शुक्रवार, 1 मार्च 2013

पिता,

 
मेरे पिता स्व०श्री - भानु प्रताप सिंह जी भदौरिया, 

पिता 
 सरसी छंद     
(१६,११, कुल २७मात्राए,पदांत में दीर्घ लघु )  

चलते-चलते कभी न थकते,ऐसे होते पाँव!
  पिता ही सभी को देते है,बरगद जैसी छाँव!! 

परिश्रम करते रहते दिनभर,कभी न थकता हाथ!
कोई नही दे सकता कभी, पापा जैसा साथ!!

बच्चो के सुख-दुःख की खातिर,दिन देखें न रात!
हरदम तैयार खड़ें रहते,देने को सौगात!!

पिता नही है जिनके पूछे,उनके दिल का हाल!
नयन भीग जाते है उनके,हो जाते बेहाल!!

हमारे बीच में नही पिता,तब आया है ज्ञान!  
हर पग पर आशीर्वाद मिले,चाहे हर संतान!! 

58 टिप्‍पणियां:

  1. चलते-चलते कभी न थकते,ऐसे होते पाँव!
    पिता ही सभी को देते है,बरगद जैसी छाँव!!

    विनम्र नमन ... बहुत सुंदर पंक्तियाँ है

    उत्तर देंहटाएं
  2. चलते-चलते कभी न थकते, ऐसे होते पाँव!
    पिता देत संतान को, बरगद जैसी छाँव!!
    --
    आपकी इस पोस्ट का लिंक आज शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी है!

    उत्तर देंहटाएं
  3. पिता को समर्पित शानदार रचना |

    बच्चो के सुख-दुःख की खातिर,दिन देखें न रात!
    हरदम तैयार खड़ें रहते,देने को सौगात!!
    @ पर आजकल में नालायक बच्चों ने तो नारा दे रखा है पितृ सत्ता धोखा है धक्का मारो मौका है !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. BEAD BHAVPURN AUR SAKARATMK PRASTUTI चलते-चलते कभी न थकते, ऐसे होते पाँव!
    पिता देत संतान को, बरगद जैसी छाँव!!

    उत्तर देंहटाएं
  5. कोई नही दे सकता कभी, पापा जैसा साथ!!
    ---------------------------------------------
    बिलकुल सही बात ... बढ़िया ..

    उत्तर देंहटाएं
  6. श्रद्धा पूर्वक नमन पिता जी को !!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बच्चो के सुख-दुःख की खातिर,दिन देखें न रात!
    हरदम तैयार खड़ें रहते,देने को सौगात!!

    पिता जी को समर्पित बेहतरीन रचना ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. चलते-चलते कभी न थकते, ऐसे होते पाँव!
    पिता देत संतान को, बरगद जैसी छाँव!!

    उत्तर देंहटाएं
  9. पिता नही है जिनके पूछे,उनके दिल का हाल!
    नयन भीग जाते है उनके,हो जाते बेहाल!!

    बहुत ही सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति ...
    Really I miss him tooo much ..:(

    उत्तर देंहटाएं
  10. चलते-चलते कभी न थकते,ऐसे होते पाँव!
    पिता ही सभी को देते है,बरगद जैसी छाँव!!
    पिता ही पुरे परिवार का बरगत का पेड़ है-- लाजवाब अभिव्यक्ति !
    latest post मोहन कुछ तो बोलो!
    latest postक्षणिकाएँ

    उत्तर देंहटाएं
  11. सादर नमन -
    शुभकामनायें आदरणीय ||

    उत्तर देंहटाएं
  12. अक्सर वक़्त गुजर जाने के बाद अपनी थकान से बहुत कुछ समझ में आता है

    उत्तर देंहटाएं
  13. पिता का आशीष सदैव बना रहता है..उनको मेरा नमन..

    उत्तर देंहटाएं
  14. चलते-चलते कभी न थकते,ऐसे होते पाँव!
    पिता ही सभी को देते है,बरगद जैसी छाँव!!
    bahut sundar dohe ....
    shubhkamnayen .

    उत्तर देंहटाएं
  15. हमारे बीच में नही पिता,तब आया है ज्ञान!
    हर पग पर आशीर्वाद मिले,चाहे हर संतान!!

    ....बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर रचना पिता के निस्स्वार्थ प्रेम को रूपायित करती -

    हमारे बीच में नही पिता,तब आया है ज्ञान!
    हर पग पर आशीर्वाद मिले,चाहे हर संतान!!

    इस पद को छोड़ सभी में "है" के स्थान पर" हैं "कर लें .रचना का सौंदर्य बढ़ जाएगा .शुक्रिया आपकी टिपण्णी का .

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत भावुक कर दिया आपने ...सच .... पिता का प्रेम तो आकाश की तरह है ....हर समय सर पर छाया करता जैसा

    उत्तर देंहटाएं
  18. सत्य लिखा है... पिता की छाया मात्र से हमारे अशांत मन को भी शांती मिल जाती है।

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत भावुक प्रस्तुति-NEW POST- 1.THOKAR PE ZAMANA HOGA, AUR 2.
    VIZA SANG BOFORS BHI LAYEEHU

    उत्तर देंहटाएं
  20. सत्य लिखा है सर.... सार्थक रचना के लिए आपका आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  21. चलते-चलते कभी न थकते,ऐसे होते पाँव!
    पिता ही सभी को देते है,बरगद जैसी छाँव!!

