गुरुवार, 12 सितंबर 2013

बिखरे स्वर.


टू टे  प र |
बिखरे  स्वर |
              नीड  जला,
              घर - बेघर |

नभ कितना ?
आँखों  भर  |
              तेरी  छवि ,
              जा दू ग र  |

एक गजल ,
तेरे   पर  |
              तू  है  तो ,
              कैसा डर  ?

 बहन विदा ,
आँखे  तर |
              हँसी जिये ,
              रो  रोकर |

बलिदानी ,
सदा अमर |
            अपना तो,
            बस ईश्वर |

मंजिल पर ,
सिर्फ नजर |
             बात बहुत ,
             तंग  बहर |


रचनाकार  -  कमल किशोर "भावुक"

52 टिप्‍पणियां:

  1. हँसी जिये ,
    रो रोकर |......सुन्दर भाव .....

    उत्तर देंहटाएं
  2. लेखनी की जादूगरी दिख रही
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. कमाल किया है कमल किशोर जी ने। तंग बहर में वाकई.. बात बहुत कह दी।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह कमाल कर दिया, बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा आज शुक्रवार (13-09-2013) महामंत्र क्रमांक तीन - इसे 'माइक्रो कविता' के नाम से जानाः चर्चा मंच 1368 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत बढ़िया शब्द संयोजन और रचना |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही अलग और सशक्त रचना.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. नये अंदाज
    नये कलेवर
    पुलकित मन
    बदले तेवर
    ********
    रात्रि का प्रथम प्रहर
    उठो प्रिये का स्वर
    मदमाती आँखें
    नशवर जीवन
    यह कैसा स्वर
    ***********
    बहुत ख़ूब सर


    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत खूब..गागर में है सागर !

    उत्तर देंहटाएं
  10. कितनी छोटी बहर में कितनी खूबसूरती से ग़ज़ल कही है आपने ……जैसे गागर में सागर |

    उत्तर देंहटाएं
  11. बलिदानी ,
    सदा अमर |
    अपना तो,
    बस ईश्वर |
    मंजिल पर ,
    सिर्फ नजर |
    बात बहुत ,
    तंग बहर |
    ati sundar rachna

    उत्तर देंहटाएं
  12. तंग बहर ,बहुत कुछ पर ,वाह वाह गागर में सागर ,बहुत बधाई कमल किशोर भावुक जी को

    उत्तर देंहटाएं
  13. कमाल की प्रस्तुति...
    बहुत ही बेहतरीन...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  14. रात्रि का प्रथम प्रहर
    उठो प्रिये का स्वर
    मदमाती आँखें
    नशवर जीवन
    यह कैसा स्वर
    ***********
    बहुत ख़ूब...बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत ही सुन्दर बेहतरीन प्रस्तुती,धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  16. सुन्दर रचना आभार पढवाने का ,
    बधाई कमल किशोर जी को इस सुन्दर रचना के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूब ... छोटी बहर में लोइखी गई सुन्दर गज़ल ... भाव लिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. तेरी छवि ,
    जा दू ग र |
    एक गजल ,
    तेरे पर ।
    तू है तो ,
    कैसा डर ?
    सुंदर रचना सर |

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह क्या खूब!!!
    बहुत सुंदर !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. टू टे प र |
    बिखरे स्वर |
    नीड जला,
    घर - बेघर |
    लघुत्तम बहर सुन्दर भाव और अर्थ।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बात बहुत,
    तंग बहर।

    क्या अंदाज़ है !

    तंग बहर,
    बात जबर !

    उत्तर देंहटाएं
  22. .शब्दों की अनवरत खुबसूरत अभिवयक्ति....

    उत्तर देंहटाएं
  23. नभ कितना ?
    आँखों भर .. वाह बहुत उम्दा , सुन्दर प्रस्तुति ..

    उत्तर देंहटाएं
  24. बेहद, बेहद सुंदर
    बात बडी
    छोटी बहर।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,