शनिवार, 21 जुलाई 2012

आदर्शवादी नेता,



मै भी देश का बन्दा हूँ

मै आदर्शवाद का झंडा हूँ,

हर साल इसे रंग लेता हूँ

इसलिए अभी तक नेता हूँ

कुछ कुछ मै सबको देता हूँ

आखिर मै भी जन नेता हूँ

वादों से जन का पेट चले

हर पाँच साल में वोट मिले

कुर्सी में बैठ कर मुझको

स्वर्गासन सा आनंद मिले

पोशाक मेरे स्वेताम्बर है

छीटे पड़ना स्वाभाविक है

माहौल बनाने के खातिर

मै पुनः साफ़ कर लेता हूँ

स्वाभाविक मधु मुस्कान लिए,

कितनो का मत हर लेता हूँ

बस हल्की नील चढाकर के,

मै कुर्सी को पा लेता हूँ

तू खाना खा कर जीवित है

मै जनमत खाकर ज़िंदा हूँ

मै भी देश का बन्दा हूँ,

मै आदर्शवाद का झंडा हूँ,

dheerendra,bhadauriya

53 टिप्‍पणियां:

  1. हा हा हा ! बहुत बढ़िया .

    मैं देता नहीं ,
    बस लेता हूँ
    हाँ हाँ , मैं नेता हूँ !

    उत्तर देंहटाएं
  2. मै भी देश का बन्दा हूँ
    मै आदर्शवाद का झंडा हूँ,
    हर साल इसे रंग लेता हूँ
    इसलिए अभी तक नेता हूँ

    आज एक नया रंग भर दिया आपने इस कविता में. दर्द भी है कटाक्ष भी.

    बहुत सुंदर और सार्थक प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत बढ़िया धीरेन्द्र जी ।।

    सादर -



    मत से है पूरा प्यार सखे ।

    मत करना तुम खिलवाड़ सखे ।

    तुम दान करो तन मन धन मत -

    ताकि हम सकें दहाड़ सखे ।

    स्वार्थ सिद्ध जब न होवे,

    सत्ता को चले उखाड़ सखे ।

    निस्वार्थ भाव से कर्म करो-

    कलुषित भाव मत ताड़ सखे ।।

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर व्यंग्य भरी रचना बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बहुत बधाई कवी महोदय ,बहुत ही सुन्दर व्यंग्यात्मक रचना लिखी है.
    खास कर ये लाइने पढ़ कर बड़ा आनंद आया ''हर पाँच साल में वोट मिले
    कुर्सी में बैठ कर मुझको ,स्वर्गासन सा आनंद मिले.



    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत लाजवाब व्यंग्य रचना..
    बेहतरीन:-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत लाजवाब सटीक व्यंग्य...

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर पंक्तियां ...

    उत्तर देंहटाएं
  9. मैं नेता हूँ !
    मैं नेता हूँ !
    बहुत बढ़िया,सटीक व्यंग्य...

    उत्तर देंहटाएं
  10. नेताओं पर सटीक व्यंग्य. बहुत सुन्दर ! .. वैसे नेता लोग मोटी चमड़ी के होते हैं. गैंडे की खाल से भी मोटी. इसमें कुछ गड़ जाय तो.......

    उत्तर देंहटाएं
  11. लाजवाब व्यंग्य रचना...बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत बढ़िया....करारी रचना...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  13. तू खाना खा कर जीवित है

    मै जनमत खाकर ज़िंदा हूँ

    मै भी देश का बन्दा हूँ,
    व्यंग्य व्यंजना बढ़िया है .

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर और सच्चा तीखा व्यंग ....

    उत्तर देंहटाएं
  15. सीधे साफ़ शब्दों में बहुत बड़ी बात कही आपने ! सशक्त अभिव्यक्ति !
    सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. नेताओं पर गहन कटाक्ष .... सटीक और खरी बात

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह SIR बेहद खुबसूरत रचना बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  18. पोशाक मेरे स्वेताम्बर है

    छीटे पड़ना स्वाभाविक है

    माहौल बनाने के खातिर

    मै पुनः साफ़ कर लेता हूँ

    .....आज के नेताओं पर सटीक कटाक्ष...

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत अच्छी जानकारी.हमेशा की तरह अच्छी पोस्ट की है आपने.

    उत्तर देंहटाएं
  20. धीरेंद्र जी नमस्कार...
    आपके ब्लॉग 'काव्यंजलि' से कविता भास्कर भूमि में प्रकाशित किए जा रहे है। आज 24 जुलाई को 'आदर्श वादी नेता' शीर्षक के कविता को प्रकाशित किया गया है। इसे पढऩे के लिए bhaskarbhumi.com में जाकर ई पेपर में पेज नं. 8 ब्लॉगरी में देख सकते है।
    धन्यवाद
    फीचर प्रभारी
    नीति श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत बढ़िया कटाक्ष. नेताओं की छवि और कुर्सी पानी की लालसा का सटीक चित्रण, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  22. राज नेताओं और राजनीति पर बहुत ही बढ़िया कटाक्ष एवं सटीक बात कहती बहुत ही बढ़िया व्यङ्गात्म्क प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  23. आदर्शवाद वो भी रंग में रंगा हुआ .....ये भी नेता जी को पता है की कौनसा रंग है इस पर .......बहुत अच्छी रचना

    उत्तर देंहटाएं
  24. खूब शनिल में लपेटकर मारा है ...वाह करारा व्यंग !

    उत्तर देंहटाएं
  25. आज के माननीय नेतागण जनमत के साथ जनता को भी खाए जा रही है ....
    बहुत ही सुंदर व्यंग्य ..

    ब्लॉग पर आने के लिए शुक्रिया !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  26. बस हल्की नील चढाकर के,
    मै कुर्सी को पा लेता हूँ
    तू खाना खा कर जीवित है
    मै जनमत खाकर ज़िंदा हूँ,,,,,,

    बहुत लाजबाब व्यंग ,,,,

    उत्तर देंहटाएं
  27. कुर्सी में बैठ कर मुझको
    स्वर्गासन सा आनंद मिले
    पोशाक मेरे स्वेताम्बर है
    छीटे पड़ना स्वाभाविक है,,,,,

    sunder prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत खूब .... गहरा कटाक्ष है इन नेताओं पे ...
    पर इनकी मोटी चमड़ी पे असर नहीं होता ...

    उत्तर देंहटाएं
  29. बेहतर रचना आपने नेट से दूर रहने के कारण कमेन्‍ट मे देरी हूई है

    उत्तर देंहटाएं
  30. धीरेन्द्र जी, आप तो आदर्शवादी नेता के बहाने वर्तमान नेता के लिये नये आदर्शों के पैमाने गढ़ रहे हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  31. बस हल्की नील चढाकर के,

    मै कुर्सी को पा लेता हूँ

    तू खाना खा कर जीवित है

    मै जनमत खाकर ज़िंदा हूँ

    करारा प्रहार और व्यंग्य से उन्हें जगाती रचना

    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,