बुधवार, 5 फ़रवरी 2014

बसंत ने अभी रूप संवारा नहीं है

बसंत ने अभी रूप संवारा नहीं है

कुहासों   ने   घूंघट  उतारा  नही  है,
अभी मेरे प्रियतम का इशारा नहीं है!

किरणों  का  रथ  लगता  थम गया,
सूरज  ने अभी  पूरब निहारा नही है!

चारो  दिशाओं  में धुंधलके  है  फैले,
 पूनम  के  चाँद  को  गंवारा नहीं  है! 

चाँदनी  रातें   फीकी  सी  लग   रही,
मेरे प्रियतम  ने दीप  उजारा नही है!

हेमन्त  जा   रहा  शिशिर  आ  रहा,
बसंत  ने  अभी रूप 
संवारा  नहीं है!

धीरेन्द्र सिंह भदौरिया,

44 टिप्‍पणियां:

  1. वाह !!
    बहुत ही सुंदर और प्यारी रचना ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. धुंधलके में आपका यह कवितागीत बहुत प्‍यारा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  3. "कुहासों ने घूंघटउतारा नही है" - वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
  4. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक कल चर्चा मंच पर है
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  5. बड़ी देर कर दी हुज़ूर आते-आते!! क्या चित्र खींचा है!! बस आ ही चला है बसंत!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. हेमन्त जा रहा शिशिर आ रहा,
    बसंत ने अभी रूप संवारा नहीं है......बहुत ही सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  7. वसंत हेमंत और शिशिर के बीच अटका है !
    सुन्दर वर्णन !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आ गया वसंत धीरेन्द्र जी...
    खिड़की से बाहर झांकिए तो सही :-)

    सुन्दर ग़ज़ल...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  9. खूबशूरत अहसास बहुत खूब ,सुन्दर अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर चित्रों और अनुपम शब्दों से सजा बसंत आया... सुंदर चित्रण ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुंदर और प्यारी रचना .....

    उत्तर देंहटाएं
  12. बसंत बस आने को ही है....शिशिर की विदाई है..सुंदर कविता आपकी बन आई है

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूब ...धरा वासन्ती रंग में रंगने लगी है... वसंतोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं..
    http://himkarshyam.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  15. बस अब घूँघट उठ ही रहा है । खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  16. बस अब घूँघट उठ ही रहा है । खूबसूरत रचना

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुंदर और प्यारी रचना.....वसंतोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  18. आपकी इस प्रस्तुति को आज की जन्म दिवस कवि प्रदीप और ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। कृपया एक बार आकर हमारा मान ज़रूर बढ़ाएं,,, सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बड़ी प्यारी और सशक्त रचना, वसंत की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत ही सुन्दर मनभावन कविता के लिए बधाईयाँ.........

    उत्तर देंहटाएं
  21. मन बसंतमय हो गया। मेरी नई कविता समय की भी उम्र होती है, पर आपका स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. मनमोहक रचना ...!!बहुत सुंदर ..

    उत्तर देंहटाएं
  23. बसंत का खूबसूरत शब्द-चित्र प्रस्तुत किया है आपने,बहुत ही सुंदर रचना ........

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर वर्णन किया है आपने वसंत ऋतू का

    उत्तर देंहटाएं
  25. वाह बहुत सुन्दर प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  26. हर शेवर बसंत की दस्तक देता ... प्रेम में सरोबर ..

    उत्तर देंहटाएं
  27. वाह !!
    बहुत ही सुंदर और प्यारी रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत सुंदर श्रेष्ठ रचना है !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,