बुधवार, 5 जून 2013

हमने गजल पढी, (150 वीं पोस्ट )

हमने गजल पढी,

 

 एक झलक ही देखकर हमने गजल गढ़ी  
 पहली बार महफ़िल में हमने गजल पढ़ी, 

 

ऐसा था, उसका  रूप  वो परी लगी  मुझे
   आँखों में आँखें डालकर हमने गजल पढ़ी,  

 

देखने का मन हुआ जब अपने चाँद का
  घूँघट तनिक उठाकर हमने गजल पढ़ी, 

 

  जब भी छलकते आँसू  उसकी पलकों से   
 आँसुओ  में  डूबकर   हमने  गजल  पढ़ी, 

 

पीते  रहे  लोग, टकरा  रहे थे प्यालियाँ 
  होठों से होठ लगाकर हमने गजल पढ़ी,  

 

dheerendra singh bhadouriya

53 टिप्‍पणियां:

  1. हमने भी पूरे आनन्द में गजल पढ़ी।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. वाह मजा आ गया हमने मन लगाकर गजल पूरी गजल का आनंद पढ़ी।

      हटाएं
  2. वाह! ग़ज़ल सामने थी और ग़ज़ल पढ़ी..

    150 वीं पोस्ट की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. waaaaaaaaaah bhot achchi gazal bni hai waaaah 150th post kii badhaii

    उत्तर देंहटाएं
  4. रूमानियत से सराबोर ग़ज़ल क्या कहने दाद कबूल फरमाएं

    उत्तर देंहटाएं
  5. देखने का मन हुआ जब अपने चाँद का
    घूँघट तनिक उठाकर हमने गजल पढ़ी,

    जब भी छलकते आँसू उसकी पलकों से
    आँसुओ में डूबकर हमने गजल पढ़ी,

    वाह !!!!! 150 वीं पोस्ट पर शानदार गज़ल पढ़ी, शानदार............

    उत्तर देंहटाएं
  6. गजल पढ़ी जो आपने हमने सुनी और सुन कर बहुत आनंद आया

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत-बहुत बधाई आपके 150वीं पोस्ट के लिए
    और हार्दिक शुभकामनायें
    आने वाले अनगिनत पोस्ट के लिए
    उम्दा गजल आपने पढ़ी
    और धन्यवाद हमें पढ़वाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल...१५०वीं पोस्ट की बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुन्दर भावनात्मक अभिव्यक्ति . .आभार . मुलायम मन की पीड़ा साथ ही जानिए संपत्ति के अधिकार का इतिहास संपत्ति का अधिकार -3महिलाओं के लिए अनोखी शुरुआत आज ही जुड़ेंWOMAN ABOUT MAN

    उत्तर देंहटाएं
  10. हमने भी पढी आपकी गज़ल और आनंद भी उठाया ।

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बृहस्पतिवार (06-06-2013) को साहित्य में प्रदूषण ( चर्चा - 1267 ) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  12. आपके ग़ज़ल की क्या तारीफ करूँ वाह
    १५० वीं पोस्ट की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...
    १५० वीं पोस्ट की बधाई!

    उत्तर देंहटाएं
  14. वाह आदरणीय वाह सभी के सभी अशआर सुन्दर कहे हैं परन्तु इन अशआरों हेतु विशेष तौर पर दाद कुबूल फरमाएं.
    सा था, उसका रूप वो परी लगी मुझे
    आँखों में आँखें डालकर हमने गजल पढ़ी,

    देखने का मन हुआ जब अपने चाँद का
    घूँघट तनिक उठाकर हमने गजल पढ़ी,

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर !!
    १५० वीं पोस्ट की बधाई !!
    सादर आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  16. खूबसूरत गज़ल ………150 वीं पोस्ट की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह वाह...लाजवाब, 150 वीं पोस्ट की हार्दिक बधाईयां.

    रामराम.

    उत्तर देंहटाएं
  18. अनुपम, अद़भुद, अतुलनीय, अद्वितीय, निपुण, दक्ष, बढ़िया रचना बहुत बहुत बधाई
    हिन्‍दी तकनीकी क्षेत्र की रोचक और ज्ञानवर्धक जानकारियॉ प्राप्‍त करने के लिये एक बार अवश्‍य पधारें
    टिप्‍पणी के रूप में मार्गदर्शन प्रदान करने के साथ साथ पर अनुसरण कर अनुग्रहित करें
    MY BIG GUIDE
    नई पोस्‍ट
    अब 2D वीडियो को देखें 3D में

    उत्तर देंहटाएं
  19. क्या बात है भाई धीरेन्द्र जी -

    सबने गजल पढ़ी-

    शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर रचना ....१५० वीं पोस्ट की बधाई ..शुभकामनाये

    उत्तर देंहटाएं
  21. 150 वीं पोस्ट की हार्दिक बधाईयां.बहुत सुन्दर रचना धीरेन्द्र जी -...

    उत्तर देंहटाएं
  22. लाजवाब 150 वीं पोस्ट की हार्दिक बधाईयां...

    उत्तर देंहटाएं
  23. धीरू भाई! गज़ल पर महारत होती जा रही है और हर अगली गज़ल के साथ आप पिछले रिकोर्ड तोडते जा रहे हैं.. समझ में नहीं आता कि आपके हरेक शे'र पर क्या कहूँ.. सारे एक से एक है... हम तो आपको सिर्फ कवि ही माने बैठे थे, आप तो छुपे रुस्तम निकले!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. ऐसा था, उसका रूप वो परी लगी मुझे
    आँखों में आँखें डालकर हमने गजल पढ़ी,--------

    वाह भाई जी प्रेम का क्या गजब का अहसास है-----

    १ ५ ० वीं पोस्ट की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें

    उत्तर देंहटाएं
  25. बहुत खूब ...रोमानी अंदाज़
    150 वीं पोस्ट के लिए हार्दिक बधाईयाँ स्वीकार करें
    शुभ-कामनायें ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. १५० वि पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई .....हमने भी मन लगाकर पूरी ग़ज़ल पढ़ी...:)

    उत्तर देंहटाएं
  27. मेरी टिप्पणियाँ स्पैम में चली जाती हैं शायद .... 150 वीं पोस्ट की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत खूब
    150 वीं पोस्ट के लिए हार्दिक बधाईयाँ

    उत्तर देंहटाएं
  29. वाह वाह.....क्या खूब ग़ज़ल पढ़ी।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत ख़ूबसूरत ग़ज़ल.
    150वीं पोस्ट की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  31. १५० पोस्ट पर बधाई. उम्दा ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  32. 150 वीं पोस्ट की बहुत बहुत बधाई और शुभकामनायें बेहतरीन ग़ज़ल !!!

    उत्तर देंहटाएं
  33. मानना ही पड़ेगा कि बहुत सुंदर गज़ल पढ़ी.

    उत्तर देंहटाएं
  34. १५० वीं पोस्ट पर बहुत ढेर सारी बधाइयाँ.

    उत्तर देंहटाएं
  35. वाह शानदार !
    150 वीं पोस्ट की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  36. 150 वीं पोस्ट के लिए आपको हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  37. 150 वीं रचना पर हार्दिक बधाई .. और बहुत तन्मयता के साथ हमने भी गज़ल पढ़ी .. बहुत सुन्दर!

    उत्तर देंहटाएं
  38. 150वीं पोस्ट पर हार्दिक बधाई ,गज़ल पढ़ने का अंदाज़ बहुत भाया !

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत खूबसूरत रचना , सुंदर भावों का तालमेल

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,