रविवार, 9 जून 2013

मैनें अपने कल को देखा,

  मैनें अपने कल को देखा, 

 

मैनें  अपने   कल  को  देखा
उन्मादित सपनों के छल से
  आहत  था झुठलाये  सच से, 

तृष्णा   की  परछाई  से , उसको  मैने  लड़ते  देखा,

मैने  अपने कल  को देखा
वर्तमान  से जो कुछ पाया
 उससे  लगता था घबडाया,

बीते कल की ओर पलट कर,जाने की कोशिश में देखा,

मैने  अपने  कल  को  देखा
जीवन-मरण संधि रेखा पर
  राह  न पाये  खोज  यहाँ पर, 

उसको  अपनी  दुर्बलता पर , फूट-फूट  कर  रोते  देखा,

मैने  अपने  कल  को  देखा,

  
रचनाकार -विक्रम सिंह
 लिंक - vikram7:



52 टिप्‍पणियां:

  1. उसको अपनी दुर्बलता पर , फूट-फूट कर रोते देखा,
    बेबस और कर भी क्या सकता है
    सार्थक अभिव्यक्ति
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक...
    और बेहतरीन......


    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. सार्थक और बेहतरीन अभिव्यक्ति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  4. sarthak satik aur samay ki shila pr jindgi ki tasbir ukerti sundar behatareen prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  5. अपने कल को कौन देख पाया है यहाँ....

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सही कहा है, विक्रम सिंह जी को हार्दिक शुभकामनाएं, आपका आभार.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  7. sarthak abhivykti samay aur zindgi ki tasbhir pesh karti behatareen prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  8. बीते कल की सीख , आने वाले कल को सुधार सकती है।

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन-मरण संधि रेखा पर
    राह न पाये खोज यहाँ पर,

    उसको अपनी दुर्बलता पर , फूट-फूट कर रोते देखा,

    .....बहुत संवेदनशील रचना...भावों और शब्दों का लाज़वाब संयोजन...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सार्थक और बेहतरीन प्रस्तुति!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. सार्थक और बेहतरीन अभिव्यक्ति,आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपकी यह रचना कल मंगलवार (11-06-2013) को ब्लॉग प्रसारण पर लिंक की गई है कृपया पधारें.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुंदर
    अच्छा लगा
    उम्दा अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  14. मैनें अपने कल को देखा
    उन्मादित सपनों के छल से
    आहत था झुठलाये सच से,

    तृष्णा की परछाई से , उसको मैने लड़ते देखा,
    vaah dheerendr ji .. bahut hi hridasparshi bhavon se yukt kavita !

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार (11-06-2013) के "चलता जब मैं थक जाता हुँ" (चर्चा मंच-अंकः1272) पर भी होगी!
    सादर...!
    शायद बहन राजेश कुमारी जी व्यस्त होंगी इसलिए मंगलवार की चर्चा मैंने ही लगाई है।
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर प्रस्तुति... विक्रम सिंह जी को हार्दिक शुभकामनाएं,...

    उत्तर देंहटाएं
  17. आपकी इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार ११ /६ /१ ३ के विशेष चर्चा मंच में शाम को राजेश कुमारी द्वारा की जायेगी वहां आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  18. दुआ चंदन
    बस रहे पावन
    जहाँ भी रहे !

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर.बहुत बढ़िया लिखा है .शुभकामनायें आपको .

    उत्तर देंहटाएं
  20. बेहतरीन शब्द और अभिव्यक्ति ...बधाई कवि को !!

    उत्तर देंहटाएं
  21. मैनें अपने कल को देखा
    उन्मादित सपनों के छल से
    आहत था झुठलाये सच से,

    बहुत प्रभावशाली पंक्तियाँ..

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह ... बहुत ही सटीक अभिव्यक्ति ... बीते हुए कल को देखना सुखद रहता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर मार्मिक अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  25. गहन ...बहुत गहन अभिव्यक्ति ....!!
    बधाई एवं शुभकामनायें .

    उत्तर देंहटाएं
  26. कभी-कभी डराता है ये सोचना कि कल क्‍या होगा..

    उत्तर देंहटाएं
  27. .बहुत सुन्दर भावों की अभिव्यक्ति आभार रुखसार-ए-सत्ता ने तुम्हें बीमार किया है . आप भी दें अपना मत सूरज पंचोली दंड के भागी .नारी ब्लोगर्स के लिए एक नयी शुरुआत आप भी जुड़ें WOMAN ABOUT MAN क्या क़र्ज़ अदा कर पाओगे?

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत सुन्दर प्रस्तुति ...जय श्री राधे
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  29. भावनात्मक , संवेदनशील बहुत सुन्दर रचना |

    उत्तर देंहटाएं

  30. सुंदर अनुभूति,बेहतरीन रचना
    बधाई

    आग्रह है- पापा ---------

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,