रविवार, 5 अगस्त 2012

जिन्दगी,,,,


जिन्दगी...

जिंदगी तुझसे बहुत प्यार है,
कितना हंसी तेरा ये साथ है !

मगर तेरे तो दुनिया में रंग हजार,
जी चाहता है हर रंग से करू प्यार !

मन में होता है न जाने क्यों अहसास,
कम दिनों का बचा है तेरा-मेरा साथ !

मगर तेरे साथ कुछ दिन और जीना चाहता हूँ ,
जीवन की अच्छाइयों को परखना चाहता हूँ !

सोचता हूँ, काश कुछ ऐसा हो जाये,
मै तेरी तू मेरी बाहों में समाँ जाये !

कुछ पल के ही लिए मै तेरे सारे रंग समेट लूँ ,
जिन्दगी हर रंग को बहुत करीब से देख लूँ !

dheerendra,bhadauriya

56 टिप्‍पणियां:

  1. कुछ पल के ही लिए मै तेरे सारे रंग समेट लूँ ,
    जिन्दगी हर रंग को बहुत करीब से देख लूँ !
    जियो हर पल को निचोड़ो क्षण को ,लूटो मज़े ज़िन्दगी के ,फिर न मिलेगी दोबारा .

    उत्तर देंहटाएं
  2. ज़िन्दगी से प्यार एक तरफ़ा थोड़ी न है...उसे भी प्यार है आपसे...
    जीवन में इन्द्रधनुषी छटा छाई रहे...
    सुन्दर रचना
    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  3. कुछ पल के ही लिए मै तेरे सारे रंग समेट लूँ ,
    जिन्दगी हर रंग को बहुत करीब से देख लूँ |
    BAHUT SUNDAR .... !!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन तथ्यात्मक सृजन ,आमों -खास से रूबरू होती हुयी ......बधाईयाँ , भदौरिया जी ......

    उत्तर देंहटाएं
  5. कितना कुछ देती है जिन्दगी, प्यार हो जाना स्वाभाविक है।

    उत्तर देंहटाएं
  6. जिंदगी प्रभु का असीम उपकार है हम पर.
    प्रभु को समर्पित जीवन जीना ही
    आनन्दपूर्वक जीना है.

    प्रेरक उल्लासमयी प्रस्तुति के लिए आभार,धीरेन्द्र जी.

    उत्तर देंहटाएं
  7. जीवन जीने का नाम है जितना भी जीयो प्यार से जीयो...प्रेरक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  8. आपकी इस उत्कृष्ट प्रस्तुति की चर्चा कल मंगलवार ७/८/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी आपका स्वागत है |

    उत्तर देंहटाएं
  9. jab tak jiye shan s jiye.jindgee baar baar nheen mltee,,,,

    sunder prastt....

    उत्तर देंहटाएं
  10. पर मेरा नजरिया इससे कुछ अलग है.वो ये है ...
    जिन्दगी तो बेवफा है एक दिन ठुकराएगी,
    मौत महबूबा है एक दिन साथ लेकर जाएगी.
    मरके जीने की अदा जो दुनिया को दिखलायेगा,
    वो मुकद्दर का सिकंदर जानेमन कहलायेगा.

    अच्छी प्रस्तुती के लिए आपको बधाई.



    मोहब्बत नामा
    मास्टर्स टेक टिप्स

    उत्तर देंहटाएं
  11. जियो जिन्दगी धीर धर, नीति-नियम से युक्त |
    परहितकारी कर्म शुभ, हंसों ठठा उन्मुक्त ||

    उत्तर देंहटाएं
  12. क्या बात है ......... ज़िन्दगी से ऐसे सवाल जवाब बहुत खूब ......

    उत्तर देंहटाएं
  13. .क्या बात है ज़िन्दगी से इतने सवाल - जवाब बहुत खूब धीरेन्द्र जी

    उत्तर देंहटाएं
  14. बेहतरीन अभिव्यक्ति धीरेन्द्र जी

    उत्तर देंहटाएं
  15. सुंदर, भावुक रचना..!
    "ज़िंदगी इंद्रधनुषी घेरा है,
    कही रात, कहीं सवेरा है,
    हर रंग की पगडंडी पर चल कर देखिए...
    दूर तलक आपके एहसासों का ही बसेरा है..."
    ~सादर !!!

