शुक्रवार, 5 जुलाई 2013

गुजारिश,

गुजारिश 
 बागों में फूल तोडने गया
मगर कांटा चुभ गया
काँटों की गुजारिश थी
कि फूल बहुत कोमल है
हाथ न लगाओ,
मगर दिल बेचारे की दिल से गुजारिश थी,
कि वो फूल की खुशबू में डूबना चाहता है -
मगर क्या खबर माली को
अगर काँटा चुभ जाऐ
तो कितनी तकलीफ होती है दिल को,
फूल से अच्छे कांटे होते है
जो दामन को थाम लेते है.
दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
     जो हर वक्त नाम लेते है...  

dheerendra singh bhadouriya,

53 टिप्‍पणियां:

  1. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है...
    very right

    उत्तर देंहटाएं
  2. फूल से अच्छे कांटे होते है
    मुरझाने का खौफ़ नहीं होता
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. दोस्त से अच्छे दुसमन होते है जो हरवक्त नाम लेते हैं ....बहुत खूब !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है...
    बहुत खूब*********

    उत्तर देंहटाएं
  5. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    .बहुत लाजबाब .......

    उत्तर देंहटाएं
  6. खूबशूरत अहसाह ,बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  7. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है...

    वाकई नजर की बात है, बहुत ही खूबसूरत सोच.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही खूबसूरत सोच..बहुत लाजबाब .......

    उत्तर देंहटाएं
  9. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है...
    बहुत सुन्दर रचना...
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुती,अभार।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर और सटीक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  12. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है..
    बहुत सुन्दर ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो फूल के प्रहरी होते है !

    उत्तर देंहटाएं
  14. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है... वाह: बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी पोस्ट को आज की बुलेटिन अंतर्राष्ट्रीय जल सहयोग वर्ष .... ब्लॉग बुलेटिन में शामिल किया गया है। सादर ...आभार।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना शामिल करने के लिए आभार ,,, हर्षवर्धन जी

      हटाएं
  16. वाह , बहुत सुंदर , आभार


    यहाँ भी पधारे ,
    http://shoryamalik.blogspot.in/2013/07/blog-post_5.html

    उत्तर देंहटाएं
  17. behtareen bhawabhivyakti..
    .blog bulletin ke raste yahan pahuchna sukhad raha :)

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (07-07-2013) को <a href="http://charchamanch.blogspot.in/“ मँहगाई की बीन पे , नाच रहे हैं साँप” (चर्चा मंच-अंकः1299) <a href=" पर भी होगी!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर प्रस्तुति, बहुत लाजबाब

    उत्तर देंहटाएं
  20. मैं भी कितना भुलक्कड़ हो गया हूँ। नहीं जानता, काम का बोझ है या उम्र का दबाव!
    --
    पूर्व के कमेंट में सुधार!
    आपकी इस पोस्ट का लिंक आज रविवार (7-7-2013) को चर्चा मंच पर है।
    सूचनार्थ...!
    --

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मेरी रचना को मंच में शामिल करने के लिए आभार,,,

      हटाएं
  21. काँटों की चुभन और दिल की चाहत , सुंदर रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  22. कविता की अंतिम पंक्तियों ने धमाल मचा दिया

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत खूबसूरत ,सार्थक और सटीक काव्याभिव्यक्ति.....
    साभार ....


    उत्तर देंहटाएं
  24. बढ़िया है धीर भाई-
    शुभकामनायें-

    उत्तर देंहटाएं
  25. वाह बहुत सुन्दर...आखिरी चार पंक्तियाँ तो दिल को भा गईं।

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत खूब ... फूलों से अच्छे कांटे .... पर जब चुभते हाँ तो एहसास करा जाते हैं फूलों का भी ..

    उत्तर देंहटाएं
  27. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है... वाह बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  28. कांटे फूल की रक्षा करते हैं जो फूल को कष्ट पहुंचाता है उनका शिकार बन जाता है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  29. काँटा भी कभी कभी कितना सही होता है अपनी जगह पर
    सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  30. दोस्त से अच्छे दुश्मन.फ़ूल से भले कांटे.
    बहुत खूब !

    उत्तर देंहटाएं
  31. कसम खुदा की ऐसी ही मुस्कुराहटें देख आया हूँ भगवान के घर में जहां स्वयं भगवान ही होस्ट था उस जगह का नाम है -पीस विलेज ,ए ब्रह्माकुमारीस री -ट्रीट सेंटर ,पता है ,
    54 ,O'Hara Road (at Route 23 A ).Haines Falls ,New-York 124 36
    Phone :518 -589 -50000
    peace-village@bkwsu.org

    लेकिन आपने वहां जाए बगैर इतनी सुन्दर रचना लिख दी बुद्धि की आँखों से सचमुच त्रिनेत्रीं हैं आप .

    तस्बीह के दानों जैसी वह , लगती है सदा , पाकीज़ा सी !
    मरियम सी कभी,सीता सी कभी और चाहे बनना ज़हरा सी !

    हाँ ऐसी इच हैं ये सब शिव -शक्तियां .इनमें अमरीकी भी हैं .

    ॐ शान्ति .




    बहुत खूब .

    उत्तर देंहटाएं
  32. भावनाओं और यथार्थ में ऐसा ही कुछ अन्तर होता है । सुन्दर कविता । विलम्ब से, लेकिन हदय से आपको जन्मदिन की अनेकानेक बधाइयाँ । सादर ।

    उत्तर देंहटाएं
  33. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है...
    wah sir ji bahut khoob aanand aa gya

    उत्तर देंहटाएं
  34. फूल से अच्छे कांटे होते है
    जो दामन को थाम लेते है.
    दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है..

    सटीक बात कही भदौरिया साहब !

    उत्तर देंहटाएं
  35. आपका अनुभव हमेशा काम आयेगा। अच्छे अल्फाज़

    उत्तर देंहटाएं
  36. दोस्त से अच्छे दुश्मन होते है
    जो हर वक्त नाम लेते है...

    ..क्या बात है!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,