गुरुवार, 12 दिसंबर 2013

मजबूरी गाती है.

मजबूरी गाती है.

पलकों  पर आँसू  की  डोली सहज  उठाती है ,
ऐसा भी  होता है, तब  जब  मजबूरी गाती है |

छोटे  कदम  बड़ी मंजिल  का  पता  बताते है ,
लेकिन  छोटे  को सुविधा -सम्पन्न दबाते है |
छोटी  सी  बाती  में  दुनिया आग  लगाती  है ,
पर यह  छोटी  बाती जग रौशन कर जाती है |

ऐसा  भी  होता  है तब  जब  मजबूरी गाती है |

 धरती  पर  पौधों  की  दुनिया कोई सजाता है,
   पतझड़ को जा, झट कोई  न्यौता  दे आता  है | 
      पवन बसन्ती भी मरुथल की  कथा सुनाती है,     
   मन में  पलती आशा-पथ में  फूल  बिछाती है | 

ऐसा  भी होता है  तब  जब  मजबूरी  गाती है |

खुशियाँ  भी  बात-बात  पर  गाल फुलाती है, 
मगर जिन्दगी नहीं खीजती वह मुस्काती है |
लहर - भवँर फिर अहंकार का रौब जमाती है, 
 कागज़ की  ही सही मगर कश्ती  टकराती है | 

ऐसा  भी होता है  तब  जब  मजबूरी गाती है |

36 टिप्‍पणियां:

  1. मज़बूरी के गान पर, रखें सटीक विचार |
    तथ्य भाव उत्तम दिखे, धन्य धन्य आभार ||

    उत्तर देंहटाएं
  2. उत्तम भावों की अति सुन्दर अभिव्यक्ति !
    नई पोस्ट भाव -मछलियाँ
    new post हाइगा -जानवर

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर...बहुत सुन्दर रचना..

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर
    धरती पर पौधों की दुनिया कोई सजाता है,
    पतझड़ को जा, झट कोई न्यौता दे आता है |
    यही प्रकृति है और मानव भी तो प्रकृति कृत ही है, साथ ही मानवों निज स्वार्थ से वशीभूत होकर बुराइयाँ जल्दी अंगीकार करता है ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढिया.....सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  6. खुशियाँ भी बात-बात पर गाल फुलाती है,
    मगर जिन्दगी नहीं खीजती वह मुस्काती है |
    लहर - भवँर फिर अहंकार का रौब जमाती है,
    कागज़ की ही सही मगर कश्ती टकराती है |
    sabhi panktiya sundar bhaw sanjoye hue

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (13-12-13) को "मजबूरी गाती है" (चर्चा मंच : अंक-1460) पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  9. मजबूरी भी गाती है क्या हमने तो सुना था खुशियाँ ही गाती हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  10. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन संसद पर हमला, हम और ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  11. भावपूर्ण ... मन को छूती हुई सरल, सहज रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत ही बेहतरीन भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  13. खुशियाँ भी बात-बात पर गाल फुलाती है,
    मगर जिन्दगी नहीं खीजती वह मुस्काती है |
    लहर - भवँर फिर अहंकार का रौब जमाती है,
    कागज़ की ही सही मगर कश्ती टकराती है |

    अत्यंत भावपूर्ण ... मर्मस्पर्शी .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. शुक्रिया आपकी टिपण्णी के लिए।

    गा गाके जीवन के राग सुनाती है ,

    मजबूरी खुलके गाती है। सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सहज और खुबसूरत भाव ........

    उत्तर देंहटाएं
  16. लहर - भवँर फिर अहंकार का रौब जमाती है,
    कागज़ की ही सही मगर कश्ती टकराती है |

    bhai bhadauriya ji vakai bahut behatareen rachana ka ap ne janm diya hai bahut bahut aabhar apka......sath hi badhai bhi .

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह... उम्दा भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    नयी पोस्ट@ग़ज़ल-जा रहा है जिधर बेखबर आदमी

    उत्तर देंहटाएं
  18. खुशियां लाख गाल फुलाए , जिंदगी सदा मुस्काये
    मजबूरी गीत सुनाये :)
    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर गीत..आपकी कविता की हर पंक्ति एक मधुर साज गा रही है।।।

    उत्तर देंहटाएं
  20. मन में पलते आशा-पथ में फूल बिछाता सुन्‍दर गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही सुंदर लयबद्ध रचना ....आनंद आ गया

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  23. उत्कृष्ट भावाभिव्यक्ति, सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,