मंगलवार, 16 अक्तूबर 2012

ऐ माता तेरे बेटे हम,

ऐ माता तेरे बेटे हम,

ऐ माता तेरे बेटे हम,
दिया तूने हमे जब जनम,
लाज रखना मेरी,
सुन के विनती मेरी,
दे दे चरणों में हमको शरण !

बड़ा कमजोर हूँ मै अभी,

मुझमे अवगुण भरें है सभी!
है लगन ये लगी,
मन में आशा जगी,
माँ करेगी दया तू कभी!
होगा हम पर तेरा जो करम,
माँ नवमी को आयेगें हम!
साथ रोली लिये,
हाथ झोली लिये,
माँ बढा दे तू अपने कदम!
ऐ माता तेरे बेटे हम,
दिया तूने हमे जब जनम,,,,,,

जब कष्टों का हो सामना,

माँ तू ही हमें थामना!
नाम जपते रहे,
ध्यान धरते रहें,
तेरे दर्शन की हो कामना!
जब निकलने लगे मेरा दम,
कर देना जरा सा रहम!
आये अंतिम घड़ी,
पास रहना खड़ी,
माँ मिटा देना सारे भरम!
ऐ माता तेरे बेटे हम,
दिया तूनें हमें जब जनम,,,,,,
 


( ऐ मालिक तेरे बंदे हम ),,,, पैराडी 

dheerendra,bhadauriya 

44 टिप्‍पणियां:

  1. ममतामय पावन रूप धरे, दुरगा जननी जब नेह दिखाई ।

    कवि धन्य हुआ मन मंदिर में, सज के मन है करता पहुनाई ।

    धरती पर शान्ति बनाय रखो, कलियान करो हे जग-माई ।

    करता रवि वंदन माँ दिल से, नवरात विशेष कृपा शुभ पाई ।।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. bahut sundar bhavpurn vandana ...........dheerendra ji is baar ka andaj alag mamtamayi laga .badhai

      हटाएं
  2. बड़ा कमजोर हूँ मै अभी,
    मुझमे अवगुण भरें है सभी!
    है लगन ये लगी,
    मन में आशा जगी,
    माँ करेगी दया तू कभी! ............. उम्मीद पै दुनियां कायम है .....सुंदर पैरोडी...
    स: परिवार नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं स्वीकार कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बधाई , नवरात्र मंगलमय हो .

    उत्तर देंहटाएं
  4. नव रात्रि की हार्दिक शुभ कामनाएं! सर ,

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद उम्दा रचना सर नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुन्दर.....
    माता तक पुकार पहुंचेगी अवश्य...
    हम सब पर कृपा बनी रहे माँ की...

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  7. आपको ये जानकार ख़ुशी होगी की एक सामूहिक ब्लॉग ''इंडियन ब्लोगर्स वर्ल्ड ''शुरू हो चुका है.जिसमे भारतीय ब्लोगर्स का परिचय करवाया जायेगा.और भारतीय ब्लोग्स की साप्ताहिक चर्चा भी होगी.और साथ ही सभी ब्लॉग सदस्यों के ब्लोग्स का अपडेट्स भी होगा.ये सामूहिक ब्लॉग ज्यादा से ज्यादा हिंदी ब्लोग्स का प्रमोशन करेगा.आप भी इसका हिस्सा बने.और आज ही ज्वाइन करें.जल्द ही इसका काम शुरू हो जायेगा.
    लिंक ये है
    http://indians-bloggers.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  8. वाह: बहुत सुन्दर पैरोड़ी...गाके देखा अच्छा लगा..आभार

    उत्तर देंहटाएं
  9. माता आपकी मनोकामना पूरी करे!
    शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत ही सुंदर प्रार्थना | नवरात्रि की मंगल कामना |

    नई पोस्ट:- हे माँ दुर्गा

    उत्तर देंहटाएं
  11. ऐ माता तेरी संतति हम
    माँ बढा दे तू अपने कदम!
    माँ मिटा देना सारे भरम!
    ऐ मालिक तेरे बंदे हम...

    बहुत सुंदर रचना...नवरात्रि की शुभकामनाएँ!!

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ... बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति

    नव रात्रि की हार्दिक शुभ कामनाएं!

    उत्तर देंहटाएं
  14. या देवी सर्व भूतेषु मात्रृरूपेण संस्थिता । माँ आपका मंगल करे । मनाहर रचना।
    देवेन्द्र
    शिवमेवम् सकलम् जगत

    उत्तर देंहटाएं
  15. वाह ...बहुत सुंदर रचना
    बधाई!!

    http://rohitasghorela.blogspot.com/2012/10/blog-post_17.html

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत सुन्दर पैरोडी है
    बधाई .....शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत भावभीनी प्रार्थना...

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत सुंदर प्रस्तुति ,,,,,
    नवरात्रि की शुभकामनाए .....

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें...

    उत्तर देंहटाएं
  20. भक्ति भाव से पूर्ण कविता

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनायें। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है। धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  22. नवरात्रि पर सुंदर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुन्दर मात्र वंदना आभार

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत सुन्दर भक्ति रचना...
    माँ की कृपा सभी पर बनी रहे....
    शुभकामनाएँ.....
    :-) :-)

    उत्तर देंहटाएं
  25. जब कष्टों का हो सामना,
    माँ तू ही हमें थामना!
    नाम जपते रहे,
    ध्यान धरते रहें,
    तेरे दर्शन की हो कामना!
    जब निकलने लगे मेरा दम,
    कर देना जरा सा रहम!
    आये अंतिम घड़ी,
    पास रहना खड़ी,
    माँ मिटा देना सारे भरम!
    ऐ माता तेरे बेटे हम,
    दिया तूनें हमें जब जनम,

    ऐ मालिक तेरे बन्दे हम
    गीत की तर्ज़ पर लिखी गई सुन्दर गेय कविता कहूँ या भजन .बहुत ही सुन्दर भाव पूर्ण

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत खूबसूरत भक्ति से भरपूर रचना।

    आपके google+ प्रोफ़ाइल से आपके ब्लॉग लिंक मे पहुँचना मुश्किल हो गया। पहले ब्लॉग का प्रोफ़ाइल था तो सीधे के ब्लॉग पे ले जाता था वो लिंक , लेकिन अब google+ पे जाता है ब्लॉग पे नहीं ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. ऐ मालिक तेरे बंदे हम की आगे की पंक्तियाँ! वाह.. बढ़िया है..

    उत्तर देंहटाएं
  28. .....बहुत सुन्दर भक्ति रचना....
    स:परिवार नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं...

    उत्तर देंहटाएं
  29. समर्पण अर्पण भाव वंदना .सुन्दरम मनोहरम !

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेहद प्रभावशाली रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  31. दशहरे की बधाई धीरेन्द्र जी ...

    कृपया अपना ब्लोगर प्रोफाइल ठीक कर लें , आपके ब्लॉग की जगह गूगल प्लस प्रोफाइल दिख रहा है जिससे एक लंबे अरसे से आपके ब्लॉग को नहीं ढूँढ पाया ! आज गूगल सर्च के जरिये कमेन्ट दे रहा हूँ !
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं
  32. विजयदशमी की बहुत बहुत शुभकामनाएं

    बढिया, बहुत सुंदर
    क्या बात

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,