रविवार, 3 नवंबर 2013

दीप जलायें .

 दीप जलायें
खेतों में  दीप जलाये  कृषकों  ने  नई फसल के !
  दरिद्रता का घना अन्धेरा मिटा इसी के बल से !! 

चारो ओर धरा है जगमग ,आज सुहानी लगती !
 खुशहाली  के गीत गूँजते, नई आशाऐ  जगती !! 

हरवाहे  किसान महिलाएं, श्रम की माल पिरोती !
 दीपपर्व पर  कर न्योछावर,आज खुशी  के मोती !!

लक्ष्मी-सुत, लक्ष्मी का  वंदन  दीपावली  में  करता !
  जला  जला  माटी  के  दीपक, आज अन्धेरा  हरता !! 

घर आनाज तो सदा दिवाली,संभव किसान है करता !
 लक्ष्मी-सुत  इसलिए  वही  है,खेतों में  स्वर्ण बरसता !!
 
धान,ज्वार,बाजरा,उड़द, मक्का की जब फासले आती !
 करे  किसान  फसल का  स्वागत, वे उसके गुण गाती !!

जितना उजला प्रकाश पूनम का उतनी काल निशा  है !
अंतर मिटा आज  ही  केवल ,यद्दपि विपरीत  दिशा है !!

श्रम  के दीप जलाकर लेकिन किसान प्रकाश है लाता !
 उसकी मेहनत प्रबल साधना से ही सारा जग है खाता !!

33 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएँ-समीर लाल ’समीर’

    जवाब देंहटाएं
  2. प्रकाशोत्सव के महापर्व दीपादली की हार्दिक शुभकानाएँ।

    जवाब देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर. दीपोत्सव की मंगलकामनाएँ !!
    नई पोस्ट : कुछ भी पास नहीं है
    नई पोस्ट : दीप एक : रंग अनेक

    जवाब देंहटाएं
  4. दीपावली की हार्दिक शुभकामनायें

    जवाब देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर रचना ... दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  6. सुंदर रचना !
    दीपावली की शुभकामनाएँ !

    जवाब देंहटाएं
  7. किसान तो अन्नदाता है -बहुत सुन्दर रचना |
    दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं !

    जवाब देंहटाएं
  8. खेतों में दीप जलाये कृषकों ने नई फसल के !
    दरिद्रता का घना अन्धेरा मिटा इसी के बल से !

    सुन्दर मनोहर।

    जवाब देंहटाएं
  9. नमस्कार !
    आपकी इस प्रस्तुति की चर्चा कल सोमवार [4.11.2013]
    चर्चामंच 1419 पर
    कृपया पधार कर अनुग्रहित करें |
    सादर
    सरिता भाटिया

    जवाब देंहटाएं
  10. शुभप्रभात
    बहुत सुन्दर प्रस्तुति
    दीपावली की शुभकामनाएँ
    सादर

    जवाब देंहटाएं
  11. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय -
    दीप पर्व की ढेरों शुभकामनायें-

    जवाब देंहटाएं
  12. वाह वाह--- दीपावली की शुभकामनाएँ

    जवाब देंहटाएं
  13. बेहतरीन रचना। गांव, खेत और खलिहान का सुन्दर चित्रण।
    दीपोत्सव की शुभकामनाएं .

    जवाब देंहटाएं
  14. माटी और किसान को समर्पित दिवाली है .... बहुत बहुत शुभकामनायें ...

    जवाब देंहटाएं
  15. सुंदर रचना. हार्दिक शुभकामनाएं.

    रामराम.

    जवाब देंहटाएं
  16. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    जवाब देंहटाएं
  17. Ek Achhi Padya Rachna Ka Jikra Aapke Dwara. Is Tarah Ki Rachnayen Badi Hi Rochak Hoti Hai. Padhe Low Poems Aur प्यार की कहानियाँ

    Thank You For Sharing.

    जवाब देंहटाएं
  18. वाह!!! बहुत सुंदर !!!!!
    उत्कृष्ट प्रस्तुति
    बधाई--

    उजाले पर्व की उजली शुभकामनाएं-----
    आंगन में सुखों के अनन्त दीपक जगमगाते रहें------

    जवाब देंहटाएं
  19. श्रम के दीप जलाकर लेकिन किसान प्रकाश है लाता !
    उसकी मेहनत प्रबल साधना से ही सारा जग है खाता !!
    सुंदर रचना ...

    जवाब देंहटाएं
  20. वाह ... अनुपम भावों का संगम ....
    दीपोत्‍सव की अनंत शुभकामनाएं

    जवाब देंहटाएं
  21. श्रम के दीप जलाकर लेकिन किसान प्रकाश है लाता !
    उसकी मेहनत प्रबल साधना से ही सारा जग है खाता !!

    बहुत सही
    आखिर किसान ही हैं जिनकी वजह से हमारे घर में खुशियां हैं
    सादर मंगलकामनाएँ !!

    जवाब देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,