सोमवार, 3 दिसंबर 2012

बात न करो...

बात न करो

इस  वीराने  में  बस्ती   बसाने   की   बात   न  करो,
समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!

अभी-अभी तो इस गम से पिंड छुड़ाकर बैठा हूँ,
अचानक हमसे हँसने- हँसाने की बात न  करो!

उम्र  भर  तो  सोने  न  दिया  निगोड़ी   मँहगाई  ने
कब्र में चैन से सोनेवालों को जगाने की बात न करो!

मारकर  मुझे फटने  तक ये जख्म बेदर्द,
हम दर्द बनकर दवा देने की बात न करो!

अपनों ने दगा दिया मारा नफरत का बल्लम
 अब"धीर" से  बेरहम जमाने  की बात न करो!

55 टिप्‍पणियां:

  1. हंसने हंसाने की बात न करो-
    गम रास आ रहे है-
    जमाने की बात न करो-
    एहसास जा रहे हैं-
    बढ़िया ||
    सादर भाई जी -

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत बढ़िया गज़ल....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. उत्तर

    1. इस वीराने में बस्ती बसाने की बात न करो,
      समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!
      मारकर मुझे फटने तक ये जख्म बेदर्द,
      हम दर्द बनकर दवा देने की बात न करो!

      बेहतरीन दिनानुदिन निखार पर हैं धीरेन्द्र भाई .
      (कश्ती ,हमदर्द )

      हटाएं
  4. मारकर मुझे फटने तक ये जख्म बेदर्द,
    हम दर्द बनकर दवा देने की बात न करो!
    वाह धीरेन्द्र जी...बहुत खूब लिखा है!

    उत्तर देंहटाएं
  5. दर्दे-दिल की पुकार ..तू सुन ले मेरे यार !

    उत्तर देंहटाएं
  6. अपनों ने दगा दिया मारा नफरत का बल्लम
    अब"धीर" से बेरहम जमाने की बात न करो!

    धीरेंद्र जी दुख तो अपने ही देते हैं, गैरों से नही मिलता। आपकी रचना मर्मस्पर्शी लगी। मेरे नए पोस्ट आषाढ़ का एक दिन पर आपकी प्रतिक्रिया से प्रसन्न हुआ। आशा है भविष्य में भी आप मुझे प्रोत्साहित करते रहेंगे। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह ... बेहद जानदार और बेहद उम्दा

    उत्तर देंहटाएं
  8. अब बेरहम जमाने की बात न करो!
    उत्तम रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  9. अभी-अभी तो इस गम से पिंड छुड़ाकर बैठा हूँ,
    अचानक हमसे हँसने- हँसाने की बात न करो!
    ये लाइने सुपर लगीं।
    लगता है आज धीरेन्द्र जी का मुड बदला है ,
    आज तो हंसने हंसाने की बिलकुल बात ना करो।
    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स
    इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड

    उत्तर देंहटाएं
  10. गज़ब की गज़ल है दिल को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  11. इस वीराने में बस्ती बसाने की बात न करो,
    समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!

    बात तो तभी है जब समंदर में कागज़ की नाव चले
    वीरान बंजर धरती पर कोई बस्ती बसर करे ।

    सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अद्भुत अहसास...सुन्दर प्रस्तुति बहुत ही अच्छा लिखा आपने .बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको .

    उत्तर देंहटाएं
  13. इस वीराने में बस्ती बसाने की बात न करो,
    समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!
    सुंदर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  14. अभी-अभी तो इस गम से पिंड छुड़ाकर बैठा हूँ,
    अचानक हमसे हँसने- हँसाने की बात न करो!---बहुत उम्दा लगा ये शेर सच में हासिले ग़ज़ल है दाद कबूल करें

    उत्तर देंहटाएं
  15. आपकी इस रचना को भास्कर भूमि छत्तीसगढ़ में भी आज जगह दी गयी है |
    बधाई
    देखने के लिए निम्न लिंक पर अख़बार की वेब साईट पर आज के अख़बार के पृष्ठ संख्या आठ पर देखें
    http://bhaskarbhumi.com/epaper/inner_page.php?d=2012-12-05&id=8&city=Rajnandgaon

    उत्तर देंहटाएं
  16. समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!

