सोमवार, 15 अक्तूबर 2012

यादों की ओढ़नी,,,

यादों की ओढ़नी

ये कैसी चली हवा सिहरन सी दौड गई,
कि ओढ़ ली चेहरे ने केशो की ओढ़नी|

मुद्दत के बाद खिली है धूप प्यार की,
कि धूप ने ओढ़ ली,छाँव की ओढ़नी|

इन खामोश नजरों को है इन्तजार तेरा,
कि अश्को ने ओढ़ ली पलकों की ओढ़नी|

मौसम की तरह बदला मेरा मिजाज क्यों,
कि दिल ने ओढ़ ली है मौसम की ओढ़नी|

हमने चाहा भूलना तुझको हर हाल में,
कि मन ने ओढ़ ली यादों की ओढ़नी|


मेरी बेटी, aarti singh baghel, द्वारा

56 टिप्‍पणियां:

  1. ये कैसी चली हवा सिहरन सी दौड गई,
    कि ओढ़ ली चेहरे ने केशो की ओढ़नी ... खूबसूरत वर्णन

    उत्तर देंहटाएं
  2. धीरेन्द्र सर दिल को छू कर ह्रदय में उतर गई आपकी ये रचना बधाई स्वीकारें

    उत्तर देंहटाएं
  3. ये कैसी चली हवा सिहरन सी दौड गई,
    कि ओढ़ ली चेहरे ने केशो की ओढ़नी|
    vaah sundar ...

    उत्तर देंहटाएं
  4. हृदयस्पर्शी भावपूर्ण प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  5. सरकी जो सर वो धीरे धीरे .................... वेसे वर्तमान मे तो यह ग्रामीण क्षेत्रो तक ही सीमित हो चुकी है

    ट्रेन की वर्तमान स्थिति क पता करे

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खुबसूरत भाव पूर्ण रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर मन को छूती हुई रचना ........

    उत्तर देंहटाएं
  8. ODHNI DA TO KOI JAWAB HEE NAHI...BEHTARIN MAN KO BHA GAYEE SADAR PRANAM KE SATH

    उत्तर देंहटाएं
  9. यादों की यह ओढ़नी, ओढ़ रहूँ दिनरात |
    उमड़-घुमड़ दृष्टान्त हर, रह रह आवत जात |
    रह रह आवत जात, बाराती द्वारे आये |
    पर बाबू का हाथ, छूट नहिं सके छुडाये |
    माँ की झिड़की प्यार, बरसता सावन भादों |
    भैया से तकरार, शेष बचपन की यादों ||

    उत्तर देंहटाएं
  10. उत्कृष्ट प्रस्तुति का लिंक लिंक-लिक्खाड़ पर है ।।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मौसम की तरह बदला मेरा मिजाज क्यों,
    कि दिल ने ओढ़ ली है मौसम की ओढ़नी|

    हमने चाहा भूलना तुझको हर हाल में,
    कि मन ने ओढ़ ली यादों की ओढ़नी
    वाह ... बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं
  12. परिवेश औऱ जीन पीढ़ी को प्रभावित करते ही हैं। शुक्रिया हमसे परिचय कराने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  13. मौसम की तरह बदला मेरा मिजाज क्यों,
    कि दिल ने ओढ़ ली है मौसम की ओढ़नी|

    ..बहुत खूब! सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन,,बेहतरीन..बेहतरीन
    :-) :-) :-)

    उत्तर देंहटाएं

  15. मुद्दत के बाद खिली है धूप प्यार की,
    कि धूप ने ओढ़ ली,छाँव की ओढ़नी|

    इन खामोश नजरों को है इन्तजार तेरा,
    कि अश्को ने ओढ़ ली पलकों की ओढ़नी|........अश्कों .......

    मौसम की तरह बदला मेरा मिजाज क्यों,
    कि दिल ने ओढ़ ली है मौसम की ओढ़नी|

    हमने चाहा भूलना तुझको हर हाल में,
    कि मन ने ओढ़ ली यादों की ओढ़नी|

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति है .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टि की चर्चा कल मंगलवार १६ /१०/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चामंच पर की जायेगी ,आपका स्वागत है |

    उत्तर देंहटाएं
  17. इन खामोश नजरों को है इन्तजार तेरा,
    कि अश्को ने ओढ़ ली पलकों की ओढ़नी|
    वाह क्या खूब गहराई व कशिश है इस रचना में।

    उत्तर देंहटाएं
  18. ये कैसी चली हवा सिहरन सी दौड गई,
    कि ओढ़ ली चेहरे ने केशो की ओढ़नी|

    बहुत सुंदर
    कभी कभी ही ऐसी रचनाएं पढने को मिलती है..

