सोमवार, 14 जनवरी 2013

मातृभूमि,,,




मातृभूमि के अमर सपूतो,
अब  ना  तुम  विलंब करो !

भारत माँ  के सरहद पर,
शत्रु  का तुम हनन करो !!

जनजन की आवाज यही,
भारत को  आज बचाएगें !

हिंदू,मुसलिम,सिक्ख,इसाई,
सबको प्रेम का पाठ पढ़ाएगें!!

नई एकता की सोच को लेकर,
भारत  का  नव  निर्माण करो!

प्रकृति ने एक संकेत दिया है,

देश  का  नया  उत्थान करो!!

निज जीवन में खून तुम्हारा,
अर्पण  यह  बलिदान बनेगा!

मातृभूमि की जय जयकार,
सारा   हिन्दुस्तान   करेगा !!


 
dheerendra, bhadauriya   

53 टिप्‍पणियां:

  1. भाई जी ..समय की पुकार ......
    जय हिन्द !

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस उत्कृष्ट पोस्ट की चर्चा बुधवार (16-01-13) के चर्चा मंच पर भी है | जरूर पधारें |
    सूचनार्थ |

    उत्तर देंहटाएं
  3. ओजस्वी रचना के लिए बधाई!
    मकरसंक्रान्ति की शौभकामनाएँ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. देश भक्तिपूर्ण उम्दा रचना |कविता बहुत अच्छी लगी धीरेन्द्र जी |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  5. सर्वप्रथम उन शहीदों को शत शत नमन!

    रचना अति सुन्दर, जगाता भाव हमारे अन्दर

    देश के खातिर मर मिट जाओ, प्रेम की गंगा बहाओ

    रहे वतन में ही नहीं, वरन विश्व में शान्ति -अमन

    शुक्रिया एवं बहुत बहुत बधाई .......

    उत्तर देंहटाएं
  6. जोश खरोश शुभ भावना ,शुभ संकल्पों की रचना है यह .बधाई .निश्चय ही सरकार की हर स्तर पर असफलता लोगों को एक जगह पे ले आई है .

    उत्तर देंहटाएं
  7. देशभक्ति की भावना लिए बहुत ही बेहतरीन रचना...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वामी जी की सीख प्रभु, कर दे सबको बाध्य ।

    सर्वोपरि हो देश हित, मातृभूमि आराध्य ।
    मातृभूमि आराध्य, धर्म से ऊपर दर्जा ।

    जाति-पंथ की बात, करेगी अब नहिं परजा ।

    कहें विवेकानंद, भरो तुम सारे हामी ।

    जीवन भर आनंद, कहे कब का यह स्वामी ।।

    उत्तर देंहटाएं
  9. 26 जनवरी आने ही वाली है। देशभक्त रचना के लिए बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  10. हिंदू,मुसलिम,सिक्ख,इसाई,
    सबको प्रेम का पाठ पढ़ाएगें!!
    padhna kaun chahata hai ? sirf ladana ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  12. मातृभूमि की रक्षा में वीर सपूत लगे हुये हैं ... पर वीर सपूतों के लिए हम और हमारी सरकार क्या कर रही है ...

    सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  13. समय की पुकार, सेना दिवस पर अपने वर सैनिकों को सलाम !

    उत्तर देंहटाएं
  14. निज जीवन में खून तुम्हारा,
    अर्पण यह बलिदान बनेगा!
    मातृभूमि की जय जयकार,
    सारा हिन्दुस्तान करेगा !!
    बहुत खूबसूरत पंक्तियाँ . सुंदर प्रस्तुति
    वाह .बहुत सुन्दर

    उत्तर देंहटाएं
  15. उम्दा प्रस्तुति ...सेना दिवस पर शहीदों और वीर सैनिकों को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  16. भारत माँ के सरहद पर,
    शत्रु का तुम हनन करो ..

    आमीन ... ये तो कल ही होना था ... पर अगर आज भी तो अच्छा है ...
    पर अब हो जाना चाहिए ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. वाह ... बहुत ही बढिया। .सेना दिवस पर शहीदों और वीर सैनिकों को नमन

    उत्तर देंहटाएं
  18. देशभक्ति से ओतप्रोत बहुत ही उत्कृष्ट रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  19. नई एकता की सोच को लेकर,
    भारत का नव निर्माण करो!

    सार्थक रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  20. सुंदर सार्थक भाव लिए प्रेरणात्मक रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  21. नई एकता की सोच को लेकर,
    भारत का नव निर्माण करो!

    प्रकृति ने एक संकेत दिया है,
    देश का नया उत्थान करो!!

    देश प्रेम को समर्पित सुंदर रचना............

    उत्तर देंहटाएं
  22. ....यह हमारे नेताओं को सोचना है कि वे हमारे देश की प्रतिष्ठा कैसे बचाते हैं ?

    उत्तर देंहटाएं
  23. सार्थक भाव, सुंदर रचना, देशभक्ति से ओतप्रोत प्रस्तुति .****^^^^****नई एकता की सोच को लेकर,
    भारत का नव निर्माण करो!

    प्रकृति ने एक संकेत दिया है,
    देश का नया उत्थान करो!!

    निज जीवन में खून तुम्हारा,
    अर्पण यह बलिदान बनेगा!

    मातृभूमि की जय जयकार,
    सारा हिन्दुस्तान करेगा !!

    उत्तर देंहटाएं
  24. देशप्रेम से प्रेरित
    सच्ची पुकार है यह ....

    उत्तर देंहटाएं
  25. देश प्रेम को समर्पित शानदार रचना सर हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  26. निज जीवन में खून तुम्हारा,
    अर्पण यह बलिदान बनेगा!

    मातृभूमि की जय जयकार,
    सारा हिन्दुस्तान करेगा !!

    देश प्रेम को समर्पित रचना हार्दिक बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  27. lahhu ab akheno mai akar jam gaya hai.........or pani ab sar ke upar chad gaya hai.
    bahut achhi rachna hai....


    Dharmendra Singh

    उत्तर देंहटाएं
  28. सेना का वश चल कहां पाता है मान्यवर!

    उत्तर देंहटाएं
  29. नई एकता की सोच को लेकर,
    भारत का नव निर्माण करो!

    देशभक्ति से ओतप्रोत .....सार्थक रचना !!

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुंदर लेख ,,, बहुत बहुत बधाई, शुभकामनाऐ

    उत्तर देंहटाएं
  31. धीरेन्द्र जी, राष्ट्रप्रेम से ओत प्रोत सुंदर कविता के लिए बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  32. नई एकता की सोच को लेकर,
    भारत का नव निर्माण करो!

    उत्तर देंहटाएं
  33. नई एकता की सोच को लेकर,
    भारत का नव निर्माण करो!

    उत्तर देंहटाएं
  34. बढ़िया और सामयिक रचना .....आप भी पधारो स्वागत है ...http://pankajkrsah.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  35. शानदार रचना | आज ही जोधपुर से १५ दिनों बाद आना हुआ इन पन्द्रह दिनों में ब्लॉग पठन से दूर रहना काफी खला !!

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,