मंगलवार, 9 जुलाई 2013

नीयत बदल गई.



नीयत  बदल  गई 

क्या बर्फ  थी ज़रा  सी आँच में  पिघल गई
  मौक़ा  मिला तो आपकी  नीयत बदल  गई, 

हाँ  में  हाँ  मिलाने  में  क्यूं  सब  लगे  हुये 
 लगता है अक्ल घूमने  इनकी  निकल गई, 

जुल्म  देख  पूरी  पीढी  ने  ये   क्या  किया 
 ये कडवी दवा की तरह पल  में  निकल गई, 

बरसात  के लिए जो की  खुदा  की  इबादत
      बरसात  
आई   वो  भी  बाद  में  बदल  गई,     

इतना सरल  नही  धीर उस पतंग  को पाना
 जों डोर  तुम्हारे  हाथ से आकर  फिसल गई,
 
धीरेन्द्र सिंह भदौरिया,"धीर"

58 टिप्‍पणियां:

  1. सुन्दर प्रस्तुति -
    आभार आपका-

    उत्तर देंहटाएं
  2. सुंदर सृजन , आभार ,
    यहाँ भी पधारे
    रिश्तों का खोखलापन
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_8.html

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुंदरअभिव्यक्ति ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया अर्थपूर्ण ग़ज़ल....
    बरसात के लिए जो की खुदा की इबादत
    बरसात आई वो भी "बाद" में बदल गई, (टंकण त्रुटी है, बाढ़ कर लीजिये.)

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. 'बरसात के लिए जो की खुदा की इबादत....'

    बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  7. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,

    वाह वाह, लाजवाब गजल.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,
    ... सार्थक प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर और सार्थक अभिव्यक्ति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  10. बेहतरीन प्रस्तुति ,अति सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर भाव और अभिव्यक्ति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  12. बरसात के लिए जो की खुदा की इबादत
    बरसात आई वो भी बाद में बदल गई,
    वाह बहुत सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर भावमयी रचना...वाह बहुत सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस प्रस्तुति का लिंक 11/07/2013 के चर्चा मंच पर है
    कृपया पधारें

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुंदर कृति ...... या कहे काव्य

    उत्तर देंहटाएं
  16. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,

    बेहतरीन रचना (जो ,पीढी ,कड़वी )

    उत्तर देंहटाएं
  17. क्या बात धीरेन्द्र जी, बहुत सुंदर
    मजा आ जाता है आपको पढ़ते हुए..


    कांग्रेस के एक मुख्यमंत्री असली चेहरा : पढिए रोजनामचा
    http://dailyreportsonline.blogspot.in/2013/07/like.html#comment-form

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत खूबसूरत रचना, लाजवाब!

    उत्तर देंहटाएं
  19. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,

    आपने सौ टके की बात कह दी

    उत्तर देंहटाएं
  20. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,
    ..बहुत खूब...लुटेरों भतेरे जो हैं...

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह ! बहुत भावभीनी पंक्तियाँ..आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  22. बह्हुत ही अच्छे शेरों से सजी गज़ल ..

    उत्तर देंहटाएं
  23. सुंदर रचना...कुछ छंद तो काफी अच्छे हैं।।

    उत्तर देंहटाएं

  24. हाँ में हाँ मिलाने में क्यूं सब लगे हुये
    लगता है अक्ल घूमने इनकी निकल गई,
    -खूब परखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं
  25. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,
    ... सार्थक प्रस्तुति..



    यहाँ भी पधारे ,
    राज चौहान
    क्योंकि सपना है अभी भी
    http://rajkumarchuhan.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही बेहतरीन प्रस्तुति...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  28. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,
    वाह..बहुत खूबसूरत गजल

    उत्तर देंहटाएं
  29. बिम्ब और अर्थ भावोद्गार में अप्रतिम रचना .शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .ॐ शान्ति .

    उत्तर देंहटाएं
  30. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,

    सार्थक रचना

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत खूब .


    हाँ में हाँ मिलाने में क्यूं सब लगे हुये
    लगता है अक्ल घूमने इनकी निकल गई,

    उत्तर देंहटाएं
  32. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,

    बहुत खूब, लाजवाब

    उत्तर देंहटाएं
  33. सभी बढ़िया शेर ..... अंतिम खासकर बहुत ही अच्छा लगा .
    तीसरे चौथे शेर में 'निकल=निगल' 'बाद=बाढ़' टंकण की गलती हुई है कृपया उसे सही कर लें .
    सादर शुभ-कामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  34. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ में आकर फिसल गई ।

    बहुत खूब धीर जी । बहुत प्यारी गज़ल ।

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह क्या बात है---------
    बेहतरीन गजल
    बहुत खूब
    उत्कृष्ट प्रस्तुति

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  36. इतना सरल नही धीर उस पतंग को पाना
    जों डोर तुम्हारे हाथ से आकर फिसल गई,

    वाह वाह !!! क्या बात है,बहुत ही सुंदर गजल...

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,