रविवार, 27 अप्रैल 2014

अनाडी बन के आता है

 
अनाडी बन के आता है
 
 अनाडी  बन के  आता है, खिलाड़ी  बन  के  जाता है 
  लगे  जो  दाग  दामन  में, उन्हें  सब  से  छुपाता  है,

अगर  इंसान  ये  होता , कभी  का  मर  गया  होता
  फकत दो वक्त की रोटी में,ये क्या-क्या मिलाता है,

मेरा  हमर्दद  बन  करके , मेरे  ही  आँख  का  आंसू
  चुरा   करके   उन्हें   बाजार  में , ये   बेच   आता  है,

कभी  उम्मीद  बन  जाता,कभी  संगीन  बन  जाता
  मेरी   ही  जेब  पर  हर  वक्त,  ये  पहरा  लगाता  है,

न  ये  जाने  न  मैं  जानूं , न  ये  माने  न  मैं  मानूं
  वही  किस्से  यहाँ  आकर,मुझे  हर  दिन  सुनाता है,

मैं अपनी  भूख  से  डरता  नहीं,बस  नींद  से  डरता
  मेरे  सपनों  में आ करके ,मेरी  कमियां  गिनाता है,

है  इसके  शब्द  में  जादू, ये  जादू  का  असर  यारा
  मेरे   ही   हाथ   से   ये  क़त्ल , मेरा   ही  कराता  है,

कहीं  पर आम  बन जाता, कहीं  पर ख़ास हो जाता
  सड़क  पर   हर   खड़ा   बंदा , इसे  नेता  बताता  है,

विक्रम सिंह ( केशवाही )शहडोल.म.प्र.
 

20 टिप्‍पणियां:

  1. Good Morning
    सच्ची बात की उम्दा अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी लिखी रचना मंगलवार 29 अप्रेल 2014 को लिंक की जाएगी...............
    http://nayi-purani-halchal.blogspot.in आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  3. सहमत ...
    रचना बहुतही सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  4. जाने कैसे नेता हैं ये ... पर अपने बाखूबी लिखा है इनको ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह क्या बात है ..बहुत सही लिखा..

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (29-04-2014) को "संघर्ष अब भी जारी" (चर्चा मंच-1597) पर भी होगी!
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  7. शब्द व्यंजना बहुत खूब । भावों से असहमत।

    उत्तर देंहटाएं
  8. कहीं पर आम बन जाता, कहीं पर ख़ास हो जाता
    सड़क पर हर खड़ा बंदा , इसे नेता बताता है,.. बहुत खूब!

    अभी तो आम का सीजन है कुछ दिन बाद खास वाले छा जायेगें .....

    उत्तर देंहटाएं
  9. मेरा हमर्दद बन करके , मेरे ही आँख का आंसू
    चुरा करके उन्हें बाजार में , ये बेच आता है,
    बहुत सही लिखा है ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर रचना
    जहाँ जाता है वहीँ किसी से गाल पर थप्पड़ खाता है
    बिन मांगे बिन बात के कांग्रेस का समर्थन पाता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  11. क्या खूब लिखा है आपने
    जी बाबरो हो गयो है

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,