मंगलवार, 24 सितंबर 2013

सुधि नहि आवत.( विरह गीत )

सुधि नहि आवत. 
 
कैसे   है   निर्मोही   सजन   हमारे
  प्रीत  लगाई  के   बैठे   है   किनारे, 

असाढ़   मास   जब   मयूरा   बोले
 सुनकर   मोरा   तन  -  मन   डोले,

सावन    में    जब    बदरा    छाये
 देख   के   मोरा   जिया  डर   जाये,

  भादों   मास   जब   बिजुरी  चमके  
 जान   अकेली   आ    डर     धमके,

कुवांर- कातिक  आवन  कहि  गयो
 अगहन लागि सुध तबहु नहि लियो,

  कैसे  बन  गए  निर्मोही  बलम  मेरे 
   पूष    गयो   माघी    ने    मुह   फेरे, 

 फागुन   के   दिन    बाढन   लाग्यो
  चैत   में  चिंता   रात   भर   जाग्यो,

   वैशाखी  म  भी   नहि   आयो   माही 
   जेठ  तपन  अब  सहि  जावत   नाही,

  बारह   मास    बीत    सखी    जावत
    तबहूँ  बलम  को  सुधि  नहि  आवत, 

 धीरेन्द्र सिंह भदौरिया 

53 टिप्‍पणियां:

  1. सच्ची में ये विरह गीत है
    उम्दा अभिव्यक्ति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. आप की इस प्रविष्टि की चर्चा कल {बृहस्पतिवार} 26/09/2013 को "हिंदी ब्लॉगर्स चौपाल {चर्चामंच}" पर.
    आप भी पधारें, सादर ....राजीव कुमार झा

    उत्तर देंहटाएं
  3. सुन्दर प्रस्तुति-
    आभार आदरणीय-

    उत्तर देंहटाएं
  4. मर्मस्पर्शी गीत ....उम्दा अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  5. वाह वाह वाह धीरेन्द्र जी बहुत ही बढ़िया |

    उत्तर देंहटाएं
  6. वाह। बारह महीनों की प्रेमी के इंतजार की टीस उत्‍पन्‍न्‍ा करती, मौसम के संग जोड़ता सुन्‍दर गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही सारगर्भित सुन्दर प्रस्तुति,धन्यबाद आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह|| क्या कहने ..
    बहुत ही बेहतरीन है यह विरह गीत
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  9. आपकी यह प्रस्तुति 26-09-2013 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  10. बिछोड़े को उद्दीप्त करती रचना -

    आवन कह गए अजहूँ न आये ,

    बीती सारी उमरिया

    उत्तर देंहटाएं
  11. बिछोड़े को उद्दीप्त करती रचना -

    आवन कह गए अजहूँ न आये ,

    बीती जाए रे सारी उमरिया ,

    न लीन्हीं रे मोरी खबरिया।

    उत्तर देंहटाएं
  12. waah sir ji
    Jaysi ji yad aagye .
    firak-e-gam kkise sunayen ab
    ashko ne bhi vfa n nibhayee .

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपकी रचना को पढकर मुझे कालिदास की किताब "ऋतुसंहार " की याद आ गई । प्रशंसनीय प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत बहुत सुन्दर...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  15. सावन की वि‍रह अभी जारी है. सुंदर.

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बारह मास बीत सखि जावत, तबहु प्रीतम को सुधि नही आवत।
    आह ये बिरहा की अगन।

    उत्तर देंहटाएं
  18. बारहमासी विरह वेदना का सुंदर चित्रण..............

    उत्तर देंहटाएं
  19. बढ़िया प्रस्तुति-
    शुभकामनायें आदरणीय-

    पूस फूस सा दिन उड़ा, किन्तु रात तड़पाय |
    दिवस बिताऊं ऊंघ कर, जाड़ा जियरा खाय |
    जाड़ा जियरा खाय, रजाई नहिं गरमाए |
    भर भर के उच्छ्वास, देह में अगन जलाए |
    फिर भी रविकर चैन, रैन का गया *रूस सा |
    दूरभाष के बैन, उड़ें ज्यों पूस फूस सा ||
    *गुस्सा

    उत्तर देंहटाएं
  20. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।। त्वरित टिप्पणियों का ब्लॉग ॥

    उत्तर देंहटाएं
  21. सुंदर प्रस्तुति धीरेंद्रजी..

    उत्तर देंहटाएं
  22. .......... वाह धीरेन्द्र जी बहुत ही बढ़िया

    उत्तर देंहटाएं
  23. निर्मोही कहाँ सुध लेता है , बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  24. विरह की आग तो हर मौसम में सताती है ...
    भावमय प्रस्तुति है ...

    उत्तर देंहटाएं
  25. अहा !! लोकगीत याद दिला दिए आपने
    सुमधुर गीत ....धन्यवाद तो बनता है आपके लिये

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,