गुरुवार, 7 फ़रवरी 2013

रिश्वत लिए वगैर...

रिश्वत लिए वगैर...

टिप्पणी नही करेगें अब बिना लिये वगैर,
हम दाद नही देगें  , कुछ खाए पिए वगैर!

टिप्पणी विहीन रचना को श्रीहीन समझिए,
त्यौहार मुहर्रम का हो  , जैसे ताजिऐ बगैर!

लेख लिख  टुकड़े में कर कविता है बनाते
कविताए नही चलेगी,तुकबंदी किये बगैर 

क्या  हो रहा आज, कविता के नाम पर
गजलें नही चलेंगी बिना काफिऐ बगैर!

उत्तर की प्रतीक्षा में , है एक प्रश्न यह भी
कवि क्यों नही सुनते,कविता पिए बगैर!

जीवन  के हर क्षेत्र में रिश्वत है जरूरी
फिर रहे धीर क्यों रिश्वत लिये बगैर!


DHEERENDRA,"dheer"

66 टिप्‍पणियां:

  1. कहिये धीर साहब ... मै आपको रिश्वत में क्या दूं ?

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलिए कोई बात नहीं पहले तो टिप्पणी हम कर रहें हैं तो आप हमको रिश्वत दे दीजिए बाद में हम आपको दे देंगे !!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बिलकुल सही कहा अपने!
    जब तक किसी के ब्लॉग पर जाकर टिप्पणी न करो तबतक कोई प्रतिक्रिया ही नहीं आती !

    उत्तर देंहटाएं
  4. टिप्पणी नही करेगें अब बिना लिये वगैर,
    हम दाद नही देगें , कुछ खाए पिए वगैर!
    majedar rachna :)

    उत्तर देंहटाएं
  5. sundar vyang aur kamobes ak hakikat bhi,NEW POST "Budhi ma ke aanchal..."

    उत्तर देंहटाएं
  6. हृष्ट-पुष्ट रिश्वत रखे, बम बम रिश्वत खोर |
    देते लेते निकलते, चन्दा चोंच चकोर |
    चन्दा चोंच चकोर, चतुर चुटकियाँ बजाते |
    काम निकलता देख, रोक खुद को ना पाते |
    बढ़ता मध्य-प्रदेश, अरब-पति नौकर पाए |
    लेना देना सत्य, नहीं रविकर शरमाये ||

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. रिश्वत में ताकत बड़ी,कठिन काज हों सिद्ध
      जो इसका सेवन करें , सदा रहें समृद्ध
      सदा रहें समृद्ध , कई पीढ़ी को तारें
      हजम करें तर माल , बिना ही लिये डकारें
      किंतु मित्र यह कला,नहीं सबकी किस्मत में
      कठिन काज हों सिद्ध,बड़ी ताकत रिश्वत में ||

      हटाएं
  7. टिप्पणी नही करेगें अब बिना लिये वगैर,
    हम दाद नही देगें, कुछ खाए पिए वगैर!

    टिप्पणी दे या ना दे खिलाने पिलाने में कोई कसर नहीं होनी चाहिए.

    सुंदर व्यंग.

    उत्तर देंहटाएं
  8. बताइये धीर जी क्या ख़िदमत करूँ जो आप मेरी टिप्पणी स्वीकार करेंगे बस दाद देती हूँ कबूल कीजिये बहुत मजेदार प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. जीवन के हर क्षेत्र में रिश्वत है जरूरी
    फिर रहे धीर क्यों रिश्वत लिये बगैर!
    Hameshaa ki tarah Saarthak Rachanaa !!

    जीवन के हर क्षेत्र में रिश्वत है nahi जरूरी
    फिर रहे धीर Adhir क्यों रिश्वत लिये बगैर ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह... हर जगह रिश्वत का बोलबाला है... बहुत बढ़िया रचना

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 09/02/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. लेन देन के बिना कहाँ काम चलता है :-)

    बढ़िया करारी रचना..
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  13. :):) आपने तो खुले आम धमकी ही दे डाली :):) बढ़िया कटाक्ष / सटीक सच

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूब...यहाँ भी रिश्वत का बोलबाला ...क्या बात है..अच्छा व्यंग्य!