    विनम्र नमन ... बहुत सुंदर पंक्तियाँ है

    उत्तर देंहटाएं
  22. परिश्रम करते रहते दिनभर,कभी न थकता हाथ!
    कोई नही दे सकता कभी, पापा जैसा साथ!!

    बहुत ही खुबसूरत पंक्तियाँ . बाबूजी को सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं
  23. सच में पिता का बड़ा ही महत्वपूर्ण स्थान होता है सबके लिए ...
    सुन्दर रचना
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  24. .बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  25. .बहुत सुन्दर और सार्थक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  26. वाह! बहुत ही सुन्दर दोहे लिखे है आपने. पिता के लिए अनमोल दोहे
    सादर
    नीरज'नीर'
    मेरी नयी कविताएँ
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा): धर्म से शिकायत
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा): जमी हुई नदी

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति,सादर नमन.

    उत्तर देंहटाएं
  28. धीरेन्द्र जी आपने शायद ध्यान नहीं दिया, मैने पहले ही आपका ब्लॉग ज्वाइन किया हुआ है.
    नीरज 'नीर'
    अपनी इस रचना पर आपकी तवज्जो चाहूँगा
    KAVYA SUDHA (काव्य सुधा): सुन्दर सी एक बाला रे.

    उत्तर देंहटाएं
  29. पिता को नमन..सुंदर भाव !

    उत्तर देंहटाएं
  30. सच कहा आपने :- कोई नहीं दे सकता कभी, पापा जैसा साथ !!
    सुन्दर कविता मन को छू गई।

    मेरी नयी पोस्टें :- महंगाई

    चन्द्रशेखर आजाद का शहीद दिवस

    उत्तर देंहटाएं
  31. पिता जी को सादर नमन.....सुन्दर पंक्तियाँ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत सही.
    आप ने अपने पिताजी को भावों की बहुत सुन्दर काव्यांजलि दी है.
    हमारा भी सादर नमन .

    उत्तर देंहटाएं
  33. BlogVarta.com पहला हिंदी ब्लोग्गेर्स का मंच है जो ब्लॉग एग्रेगेटर के साथ साथ हिंदी कम्युनिटी वेबसाइट भी है! आज ही सदस्य बनें और अपना ब्लॉग जोड़ें!

    धन्यवाद
    www.blogvarta.com

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत सुंदर अभिव्यक्ति है ......
    सादर , आपकी बहतरीन प्रस्तुती

    आज की मेरी नई रचना आपके विचारो के इंतजार में
    पृथिवी (कौन सुनेगा मेरा दर्द ) ?

    ये कैसी मोहब्बत है

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत ही सुन्दर रचना...
    श्रद्धापूर्वक नमन....

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत ही शानदार रचना। इससे पता चलता है कि आप अपने पिताजी से कितना प्यार करते हैं। धन्यवाद।

    नये लेख :- एक नया ब्लॉग एग्रीगेटर (संकलक) ब्लॉगवार्ता।
    राष्ट्रीय विज्ञान दिवस पर विशेष : रमन प्रभाव।

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत सुन्दर काव्यांजलि दी है.
    हमारा भी सादर नमन .

    उत्तर देंहटाएं
  38. चलते-चलते कभी न थकते,ऐसे होते पाँव!
    पिता ही सभी को देते है,बरगद जैसी छाँव!!

    सुन्दर श्रद्धांजलि

    उत्तर देंहटाएं
  39. सच मे पिता का साथ वटवृक्ष के समान ही होता है .... सादर नमन्

    उत्तर देंहटाएं
  40. बड़े पेड़ की छाँव सा पिता हृदय..

    उत्तर देंहटाएं
  41. चाह तो सभी की होती है लेकिन पाने में सफलता सभी नहीं पातें.

    नमन पिता जी को. सुंदर प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  42. आदरणीय पिता जी को विन्रम नमन.... आदरणीय आपने पिता श्री को बहुत ही सुन्दर उपहार भेंट किया है वे अवश्य प्रसन्न हुए होंगे. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  43. बच्चो के सुख-दुःख की खातिर,दिन देखें न रात!
    हरदम तैयार खड़ें रहते,देने को सौगात!!..

    बरगद से इता की छाँव में जीवन कितना फैला फूलता है सभी जानते मानते हैं ... उस पिता को समर्र्पित दोहे बहुत ही कमाल हैं ...

    उत्तर देंहटाएं
  44. पिता जी को सादर नमन। अत्‍यन्‍त सार्थक।

    उत्तर देंहटाएं
  45. sanskaron ko jeevant karanewali ak mahan rachanna rachanakar ki lekhani ko mera naman sweekaren Bhadauriya ji .

    उत्तर देंहटाएं
  46. bahut sundar ..pitaji ki photo bahut young age ki hai ..kaise kaise khoobsoorat chehre kaal ki bhent chadh gye ...mn jane kaisa kaisa ho aaya hai...

    उत्तर देंहटाएं
  47. ह्रदय से उपजे सरसी छंद में पिताश्री के लिए सच्ची काव्यांजलि , नमन...

    उत्तर देंहटाएं
  48. ऐसे पिता के प्रति श्रधा और नमन |

    उत्तर देंहटाएं
  49. एक-एक छंद मन को छू लेने वाला ,
    जाने के बाद अपने बहुत याद आते हैं
    पिताश्री को नमन ..........
    साभार

    उत्तर देंहटाएं
  50. पिता के लिये बहुत सुंदर कविता । पिताजी की याद बहुत आई ।

    उत्तर देंहटाएं
  51. मन को छूती पोस्‍ट ...
    सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,