    उत्तर देंहटाएं
  19. हमने चाहा भूलना तुझको हर हाल में,
    कि मन ने ओढ़ ली यादों की ओढ़नी|

    बहुत सुन्दर ....

    उत्तर देंहटाएं
  20. इन खामोश नजरों को है इन्तजार तेरा,
    कि अश्को ने ओढ़ ली पलकों की ओढ़नी|
    bahut ki pyari kavita hain
    in 2 lines ne to char chand laga diye

    उत्तर देंहटाएं
  21. मुद्दत के बाद खिली है धूप प्यार की,
    कि धूप ने ओढ़ ली,छाँव की ओढ़नी|

    इन खामोश नजरों को है इन्तजार तेरा,
    कि अश्को ने ओढ़ ली पलकों की ओढ़नी|

    बहुत खूबसूरत अलहदा अंदाज

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुन्दर ...मन ने ओढ़ ली यादों की ओढनी !

    उत्तर देंहटाएं
  23. bahut sundar sabdon ko piroya h .. ek achchi rachana

    badhaee svikare

    उत्तर देंहटाएं
  24. वाह वाह वाह वाह क्या खूब ओढ्नी ओढायी है …………लाजवाब प्रस्तुति।नवरात्रि की शुभकामनायें।

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुन्दर रचना!
    ओढ़नी का जवाब नहीं!
    नवरात्रि की शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  26. "इन खामोश नजरों को है इन्तजार तेरा,
    कि अश्को ने ओढ़ ली पलकों की ओढ़नी|"

    Marmik rachna !!

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत ही बढ़िया।
    आरती जी बहुत अच्छा लिखती हैं उन्हें हमारी हार्दिक शुभकामनाएँ!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  28. हमने चाहा भूलना तुझको हर हाल में,
    कि मन ने ओढ़ ली यादों की ओढ़नी|
    ...bahut hi acchha likhati hai aapki bitiya... badhai sviikaren!

    उत्तर देंहटाएं
  29. धीरेन्द्र भाई! इसे गीत कहूँ तो बुरा तो नहीं मानेंगे न??? बहुत ही सुन्दर गीत!!

    उत्तर देंहटाएं
  30. ये कैसी चली हवा सिहरन सी दौड गई,
    कि ओढ़ ली चेहरे ने केशो की ओढ़नी|
    वाह बहुत खूबसूरत लगी आपके मन की ओढनी |

    उत्तर देंहटाएं
  31. मौसम की तरह बदला मेरा मिजाज क्यों,
    कि दिल ने ओढ़ ली है मौसम की ओढ़नी|

    हमने चाहा भूलना तुझको हर हाल में,
    कि मन ने ओढ़ ली यादों की ओढ़नी|

    वाह, वाह !!! आदरणीय गजब की गज़ल इस गुलाबी ठंड के शुरुवाती दौर में लिखा दी है.

    उत्तर देंहटाएं
  32. पढ़के गज़ल को आ गई, ख्वाबों में ओढ़नी
    देखो उलझ के रह गई , गुलाबों में ओढ़नी...........

    उत्तर देंहटाएं
  33. क्यूँ ओढ़कर तू आई , वादों की ओढ़नी
    फिर दे गई है मुझको,मुरादों की ओढ़नी
    मौसम ने ली है करवट,सबकुछ बदल गया
    बस पास रह गई है, यादों की ओढ़नी |

    उत्तर देंहटाएं
  34. हमने चाहा भूलना तुझको हर हाल में,
    कि मन ने ओढ़ ली यादों की ओढ़नी|
    सुन्दर और प्यारी रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  35. मुद्दत के बाद खिली है धूप प्यार की,
    कि धूप ने ओढ़ ली,छाँव की ओढ़नी|

    ..एक मुद्दत बाद खिलखिलाती प्यार की सुन्दर बानगी ...

    उत्तर देंहटाएं
  36. बहुत सुन्दर रचना, ओढनी का बहुत सुन्दर शब्द-चित्रण, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं

  37. इन खामोश नजरों को है इन्तजार तेरा,
    कि अश्को ने ओढ़ ली पलकों की ओढ़नी|
    aodhni ka sunder prayog kiya hai
    bahut khoob
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  38. सुंदर रचना .....मन को भा गयी ...सादर आभार |

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,