शुक्रवार, 29 नवंबर 2013

चुनाव आया

चुनाव आया 

  चुनाव आया  आरोप प्रत्यारोप  का दौर लाया 
  पिछले पाँच  दस वर्षो में जनता ने क्या पाया,

  पक्ष-विपक्ष  एक दुसरे  को इल्जाम  लगाते है 
   अपने  को स्वच्छ  दुसरे  को गलत  ठहराते है,  

इस भ्रम की स्थिति में मतदाता हो गया मौन
 सही ये है  गलत वो  इसका  फैसला करे कौन,

 क्योकि  सारे ही है चोर आपस में मौसेरे भाई
 चुनाव आया तो आपस  में करने  लगे लड़ाई,

चुनाव में कोई एक उम्मीदवार जीत जाएगा
  अंत में  हारने  वाला हमें ही  दोषी ठहराएगा,  

इस स्थिति से निपटने का किया जाय उपाय
 क्यों न  इस बार  नोटा की  बटन दबाई जाय,

सोच समझकर  मतदाता जरूर  करें मतदान
तभी तो होगा भारत के मानवता का कल्यान

44 टिप्‍पणियां:

  1. सही है आप भी बहुत दिनों के बाद आये हैं आज :)

    उत्तर देंहटाएं
  2. बात बिलकुल सही है सोच समझ कर ही करना होगा मतदान

    उत्तर देंहटाएं
  3. Aachi jankaari di sir ji aapane computer and internet ki jankaari ke liye yaha bhi dhekhe www.hinditechtrick.blogspot.com next post dlink router

    उत्तर देंहटाएं
  4. बढ़िया.......
    सार्थक पोस्ट....
    हम तो डाल चुके वोट :-)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शनिवार (30-11-2013) को "सहमा-सहमा हर इक चेहरा" : चर्चामंच : चर्चा अंक : 1447 में "मयंक का कोना" पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए शुक्रिया ! शास्त्री जी...

      हटाएं
  6. बढ़िया और सार्थक पोस्ट |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  7. बिल्कुल सही हर एक वोट महत्वपूर्ण .......

    उत्तर देंहटाएं
  8. सुन्दर सन्देश देती रचना .. सार्थक सृजन..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत बढ़ियाँ और सार्थक पोस्ट..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  10. नमस्कार भाई जी-
    बहुत दिनों बाद आपकी पोस्ट आई-
    लगता है चुनाव में व्यस्त रहे हैं आप-
    बधाई-

    उत्तर देंहटाएं
  11. सटीक और जरूरी सन्देश ....
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  12. मंगलवार 03/12/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी एक नज़र देखें
    धन्यवाद .... आभार ....

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को स्थान देने के लिए शुक्रिया ,,,, विभा जी

      हटाएं
  13. नोटा का बटन दबाने का अर्थ है, आप दंगो के रक्त से सनी राजनीति, व्यभिचारी वातावरण, भ्रष्ट व्यवस्था, घोटालों के दल दल में धंसे दलगत चुनाव प्रणाली, सापिंग माल जैसे न्यायालयों आदि आदि से तो सहमत हैं केवल प्रत्याशी से असहमत हैं.....

    उत्तर देंहटाएं
  14. सोच समझकर मतदाता जरूर करें मतदान
    तभी तो होगा भारत के मानवता का कल्यान ....
    खूबसूरत रचना के साथ एक खूबसूरत सलाह ,की सीएच समझकर मतदान करें।

    उत्तर देंहटाएं
  15. सोच समझकर मतदाता जरूर करें मतदान
    तभी तो होगा भारत के मानवता का कल्यान....सही आह़वान

    उत्तर देंहटाएं
  16. इस भ्रम की स्थिति में मतदाता हो गया मौन
    सही ये है गलत वो इसका फैसला करे कौन.....sahi kaha aapne

    उत्तर देंहटाएं
  17. सर फुटौवल गाली गलोंच का दौर आया ,

    लो फिर चुनाव आया।

    किसी के राक्षिसीकरण ,किसी की बेहूदा पूजा का दौर आया ,

    लो फिर चुनाव आया।

    सेकुलर मेंढक नाली में से टर्राया ,

    लो फिर चुनाव आया।

    . एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

    http://dheerendra11.blogspot.in/

    चुनाव आया

    चुनाव आया आरोप प्रत्यारोप का दौर लाया
    पिछले पाँच दस वर्षो में जनता ने क्या पाया,

    उत्तर देंहटाएं
  18. सर फुटौवल गाली गलोंच का दौर आया ,

    लो फिर चुनाव आया।

    किसी के राक्षिसीकरण ,किसी की बेहूदा पूजा का दौर आया ,

    लो फिर चुनाव आया।

    चैनलों पर हाथ -पैर तोड़ मुकाबला छाया ,

    सेकुलर मेंढक नाली में से टर्राया ,

    लो फिर चुनाव आया।

    . एक प्रतिक्रिया ब्लॉग पोस्ट :

    http://dheerendra11.blogspot.in/

    चुनाव आया

    चुनाव आया आरोप प्रत्यारोप का दौर लाया
    पिछले पाँच दस वर्षो में जनता ने क्या पाया,

    उत्तर देंहटाएं
  19. अंत में हारने वाला हमें ही दोषी ठहराएगा,
    सटीक

    उत्तर देंहटाएं
  20. समसामयिक और मुद्दों पर चोट करती सुन्दर रचना !
    नई पोस्ट वो दूल्हा....

    उत्तर देंहटाएं
  21. चुनाव के समय सर्वथा नया भारत देखने को मिलता है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. सामयिक और सार्थक भाव लिए ... लाजवाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  23. चुनाव में भाग लेना हर भारतीय का कर्त्तव्य है...हरेक को वोट तो देना ही चाहिए पर सोच समझ कर...

    उत्तर देंहटाएं
  24. चुनाव आया आरोप प्रत्यारोप का दौर लाया
    पिछले पाँच दस वर्षो में जनता ने क्या पाया,
    सोच समझकर मतदाता जरूर करें मतदान
    तभी तो होगा भारत के मानवता का कल्यान

    सामयिक विमर्श की सुन्दर रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  25. बिल्कुल सही बात कही है आपने
    नयी पोस्ट
    आज फिर खयाल आया।
    http://iwillrocknow.blogspot.in/2013/12/blog-post_5.html

    उत्तर देंहटाएं
  26. चुनाव के समय हमारी जरा सी गलती भारी पड़ जायेगी ,बिलकुल ध्यान देना ही पड़ेगा आदरनीय धीरेद्रजी काबिले तारीफ रचना ,,,सादर

    उत्तर देंहटाएं
  27. सही जानकारी
    सत्य है हमें सोच समझ कर ही मत दान करना होगा

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,