    उत्तर देंहटाएं
  15. सटीक व्यंग्य ! शानदार रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  16. लेख लिख टुकड़े में कर कविता है बनाते
    कविताए नही चलेगी,तुकबंदी किये बगैर

    बहुत सुंदर ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. त्यौहार मुहर्रम का हो , जैसे ताजिऐ बगैर!nice

    उत्तर देंहटाएं
  18. इस हाथ दे उस हाथ ले .बार्टर सिस्टम चलता है ब्लॉग जगत में .हम तो एक के साथ एक फ्री करके आते हैं .आप एक करो हम दो टिपण्णी करते हैं .


    कई महानता का लिहाफ ओढ़े रहतें हैं इन्हें नहीं पता यहाँ -न कोई रहा है न कोई रहेगा ....किसी के घर नहीं आते जाते ये लोग ,घर घुस्सू बने रहतें हैं .हम अपनी टिपियाने की आदत से मजबूर ये न

    टिपियाने की जिद पे कायम हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति आज शुक्रवार के चर्चा मंच पर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  20. अब आ गए हैं पढ़ लिए हैं छक भी लिए हैं
    जाएँगे नहीं अब तो टिप्पी दिये बगैर...

    उत्तर देंहटाएं
  21. जिनको रदीफ़ रुक्न काफिये का इल्म है
    वो ही गजल कहें खुशी खुशी हिचक बगैर

    उत्तर देंहटाएं
  22. लेख लिख टुकड़े में कर कविता है बनाते
    कविताए नही चलेगी,तुकबंदी किये बगैर

    बहुत खूब !



    उत्तर देंहटाएं
  23. इस टिप्पणी के लिए कितनी राशि तय है ? :)

    उत्तर देंहटाएं
  24. जीवन के हर क्षेत्र में रिश्वत है जरूरी
    फिर रहे धीर क्यों रिश्वत लिये बगैर!
    हा-हा-हा।।। धीरेन्द्र जी खूब रिश्वत खाइए और सेहत बनाइये :)

    उत्तर देंहटाएं
  25. आपकी रिश्वत हाजिर है सर, अब हमें भी देते रहें....... रिश्वत
    क्या बात है जी वाकई खाए पिए बिन कोई बात नहीं,
    पहले पेट पूजा फिर काम दूजा

    गुज़ारिश : ''......यह तो मौसम का जादू है मितवा......''

    उत्तर देंहटाएं
  26. haha
    bahut khub...laalach, rishwat k aadi ho gaye hain sab sahi mein...
    ye panktiyan khaas pasand aayi, karara vyang lagaya hai:
    लेख लिख टुकड़े में कर कविता है बनाते
    कविताए नही चलेगी,तुकबंदी किये बगैर

    उत्तर देंहटाएं
  27. अरे आप टिप्पणी दें न दे ...हम वैसे ही टिप्पणी दे देंगे ...:)

    उत्तर देंहटाएं
  28. वाह सर वाह एक नए और अलग अंदाज में लिखी खूबसूरत रचना हार्दिक बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  29. दोस्तों, अब और क्या तौहीन होगी देश की ,
    घूसखोरी के हुक पे लटकी चेतना इस देस की
    टिप्पड़ी है बिक रही टिप्पड़ी के भाव पर ***दम है बेशक सर की बात में

    उत्तर देंहटाएं
  30. धीरेन्द्र जी, रिश्वत की बात यहाँ भी...कविता को तो बख्शिये..

    उत्तर देंहटाएं
  31. उत्तर की प्रतीक्षा में , है एक प्रश्न यह भी
    कवि क्यों नही सुनते,कविता पिए बगैर!
    बहुत खूब . सुन्दर प्रस्तुति .

