सोमवार, 10 सितंबर 2012

मेरे सपनो का भारत,,,,


मेरे सपनो का भारत

वर्षों पहले हम आजाद हुए ,आजाद तराना गाते है,
शान-ऐ तिरंगा लहराकर,भारत स्वतंत्र बतलाते है!

स्वतंत्रता का मतलब क्या , भ्रष्टाचार इतिहास गढे,
क्या गाँधी ने सोचा था,कि भारत में आतंकवाद बढे!

मेरे भारत के नेता गण , क्या मनोदशा के रोगी है,
निशदिन बढ़ती मँहगाई,ढोंगी नेताओं की भोगी है!

मजबूरी में दे रहे जान,किसान देश का अन्नदाता,
वोटो से नेता बनते,बन जाते फिर भाग्य-विधाता!

देख रही सारी जनता,कट गया हाथ मजबूरी है
जनता से ही है शासन,बस कुछ सालो की दूरी है

कब तक ये जुल्म सहेगें,लगाओ मिलकर ताकत,
साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो का भारत!


धीरेन्द्र भदौरिया
OBO - अंक 23 -में शामिल रचना


55 टिप्‍पणियां:

  1. जी पढ़ा है |
    खुबसूरत रचना के लिए बधाई |
    धीरेन्द्र भाई ||

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  2. पहले स्वतंत्रता का मतलब ही समझना है तभी सपनों का भारत सपनों से बाहर निकलेगा

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  3. कब तक ये जुल्म सहेगें,लगाओ मिलकर ताकत,साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो का भारत!
    ....एक सार्थक रचना !!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  4. सपनों का भारत जरूर बनेगा ... साहस और विश्वास बना रहे ...
    सार्थक रचना ...

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  5. देश की मौजुदा हालत देख रर तो लगता है, सपनों का भारत ..शायद सपनों में रह जाएगा..सार्थक रचना..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  6. बेहतरीन सुन्दर सार्थक रचना सर, बहुत-२ बधाई स्वीकारें

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  7. कब तक ये जुल्म सहेगें,लगाओ मिलकर ताकत,
    साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो का भारत!

    सकारात्मक संदेश देती अच्छी रचना

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  8. कब तक ये जुल्म सहेगें,लगाओ मिलकर ताकत,
    साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो का भारत!
    सार्थक रचना..

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  9. शानदार रचना टूटे हुए खाबों का रूपक ,भ्रष्ट व्यवस्था और वोट तन्त्र को ललकारती रचना .

    वर्षों पहले हम आजाद हुए ,आजाद तराना गाते है,(हैं )
    शान-ऐ तिरंगा लहराकर,भारत स्वतंत्र बतलाते है!(हैं !)

    स्वतंत्रता का मतलब क्या , भ्रष्टाचार इतिहास गढे,
    क्या गाँधी ने सोचा था,कि भारत में आतंकवाद बढे!

    मेरे भारत के नेता गण , क्या मनोदशा के रोगी है,(हैं )
    निशदिन बढ़ती मँहगाई,ढोंगी नेताओं की भोगी है!

    मजबूरी में दे रहे जान,किसान देश का अन्नदाता,
    वोटो(वोटों )से नेता बनते,बन जाते फिर भाग्य-विधाता!

    देख रही सारी जनता,कट गया हाथ मजबूरी है
    जनता से ही है शासन,बस कुछ सालो(सालों ) की दूरी है

    कब तक ये जुल्म सहेगें(सहेंगे ),लगाओ मिलकर ताकत,
    साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो(सपनों ) का भारत!
    बधाई इतनी सुन्दर रचना के लिए .

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  10. कब तक ये जुल्म सहेगें,लगाओ मिलकर ताकत,
    साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो का भारत!

    सही लिखा है सर...प्रयास जरूरी है|

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  11. मेरे सपनों के भारत को बढ़ने का पोषण दो।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  12. कब तक ये जुल्म सहेगें,लगाओ मिलकर ताकत,
    साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो का भारत!

    बहुत ही खूबसूरत कविता आभार |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  13. आपकी इस उत्कृष्ट रचना की चर्चा कल मंगलवार ११/९/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  14. "मेरे सपनों का भारत "कुछ सच्चाइयों की तरफ ध्यानाकर्षित करती है | बढियां रचना है सर |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  15. भारत की बिडम्बना का ह्रदय स्पर्शी चित्र उकेरती एक सार्थक रचना!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  16. वाह !!......
    भारत की बिडम्बना का
    ह्रदय स्पर्शी चित्र उकेरती,
    सच्चाइयों की तरफ
    ध्यानाकर्षित करती
    एक सार्थक रचना! आभार

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  17. अब सपनो में ही भारत कि छवि रह गयी है...सुन्दर ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  18. भावमय करते शब्‍दों का संगम ... आभार इस उत्‍कृष्‍ट प्रस्‍तुति के लिए

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  19. भारत ... विश्व गुरु बने ... यह हमरा .. धेय्य होना चाहिए

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  20. सुंदर रचना |बहुत खूब लिखा है आपने | बधाई स्वीकारें धीरेन्द्र जी | आभार |

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  21. बहुत ही शानदार अभिव्यक्ति.

    मिलकर और अच्छी प्रकार से सोच समझ कर
    ताकत लगाने से ही काम चलेगा अब.

    प्रेरक प्रस्तुति के लिए आभार.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  22. सपनों का भारत बनाने में हम मे से हरेक को करना होगा योगदान ।

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  23. कब तक ये जुल्म सहेगें,लगाओ मिलकर ताकत,
    साकार तभी हो बन जाये , मेरे सपनो का भारत!

    इन दो पंक्तियों में आपने बहुत सारा मेसेज दे दिया है.बहुत खूब.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  24. सुधीजनो,,,,,पाठकों,,,
    अचानक कार्य बस बाहर जा रहा हूँ,१७/९/ को शाम फिर मिलते है,,,,सहयोग के लिये आभार,,,,

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  25. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति ।आभार
    मेरी नयी पोस्ट - "इंटरनेट के टॉप सर्च इंजन्स"
    मेरा ब्लॉग पता है :- harshprachar.blogspot.com

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  26. देश के हालात का सच्चाई से बयान किया है ...अच्छी प्रस्तुति

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  27. इस बार जनता कुछ कमाल तो करेगी वैसे अब वो भी जान चुकी है की परिवर्तन जरुरी है..तभी सपनों का भारत सच में अपने वास्तविक रूप को प्राप्त कर पायेगा..
    सुन्दर भावपूर्ण रचना श्रीमान जी...धन्यवाद !!

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  28. http://thehinduvoice.blogspot.in/
    घायल भारत माता की तस्वीर दीखाने आया हू

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  29. वाह धीरेन्द्र जी बहुत सुन्दर चित्र प्रस्तुत किया है इस काव्य के माध्यम से
    बहुत बहुत बधाई

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं
  30. मिलकर और अच्छी प्रकार से सोच समझ कर
    ताकत लगाने से ही काम चलेगा अब.

    प्रत्‍युत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,