रविवार, 13 अक्तूबर 2013

एक जबाब माँगा था.

एक जबाब माँगा था 
 
मैंने  तुमसे  कब, प्यार  का  हिसाब  माँगा  था ,
सारे  सवालों  का, सिर्फ  एक  जबाब  माँगा था i

जिन्दगी  की  एक तमन्ना  तो  पूरी  की  होती ,
दीदार  माँगा  था ,  कब  ये  नकाब   माँगा  था i

अपने  हुजूर  में, कुछ कहने  की इजाजत  दे दो ,
मैने  कब  तुमसे, शायरी का  खिताब  माँगा था i

अपने घने  आँचल के  साये में  रहने दो मुझको ,
तुम्हारे रेशमी  एहसास का  माहताब  माँगा था i

आँखों  से  वयां  कुछ , होठों पर  अनकहा  कुछ ,
सिर्फ जिन्दगी की  एक खुली किताब माँगा था i 

क्या भला  एक कतरे से  कभी प्यास  बुझती है ,
धीर  ने  तो  बस  तुमसे  पूरा  शबाब  माँगा था i

53 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर रचना...विजयदशमी की शुभकामनाएँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुंदर .......विजयदशमी की शुभकामनाएँ !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदर रचना.
    विजयदशमी की शुभकामनाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज सोमवार (14-10-2013) विजयादशमी गुज़ारिश : चर्चामंच 1398 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का उपयोग किसी पत्रिका में किया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह...
    बेहतरीन ग़ज़ल....
    उम्दा शेर!!
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति .. आपकी इस रचना के लिंक की प्रविष्टी सोमवार (14.10.2013) को ब्लॉग प्रसारण पर की गयी है ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया पधारें .

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ! पुरज़ोर ख्वाइश की हसरतें .......

    उत्तर देंहटाएं
  8. .मैंने तुमसे कब, प्यार का हिसाब माँगा था ,
    सारे सवालों का, सिर्फ एक जबाब माँगा था i

    ख्वाहिशें कब पूरी हुईं?
    वाह!
    बहुत खुबसूरत ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब ,ख़ास कर ये शेयर ,,,,,
    अपने हुजूर में, कुछ कहने की इजाजत दे दो ,
    मैने कब तुमसे, शायरी का खिताब माँगा था i

    उत्तर देंहटाएं
  10. अतिसुन्दर ,प्यार का अंकगणित अत्यंत जटिल है

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत बढ़िया.. हार्दिक शुभकामनाएँ..

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर.. विजयादशमी की शुभकामनाएँ .

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही लाजवाब, शुभकामनाएं.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुंदर भाव भरे शब्द !

    उत्तर देंहटाएं
  15. न न करते सब मांग लिया.. बेहतरीन...बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  16. अपने हुजूर में, कुछ कहने की इजाजत दे दो ,
    मैने कब तुमसे, शायरी का खिताब माँगा था i

    बहुत खूब धीर साहब !सुभान!अल्लाह !

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह धीर जी, आपने जो न मांगा वह तो मिल गया । बहुत प्यारी गज़ल।

    उत्तर देंहटाएं
  18. अपने हुजूर में, कुछ कहने की इजाजत दे दो ,
    मैने कब तुमसे, शायरी का खिताब माँगा था ..

    बहुत खूब ..शायरी न चाहते हुए भी शायरी ... लाजवाब शेर है ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. ख़ूबसूरत प्रस्तुति.....लाजवाब शेर

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुंदर गज़ल के लिये बधाइयाँ कबूल कीजिये..............

    उत्तर देंहटाएं
  21. मैंने तुमसे कब, प्यार का हिसाब माँगा था ,
    सारे सवालों का, सिर्फ एक जबाब माँगा था ।


    क्या कहने !

    उत्तर देंहटाएं
  22. ज़बरदस्त है धीरेन्द्र भाई

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत मिस किया आपकी ग़ज़लों को धीरेन्द्र भाई!! परिस्थितियों ने दूरी बना दी है!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. अपने घने आँचल के साये में रहने दो मुझको ,
    तुम्हारे रेशमी एहसास का माहताब माँगा था i

    प्रेम का कोमल अहसास
    बहुत सुंदर गजल
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  25. अपने हुजूर में, कुछ कहने की इजाजत दे दो ,
    मैने कब तुमसे, शायरी का खिताब माँगा था i
    वाह क्या बात है
    मेरे ब्लॉग पर आप सभी का स्वागत है
    http://iwillrocknow.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  26. बेहतरीन ग़ज़ल

    आँखों से वयां कुछ , होठों पर अनकहा कुछ ,
    सिर्फ जिन्दगी की एक खुली किताब माँगा था i

    उत्तर देंहटाएं
  27. अपने हुजूर में, कुछ कहने की इजाजत दे दो ,
    मैने कब तुमसे, शायरी का खिताब माँगा था
    वाह ! बहुत खूबसूरत , लाजवाब !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,