    उत्तर देंहटाएं
  32. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार (9-2-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  33. रिश्वत पर शानदार व्यंग करती कविता।

    मेरी नई पोस्ट "जन्म दिवस : डॉ. जाकिर हुसैन" को भी पढ़े। धन्यवाद।
    ब्लॉग पता :- gyaan-sansaar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  34. एक बौछार था वो शख्स - ब्लॉग बुलेटिन ग़ज़ल सम्राट स्व॰ जगजीत सिंह साहब को समर्पित आज की ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  35. उत्तर की प्रतीक्षा में , है एक प्रश्न यह भी
    कवि क्यों नही सुनते,कविता पिए बगैर.....खूब

    उत्तर देंहटाएं

  36. उत्तर की प्रतीक्षा में , है एक प्रश्न यह भी
    कवि क्यों नही सुनते,कविता पिए बगैर!
    निःशब्द करती रचना

    उत्तर देंहटाएं
  37. इस रचना के टिप्पड़ी के लिए शब्द नही,लाजबाब कर दिए,बहुर ही उत्कृष्ट कोटि की रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  38. टिप्पणी करना या न करना पाठक का विशेषाधिकार होता है। टिप्पणी रहित ब्लॉग पोस्ट का आशय नहीं होता कि वह स्तरहीन है अथवा पसंद नहीं की गयी।


    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  39. श्रेष्ठ कृति को प्रशंसा की आवश्यकता नहीं होती,
    प्रशंसा को श्रेष्ठ कृति की आवश्यकता होती है.....

    उत्तर देंहटाएं
  40. टिप्पणी नही करेगें अब बिना लिये वगैर,
    हम दाद नही देगें , कुछ खाए पिए वगैर!
    ..बिना ईंधन के गाडी चले भला कैसे!
    बहुत खूब!

    उत्तर देंहटाएं
  41. लेख लिख टुकड़े में कर कविता है बनाते
    कविताए नही चलेगी,तुकबंदी किये बगैर

    http://sarikkhan.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  42. तुम भी ले लो हम भी ले-ले
    मिल बाट के सब कोई खा ले।।
    टेबुल ऊपर क्या हाथ मिलाना
    निचे खाली उपयोग में लाना।।
    वो दिल ही क्या जो न डोला
    यु दीखते है सब कोई भोला।।
    ये चाहत सब नहीं बताते
    लक्ष्मी से भला कौन शरमाते।।
    गुरु धीर की ये गंभीर है वाणी
    उल्टा समझे तो फिर पछतानी।।

    उत्तर देंहटाएं
  43. बहुत बढ़िया ... ये तो रिश्वत

    उत्तर देंहटाएं
  44. सुंदर पैसे बाद में ले लूंगा !

    उत्तर देंहटाएं
  45. बहुत करारा किन्तु सत्य !!

    उत्तर देंहटाएं
  46. हम आ गये, पढ़ लिये, टिप्पणी किये बगैर
    जा सकते नहीं हम मगर टिप्पणी किये बगैर।

    छा ही जाते हैं जो महफिल में बार-बार
    वे और खुशनसीब हैं टिप्पणी किये बगैर।

    उत्तर देंहटाएं
  47. क्या बात है सर ... टिप्पणी की महिमा अपरम्पार ...

    उत्तर देंहटाएं
  48. वाह धीरेन्द्र जी वाह.........बहुत ही बढिया ।

    उत्तर देंहटाएं
  49. जनाब रिश्वत लेकर तो दुनिया में सभी काम करते हैं | असल मज़ा तो तब हो जब ये लेन देन का रिवाज ख़तम हो जायेगा और सब निश्चल भाव से एक दुसरे की मदद करना आरम्भ कर देंगे | टिपण्णी के बदले में टिपण्णी करने में कैसा मज़ा | बात तो तब हो जब कोई पोस्ट पसंद आए और बिना किसी लालच के ही उस पर सहज भाव से टिपण्णी दी जाये | ऐसा मेरा मानना है ज़रूर नहीं हर एक यही सोचता हो | आपकी रचना पूर्ण रूप से आज के परिवेश के हिसाब से सार्थक है | बहुत सुन्दर | आभार

    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    उत्तर देंहटाएं
  50. जब सब ले ही रहे है तो आप का भी हक़ बनता है ...सुंदर व्यंग्यात्मक पद

    उत्तर देंहटाएं
  51. रिश्वत लिए बिना, होय न कोई काज,
    बिना रिश्वत दिए, मनायें अपनी खैर !!

    रिश्वत शान बढ़ाये, रिश्वत का है राज,
    कैसे कमेंट करेंगे, रिश्वत लिए बगैर !!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,