शुक्रवार, 12 अप्रैल 2013

अमन के लिए.




  अमन के लिए.

खुशी मिलती यहाँ एक पल के लिए,
 बचा के कर रख प्यारे कल के लिए !


रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
मत गँवाना कपट और छल के लिए !

 
माना प्यार का लब्ज़ है अधूरा सही ,
है यही  बीज लेकिन फसल के लिए !

 
  जन्म मानव का फिर से मिलेगा नहीं ,
  अर्पण करदे ये जीवन निर्बल के लिए !

 
क्या था लाया वहाँ से जो ले जाएगा ,
धीर सब कुछ लुटा दे अमन के लिए !

dheerendra,"dheer"

56 टिप्‍पणियां:

  1. वाह!!! बहुत बढ़िया | आनंदमय | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  2. bahut sundar माना प्यार का लब्ज़ है अधूरा सही ,
    है यही बीज लेकिन फसल के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  3. रेत की तरह फिसलता समय..सच कहा!
    बहुत अच्छे भाव.

    उत्तर देंहटाएं
  4. जन्म मानव का फिर से मिलेगा नहीं ,
    अर्पण करदे ये जीवन निर्बल के लिए !

    क्या था लाया वहाँ से जो ले जाएगा ,
    धीर सब कुछ लुटा दे अमन के लिए !-बहुत बढ़िया प्रेरक रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  5. क्या था लाया वहाँ से जो ले जाएगा ,
    धीर सब कुछ लुटा दे अमन के लिए !... वाह!
    बेहतरीन पंक्तियाँ धीरेन्द्र जी!

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि-
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज शनिवार (13-04-2013) के रंग बिरंगी खट्टी मीठी चर्चा-चर्चा मंच 1213
    (मयंक का कोना)
    पर भी होगी!
    बैशाखी और नवरात्रों की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ!
    सूचनार्थ...सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  7. अशआर दिल को मेरे सुकूँ दे गये
    बधाई आपकी खूबसूरत गज़ल के लिए....

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत ही सुन्दर प्रेरक ग़ज़ल की प्रस्तुति,आभार आदरणीय.

    उत्तर देंहटाएं
  9. क्या था लाया वहाँ से जो ले जाएगा ,
    धीर सब कुछ लुटा दे अमन के लिए !
    समाज को पैगाम देने की अच्छी कोशिश है , इसी तरह अमन का प्रयास जारी रखना।

    उत्तर देंहटाएं
  10. खुशी मिलती यहाँ एक पल के लिए,
    बचा के कर रख प्यारे कल के लिए !
    भाव और अर्थ में कल्याण कारी अर्चना ,धीर साहब दूसरी पंक्ति यूं कर लें -

    बचा करके रख प्यारे कल के लिए या

    बचा के रख प्यारे कल के लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  11. रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !
    सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  12. रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !
    बहुत ही सुन्दर पैगाम ....
    आभार !!

    उत्तर देंहटाएं
  13. रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !
    बहुत ही सुन्दर पैगाम ....
    आभार !!

    उत्तर देंहटाएं

  14. रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !
    bahut sundar bhavnaon ko shabdon me piriya hai aapne .

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुन्दर व् सार्थक प्रस्तुति . हार्दिक आभार नवसंवत्सर की बहुत बहुत शुभकामनायें हम हिंदी चिट्ठाकार हैं

    BHARTIY NARI
    PLEASE VISIT .

    उत्तर देंहटाएं
  16. नान को छूती भावपूर्ण प्रस्तुति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं

  17. बहुत सुन्दर....बेहतरीन रचना
    पधारें "आँसुओं के मोती"

    उत्तर देंहटाएं
  18. जन्म मानव का फिर से मिलेगा नहीं ,
    अर्पण करदे ये जीवन निर्बल के लिए !

    वाह!! वाह!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर....बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत सुन्दर....बेहतरीन रचना धीरेन्दर जी

    उत्तर देंहटाएं
  21. रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !

    बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  22. धीर सब कुछ लुटा दे अमन के लिए.
    ------------
    बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  23. रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !

    बहुत सुन्दर...

    उत्तर देंहटाएं
  24. खुशी मिलती यहाँ एक पल के लिए,
    बचा के कर रख प्यारे कल के लिए !------------सही नसीहत

    रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !----प्रेरणा दायक

    माना प्यार का लब्ज़ है अधूरा सही ,
    है यही बीज लेकिन फसल के लिए !-----बेशकीमती शेर

    जन्म मानव का फिर से मिलेगा नहीं ,
    अर्पण करदे ये जीवन निर्बल के लिए !-----शानदार भाव

    क्या था लाया वहाँ से जो ले जाएगा ,
    धीर सब कुछ लुटा दे अमन के लिए !----खाली हाथ ही जाना है यही जीवन की अंतिम सच्चाई है ---आदरणीय धीर जी ये प्रस्तुति मुझे बहुत ही ज्यादा पसंद आई दिली दाद कबूल कीजिये

    उत्तर देंहटाएं
  25. जन्म मानव का फिर से मिलेगा नहीं ,
    अर्पण करदे ये जीवन निर्बल के लिए !

    काश सब ऐसा सोचे और ऐसा आचरण भी करे.
    सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  26. माना प्यार का लब्ज़ है अधूरा सही ,
    है यही बीज लेकिन फसल के लिए ..

    प्यार तो अपने आप में ईश्वर है फिर अधूरा कैसे ... येही निर्माण है ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. जन्म मानव का फिर से मिलेगा नहीं ,
    अर्पण करदे ये जीवन निर्बल के लिए

    bahut hi prabhavshali panktiyan ......abhar

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत प्रेरक भावों से युक्त रचना...लब्ज की जगह शायद लफ़्ज होना चाहिए.

    उत्तर देंहटाएं
  29. क्या था लाया वहाँ से जो ले जाएगा ,
    धीर सब कुछ लुटा दे अमन के लिए
    बहुत बढ़िया !

    उत्तर देंहटाएं
  30. प्रेरणादायक पंक्तियाँ......बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. जन्म मानव का फिर से मिलेगा नहीं ,
    अर्पण करदे ये जीवन निर्बल के लिए !-----शानदार भाव

    उत्तर देंहटाएं
  32. माना प्यार का लब्ज़ है अधूरा सही ,
    है यही बीज लेकिन फसल के लिए !
    वाह क्या बात है ...

    ब्लॉग पर मेरी मेरी पहली पोस्ट : : माँ
    (नया नया ब्लॉगर हूँ तो ...आपकी सहायता की महती आवश्यकता है .. अच्छा लगे तो मेरे ब्लॉग से भी जुड़ें।)

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्दर.,बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  34. 'है यही बीज लेकिन फसल के लिए' ऐसी सकारात्मक सोच से भरी रचना के लिए बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  35. रेत के जैसा फिसलता हुआ वक़्त है ,
    मत गँवाना कपट और छल के लिए !----सुन्दर ग़ज़ल...बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत सुन्दर.,बेहतरीन रचना

    उत्तर देंहटाएं
  37. इस टिप्पणी को लेखक द्वारा हटा दिया गया है.

    उत्तर देंहटाएं
  38. माना प्यार का लब्ज़ है अधूरा सही ,
    है यही बीज लेकिन फसल के लिए !
    nice lines

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,