूर .

    उत्तर देंहटाएं
  5. करवटे बदलता रहा, रात भर आहों में,
    नींद के आने तक मैंने इन्तजार किया !

    बहुत बढ़िया ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. "साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    बहुत सुन्दर रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  7. मेरे लफ्ज तुमसे, कुछ कहना चाहते थे,
    तेरे गुनगुनाने तक मैंने इन्तजार किया !... इन्तहां हो गई इंतज़ार की

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय धीरेन्द्र जी बहुत ही उम्दा ग़ज़ल, बहुत-२ बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !
    आदरणीय धीरेन्द्र जी प्यारी गजल ..सच्चा प्यार होता ही है ऐसा ..सब कुछ जान जाने के बाद भी ...लुटने लुटाने के बाद भी प्रेम बरसता रहता है ..जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुंदर गजल ....बहुत बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं
  11. जो प्यार नजरें बदलने के बाद भी बच जाये वह नजरों को पुनः बदल सकता है..सुंदर रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  12. मेरे लफ्ज तुमसे, कुछ कहना चाहते थे,
    तेरे गुनगुनाने तक मैंने इन्तजार किया...
    बहुत बढ़िया धीरेन्द्र जी.

    उत्तर देंहटाएं
  13. साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    बहुत सुन्दर उम्दा ग़ज़ल......... धीरेन्द्र जी

    उत्तर देंहटाएं
  14. waah bahut hi sundar gajal rahi intjaar bahut khoob likha blog par vapsi aur uttam rachnaye padhne me aanand aa gaya .

    उत्तर देंहटाएं
  15. साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    बहुत खूब !

    इंतजार कर रहे थे तब से अब तक
    बेवफाई देखते ही बदल गये
    इंतजार किया किया कहते कहते
    फिर प्यार किया की करवट कर गये !

    उत्तर देंहटाएं
  16. प्यार से प्यारी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  17. दिन निकला नही, पर साल बदल गया,
    तेरे जाग जाने तक मैंने इन्तजार किया !

    बहुत खूब ...
    सुंदर ..

    उत्तर देंहटाएं
  18. साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    kash vo is intzar ko izhaar me badal dete.
    sundar prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  19. तमाम उम्र तेरा इंतज़ार हमने किया.
    इस इंतज़ार में, उम्र को तमाम हमने किया .... इंतज़ार की बेकरारी को शिद्दत से प्रस्तुत करती रचना.... बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  20. दिन निकला नही, पर साल बदल गया,
    तेरे जाग जाने तक मैंने इन्तजार किया !
    मोहब्बत के नाम यह खूबसूरत नज्म पसन्द आयी। ग़ालिब का यह शेर खुद-ब-खुद लबों पर आ गया;
    "हम तेरा इन्तेजार करेंगे क़यामत तक
    खुदा करे ..........!"
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  21. नम हो गया था, तकिया दोनों तरफ से,
    सूरज के निकलने तक मैंने इन्तजार किया !

    ....बहुत खूब! बेहतरीन प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  22. कवी महाशय ,आप तो उर्दू नज़म भी बहुत बेहतरीन लिखते हैं.सभी की पसंद से मिलती जुलती यही लाइने मुझे भी बहुत पसंद आई.
    साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !



    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    उत्तर देंहटाएं
  23. शाम ढलने तक, मैंने इन्तजार किया,
    वर्ष बदलने तक मैंने इन्तजार किया !

    मेरे लफ्ज तुमसे, कुछ कहना चाहते थे,
    तेरे गुनगुनाने तक मैंने इन्तजार किया !

    सुंदर गज़ल. बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  24. साल बदलने से, तेरी बेवफाई नही बदली,
    तेरी नजरें बदलने तक मैंने प्यार किया !

    वाह, बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  25. कमाल लिखते हैं आप..आपका कोई सानी नहीं है..

    उत्तर देंहटाएं
  26. दिन निकला नही, पर साल बदल गया,
    तेरे जाग जाने तक मैंने इन्तजार किया !
    सुंदर गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  27. दिन निकला नहीं , पर साल बदल गया ,

    तेरे जाग जाने तक मैंने इंतजार किया ।

    बहुत ही उम्दा सर । मैंने अपने दोनों हाथ अपने गाल पर रख दिए ।

    अब इससे ज्यादा नहीं बयां कर सकता ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. करवटे बदलता रहा, रात भर आहों में,
    नींद के आने तक मैंने इन्तजार किया !

    वाह,वाह..बहुत खूब । मेरे नए पोस्ट पर आपका हार्दिक अभिनंदन है।

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत सुन्दर और सार्थक सृजन , बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति.... इंतज़ार की बहुत खूब व्यख्या करती हुई रचना....
    धन्यवाद.. इस सुन्दर रचना के लिए....
    मेरी नयी पोस्ट:- जानिए पिक्सल क्या होता है?

    उत्तर देंहटाएं
  31. behtreen likha hai sir...subah hone tak maine intezaar kiya

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत सुन्दर और लयबद्ध रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  33. दिन निकला नही, पर साल बदल गया,
    तेरे जाग जाने तक मैंने इन्तजार किया !

    बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आपका हार्दिक अभिनंदन है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  34. इंतज़ार की बेकरारी को बहुत सुन्दर शब्द दिए है... बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  35. कहते हैं इंतज़ार का फल मीठा होता है।

    उत्तर देंहटाएं
  36. है कौन ऐसा कमबख़्त,जिसने किया परेशां
    हद कर दी आपने भी,कि इंतज़ार किया!!

    उत्तर देंहटाएं
  37. ई ससुरा इन्तजार बड़ी बेकार चीज़ है ............सबको करना पड़ता है ! मगर इन्तजार में कविता बड़ी शानदार लिखी गयी है . सादर बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत सुन्दर इन्तजार और तड़प ...!
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  39. आपकी रचनाएँ बहुत पसंद आयी

    ---शायद आपको पसंद आये---
    1. Google Page Rank Update
    2. ग़ज़लों के खिलते गुलाब

    आपके ब्लॉग से CRTL+A करके सब स्लेक्ट और CRTL+C से कापी हो जाता है कृप्या तकनीक दृष्टा पर दी गयी नयी विधि प्रयोग करें।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,