    उत्तर देंहटाएं
  16. जिंदगी से प्यार उसे खुबसूरत बना देती है ..
    जिंदगी और आपका आपस का प्यार बना रहे ..
    सुंदर रचना !
    सादर !

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत खूबसूरत, बेहतरीन अभिव्यक्ति ****

    उत्तर देंहटाएं
  18. bahut appekshayen hoti hain jindgi se!

    ek najar idhar bhi dekhiye..

    "E jindgi... mujhe tujhse ..bahut shikayat hai
    dher saare dukhon ke sath ik chhoti si khushi"!

    sundar prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  19. कुछ पल के ही लिए मै तेरे सारे रंग समेट लूँ ,
    जिन्दगी हर रंग को बहुत करीब से देख लूँ !

    ...बहुत ख़ूबसूरत प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  20. ज़िन्दगी के सारे रंगों को देखना और जीना... मन तो बहुत चाहता है. सुन्दर रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  21. every heart wants to see or take bath in river of life... beautiful expression

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सुंदर !
    रंग भरिये खुद जिंदगी में और देखिये जिंदगी के रंग उसके साथ वो कैसे भरती है !

    उत्तर देंहटाएं
  23. जो ज़िन्दगी को प्यार करते हैं
    वे हर मुसीबत पार करते हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  24. prabhavshali prastuti .blog jagat ke liye sangrahniy.aabhar
    जन्म अष्टमी पर शुभकामनाएं |
    अन्ना टीम: वहीँ नज़र आएगी

    उत्तर देंहटाएं
  25. prabhavshali prastuti .blog jagat ke liye sangrahniy.aabhar
    जन्म अष्टमी पर शुभकामनाएं |
    अन्ना टीम: वहीँ नज़र आएगी

    उत्तर देंहटाएं
  26. जिंदगी के हर रंग को करीब से देख लूं !
    हर रंग में लुभाती है जिंदगी !

    उत्तर देंहटाएं
  27. जिन्‍दगी वाह वाह उत्‍तम रजना आपको जन्‍माष्‍टमी की शुभकामनाये

    यूनिक तकनीकी ब्लाग

    उत्तर देंहटाएं
  28. bahut sundar sach hai jindagi se jitna liya jae wahi kam hai...

    उत्तर देंहटाएं
  29. सुन्दर भाव भरे शानदार पोस्ट।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बेकार की बातें न किया कीजिए।
    आशंकाएं निर्मूल कर जिया कीजिए।।

    उत्तर देंहटाएं
  31. भदौरिया जी नमस्कार...
    आपके ब्लॉग 'काव्यांजलि' से कविता भास्कर भूमि में प्रकाशित किए जा रहे है। आज 8 अगस्त को 'जिदंगी...' शीर्षक के कविता को प्रकाशित किया गया है। इसे पढऩे के लिए bhaskarbhumi.com में जाकर ई पेपर में पेज नं. 8 ब्लॉगरी में देख सकते है।
    धन्यवाद
    फीचर प्रभारी
    नीति श्रीवास्तव

    उत्तर देंहटाएं
  32. कुछ पल के ही लिए मै तेरे सारे रंग समेट लूँ ,
    जिन्दगी हर रंग को बहुत करीब से देख लूँ !
    बहुत ही खूबसूरत रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  33. सुंदर रंग और कई भाव में रंगी कविता
    बहुत बढ़िया !!!

    उत्तर देंहटाएं
  34. बढ़िया भाव पूर्ण कविता |

    उत्तर देंहटाएं
  35. उठ जाग मुसाफिर भोर भई ,अब रैन कहाँ जो सोवत है .....जीवन चलने का काम ,सुबहो शाम

    उत्तर देंहटाएं
  36. जिंदगी तुझसे बहुत प्यार है,
    कितना हंसी तेरा ये साथ है !

    भाव पूर्ण कविता

    उत्तर देंहटाएं
  37. सोचता हूँ, काश कुछ ