शनिवार, 7 सितंबर 2013

समझ में आया बापू .

समझ  में आया  बापू
1
बापू  आसाराम  ने  ,  खेला   कैसा  खेल |
करनी- भरनी के लिये ,पँहुच गये हैं जेल |


पँहुच  गये  हैं जेल ,खेल ने  पलटा खाया |
नखरे बहुत  दिखाय,चली ना  बापू माया |


क्या होता क़ानून,सभल जाओ सब साधू |
तेरी  क्या औकात,समझ  में आया  बापू |
 2
      भक्ति - भाव   के  आड़   में , करते   यौनाचार |       
       प्रवचन   देते   है  यहाँ  , करते   है   व्यभिचार |     

    
     करते   है  व्यभिचार , ढूढ़ते   फिरते   छलिया |       
    जाल  बिछाकर  फ़सा ,नोचते  कच्ची  कलियाँ |     

     
    सारे  आश्रम  जप्त , करा   दे  शाशन - शक्ति |     
     अमन चैन छा जाय,फिर आ जाय भाव-भक्ति |        
  
  धीरेन्द्र सिंह भदौरिया, 

53 टिप्‍पणियां:

  1. सही कहा आपने…………पर जाने क्यों लोगो को असलियत देर से समझ आता है ……………सुन्दर अभिब्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  2. अब भी तो समाज में जागृति आए
    सच्ची सार्थक अभिव्यक्ति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा आपने……सुन्दर अभिब्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  4. सही लिखा आपने ! धर्म के नाम पर लोगों की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करने वाला जेल में ही होना चाहिये

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति.. आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी पोस्ट हिंदी ब्लॉग समूह में सामिल की गयी और आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल - रविवार-8/09/2013 को
    समाज सुधार कैसे हो? ..... - हिंदी ब्लॉग समूह चर्चा-अंकः14 पर लिंक की गयी है , ताकि अधिक से अधिक लोग आपकी रचना पढ़ सकें . कृपया आप भी पधारें, सादर .... Darshan jangra





    उत्तर देंहटाएं
  6. क्या होता क़ानून,सभल जाओ सब साधू |
    तेरी क्या औकात,समझ में आया बापू |
    बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  7. नमस्कार आपकी यह रचना कल रविवार (08-09-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  8. आशा राम की खुली पोल... ढोंगी संत.. सार्थक अभिव्यक्ति !!

    उत्तर देंहटाएं
  9. सामयिक सार्थक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  10. आशाराम के लिए सही जगह, एकांत में कुछ ज्यादा ही चिन्तन करंगे। बेहतरीन अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  12. भक्ति - भाव के आड़ में , करते यौनाचार |
    प्रवचन देते है यहाँ , करते है व्यभिचा

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऐसे सब बापुओं पर ...हुआ है आपका सटीक वार .....

    उत्तर देंहटाएं
  14. ऐसे बाबाओं से सावधान रहे की जरूरत है ... जागने का समय है भोली जनता का ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. आसाराम के नाम के साथ बापू शब्द लगाते हुये घृणा का भाव आता है । सटीक कुंडलियाँ ।

    उत्तर देंहटाएं
  16. कड़वा सच बेहतरीन अभिव्यक्ति संगीता आंटी की बात से भी सहमत हूँ।

    उत्तर देंहटाएं
  17. आज की बुलेटिन विश्व साक्षरता दिवस, भूपेन हजारिका और ब्लॉग बुलेटिन में आपकी इस पोस्ट को भी शामिल किया गया है। सादर .... आभार।।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ऐसे लोगों को जरा देर से समझ आता है.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सटीक कुंडलियाँ.. ।जैसी करनी वैसी भरनी

    उत्तर देंहटाएं
  20. सटीक व् सार्थक दोहे ...
    साभार....

    उत्तर देंहटाएं
  21. धर्म के बाज़ार में आशा राम नकली नोट की तरह से हैं
    ------------------------------------------------
    आप बताइये यदि आपके पास दो नोट हो , एक असली और दूसरी नकली तो आप किस नोट को बाज़ार में पहले चलाने को ले जाइयेगा , नकली न ???
    असली तो कभी भी चल जायेगी
    पर एक खतरा असली नोट को भी हो गया , बाज़ार में उसकी इज्ज़त , शाख गिर गयी , क्यों , कहीं वह नकली तो नहीं , इस लिए अब असली नोट को भी तीन बार जांचा परखा और रौशनी में उछाला जाता है
    इससे सच्चे साधू संतोंकी शाख गिर जाती है , सो अच्छे साधू संतो को इसका भर पूर विरोध करना और नकली नोटों को धर्म के बाज़ार से बाहर करना चाहिए
    अन्यथा , सच्चे असली सज्जन और साधू , संत भी शक के दायरे में आजायेंगे
    ठीक ही कहा है - '' धर्म से ही धर्म को खतरा है ( नकली धर्म से असली धर्म को ) अधर्म से धर्म को कोई ख़तरा नहीं है|
    “ हर संडे....., डॉ.सिन्हा के संग !"

    उत्तर देंहटाएं
  22. धर्म के नाम पर अधर्म।
    सटीक प्रस्तुति,सामयिक भी।

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह वाह मजा आ गया पढ़ के बहुत सार्थक प्रस्तुति आदरणीय समय की मांग के अनुकूल ,हार्दिक बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  24. क्या होता क़ानून,सभल जाओ सब साधू |
    तेरी क्या औकात,समझ में आया बापू |
    प्रिय धीरेन्द्र भाई बहुत अच्छी चेतावनी ..कानून अपना काम करे जनता चैन से रह सके
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  25. क्या होता क़ानून,सभल जाओ सब साधू |
    तेरी क्या औकात,समझ में आया बापू |

    बहुत ही सुंदर सामायिक कुण्डलियाँ ,,

    गणेश चतुर्थी की शुभकामनाए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही सुन्दर व सामयिक दोहे ...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,