गुरुवार, 3 अक्तूबर 2013

पाँच दोहे,

  
पाँच दोहे 
 
आज व्यवस्था  ने रची,कुछ ऐसी पहचान i
 गन्धर्वो  के  देश  में , सर्पो   का  सम्मान ii
o o o
ऊपर  से  हम  जी  रहे, गाँधी- गौतम  बुद्ध i
 भीतर-भीतर  लड़  रहे, जाने  कितने  युद्ध ii
    o o o     
कैसे  फहरेंगे  भला , वहाँ  क्रान्ति  के  केतु i
 बागी है  जिस जगह पर, सम्बन्धों के सेतु ii
o o o 
 संस्मरणों के देश फिर,ले चल मुझको मीत i
  जहाँ  प्रीत का  पर्व है,जहाँ  मिलन  के गीत ii
o o o
  हार  न  मानेगे  कभी , प्रण  करते  है  प्राण i
    व्यवधानों  के वक्ष  पर, होगा  नव  निर्माण ii 
 o o o 
  
          

         

51 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर दोहे -
    आभार धीर भाई जी -

    उत्तर देंहटाएं
  2. बधाई ब्लॉगर मित्र ..सर्वश्रेष्ठ ब्लॉगों की सूची में आपका ब्लॉग भी शामिल है |
    http://www.indiantopblogs.com/p/hindi-blog-directory.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. वाह बहुत बढ़िया दोहे है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह्ह्ह्ह बहुत बढ़िया सार्थक दोहे ,हृदय तल से बधाई आदरणीय

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह ........सभी दोहे बहुत सुन्दर ,सार्थक ,मन को छूने वाला .....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत ही अच्छे और सार्थक दोहे...
    बेहतरीन..
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  7. ऊपर से हम जी रहे, गाँधी- गौतम बुद्ध i
    भीतर-भीतर लड़ रहे, जाने कितने युद्ध ii
    बहुत सुन्दर और सटीक दोहे !

    उत्तर देंहटाएं
  8. आदरणीय सर , प्रत्येक दोहा बेहद खूबसूरत और यथार्थ परक बना है ...इस सुन्दर रचना के लिए हार्दिक बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  9. मज़ा आ गया ,रस धरा में स्नान का। मुठ्ठी तो बंद है पर खुले हैं छंद।

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर प्रस्तुति ....!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार (05-10-2013) को "माता का आशीष" (चर्चा मंच-1389) पर भी होगी!
    शारदेय नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  11. बेहद सशक्त सन्देश दोहावली के मार्फ़त दे गए हैं श्री मान ,

    o o o
    संस्मरणों के देश फिर,ले चल मुझको मीत i
    जहाँ प्रीत का पर्व है,जहाँ मिलन के गीत ii
    o o o
    हार न मानेगे कभी , प्रण करते है प्राण i
    व्यवधानों के वक्ष पर, होगा नव निर्माण ii

    ले चल मनवा आज फिर उसी ठौर उस गाँव ,

    सुबह शाम हँसते जहां नीम और पीपल आंव।

    उत्तर देंहटाएं
  12. सुंदर दोहे। अंतिम तो बहुत सुंदर आशापूर्ण।

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये जागरण के दोहे हैं , मनुष्य को जीना सिखाते हैं । बधाई ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत अच्छे दोहे |हार्दिक आभार |

    उत्तर देंहटाएं
  15. सार्थक अभिव्यक्ति ....सुंदर दोहे ..

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी यह उत्कृष्ट रचना ‘ब्लॉग प्रसारण’ http://blogprasaran.blogspot.in पर कल दिनांक 6 अक्तूबर को लिंक की जा रही है .. कृपया पधारें ...
    साभार सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  17. जहाँ प्रीत का पर्व है,जहाँ मिलन के गीत nice

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर लेख , samadhaaninhindi.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  19. सार्थक अभिव्यक्ति ....सुंदर दोहे, आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  20. संस्मरणों के देश फिर,ले चल मुझको मीत i
    जहाँ प्रीत का पर्व है,जहाँ मिलन के गीत ii
    bahut khoob
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह ... बहुत ही सुन्दर दोहे ... सार्थकता लिए ...
    नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें ....

    उत्तर देंहटाएं
  22. हार न मानेगे कभी , प्रण करते है प्राण i
    व्यवधानों के वक्ष पर, होगा नव निर्माण ii

    कवि कामना पूर्ण हो !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,