    बहुत सुन्दर भाव ...

    उत्तर देंहटाएं
  17. बात नहीं करने के लिए बात तो करनी पड़ेगी भाई ...बहुत सुन्दर नज्म .....यूँ ही लिखते रहिये बेबाक ,विंदास ..बधाईयाँ भदौरिया जी

    उत्तर देंहटाएं
  18. शुरुआत ही शानदार है.शेष लाजवाब है.
    बहुत सुन्दर कविता है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. वाह बहुत खूब ..........पर ,अगर बात नहीं करंगे तो किसी बात का निदान कैसे निकलेगा ?? :)))

    उत्तर देंहटाएं
  20. अपनों ने दगा दिया मारा नफरत का बल्लम
    अब"धीर" से बेरहम जमाने की बात न करो!

    जब बात न करे तो नफरत का बल्लम का

    घाव पर मल्लम(दवा)कैसे लगाएं ..... :))

    उत्तर देंहटाएं
  21. हमेशा की तरह बेहतरीन प्रस्तुति।

    उत्तर देंहटाएं
  22. लाजवाब ग़ज़ल धीरेन्द्र सर दिली दाद कुबूल करें

    उत्तर देंहटाएं
  23. अब"धीर" से बेरहम जमाने की बात न करो....लाजवाब गजल

    उत्तर देंहटाएं
  24. अभी-अभी तो इस गम से पिंड छुड़ाकर बैठा हूँ,
    अचानक हमसे हँसने- हँसाने की बात न करो!

    बहुत बढ़िया गज़ल..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  25. मारकर मुझे फटने तक ये जख्म बेदर्द,
    हम दर्द बनकर दवा देने की बात न करो!

    अपनों ने दगा दिया मारा नफरत का बल्लम
    अब"धीर" से बेरहम जमाने की बात न करो!
    बहुत बढ़िया गज़ल..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  26. इस वीराने में बस्ती बसाने की बात न करो,
    समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!

    बहुत खूब,

    उत्तर देंहटाएं

  27. उम्र भर तो सोने न दिया निगोड़ी महंगाई ने
    कब्र में चैन से सोनेवालों को जगाने की बात न करो


    बात तो बेशक सही है आपकी
    धीरेन्द्र सिंह भदौरिया जी !


    सुंदर प्रस्तुति !
    खूबसूरत रचना !

    शुभकामनाओं सहित…

    उत्तर देंहटाएं
  28. बढ़िया प्रस्तुति है भाई साहब (हमदर्द को मिलाके लिखें हम दर्द अलग अलग न लिखें ).

    उत्तर देंहटाएं
  29. अभी-अभी तो इस गम से पिंड छुड़ाकर बैठा हूँ,
    अचानक हमसे हँसने- हँसाने की बात न करो! ..

    खूबसूरत शेर है इस लाजवाब गज़ल का ... बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (09-12-2012) के चर्चा मंच-१०८८ (आइए कुछ बातें करें!) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (09-12-2012) के चर्चा मंच-१०८८ (आइए कुछ बातें करें!) पर भी होगी!
    सूचनार्थ...!

    उत्तर देंहटाएं
  32. इस वीराने में बस्ती बसाने की बात न करो,
    समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!
    सुंदर रचना ॥

    उत्तर देंहटाएं
  33. बेहतरीन कटाक्ष!
    ('कस्ती' को 'कश्ती' कर लें)

    उत्तर देंहटाएं
  34. इस वीराने में बस्ती बसाने की बात न करो,
    समुन्दर में कागज की कस्ती चलाने की बात न करो!

    क्या खूब बात कही है. मुश्किल समय में कीड़े मकोड़े भी पैर सिकोड़ के बैठ जाते है और सही समय का इन्तेज़ार करते हैं.

    उत्तर देंहटाएं
  35. हम दर्द बनकर दवा देने की बात न करो!
    सच कहां आपने
    ------आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,