रविवार, 15 दिसंबर 2013

एक बूँद ओस की.


















एक बूँद ओस की......


सुबह सुबह पत्तों पर दूर से,
कुछ चमकते देखा-?
ऐसे लगा जैसे
पत्तों में कोई मोती उग आया,
कौतूहल बस पास गया
मुझे लगा शायद ये पत्तों के आँसू है,
समझ के मेरी बातों को
वो मुझसे कुछ कहने लगी,
तम्हे भ्रम हुआ है |
न मै आँसू हूँ, न मै मोती
प्रकृति द्वारा बनाई गयी
मै तो एक बूँद ओस की,
आसमान से चलकर
आज ही जमी पर उतरी हूँ
कुछ पल मुझको जीना है-
कुछ पल में मिट जाऊगी,
लेकिन कुछ पल के लिए ही सही
अपनी पहचान दे जाऊगी,
मै एक छोटी सी बूंद हूँ
पर मेरा अपना अस्तित्व है
तुम एक इंसान हो-
जीवन में क्या
तुम्हारा महत्व है |
 

धीरेन्द्र भदौरिया.....

26 टिप्‍पणियां:

  1. तुम एक इंसान हो-
    जीवन में क्या तुम्हारा महत्व है |....विचारणीय ,बहुत सही ........सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  2. एक बूँद ओस की.... बहुत ही गहन भाव... अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  3. गहन भाव लिए बहुत .सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  4. ओंस की बूंद ने मानव को सच्‍चाई से अवगत करा ही दिया है। सुन्‍दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  5. मै एक छोटी सी बूंद हूँ
    पर मेरा अपना अस्तित्व है
    तुम एक इंसान हो-
    जीवन में क्या तुम्हारा महत्व है |
    बहुत सुन्दर !
    नई पोस्ट विरोध
    new post हाइगा -जानवर

    उत्तर देंहटाएं

  6. सुन्दर रचना बूंद ने अपने अस्तित्व को मजबूती से रखा हैं आपकी रचना में ...........

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (16-12-13) को "आप का कनफ्यूजन" (चर्चा मंच : अंक-1463) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह, ओस की बूंद कितना कुछ सिखा गयी..

    उत्तर देंहटाएं
  9. तुम एक इंसान हो -
    जीवन में क्या तुम्हारा महत्व है ?

    उत्तर देंहटाएं
  10. तुम एक इंसान हो-
    जीवन में क्या तुम्हारा महत्व है ?

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपना अस्तित्व सिद्ध करती छोटी सी ओस की बूँद, सुन्दर कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  12. गहन भाव छुपे हैं इन पंक्तियों में ... जीवन में अर्थ होना कितना जरूरी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. ओस के माध्यम से जीवन का सार कह डाला...बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर प्रस्तुति .. परिपक्व रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  15. कुछ पल मुझको जीना है-
    कुछ पल में मिट जाऊगी,
    लेकिन कुछ पल के लिए ही सही
    अपनी पहचान दे जाऊगी,

    वाह बहुत सुंदर अभिव्यक्ति ....!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. मै एक छोटी सी बूंद हूँ
    पर मेरा अपना अस्तित्व है
    तुम एक इंसान हो-
    जीवन में क्या तुम्हारा महत्व है |

    गंभीर बात को सहजता से कह गए.......

    उत्तर देंहटाएं
  17. जितना सुन्दर चित्र उतनी ही सुन्दर प्रस्तुति बहुत खूब मानव जीवन के महत्त्व पर प्रश्नचिन्ह लगाती एक छोटी सी ओस की बूँद ....बधाई आपको इस सुन्दर रचना के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  18. हर सजीव निर्जीव बस्तु का अपना "महत्त्व" होता है, फर्क इतना है कि कोई उसे पहचानता है और कोई नहीं !!!!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,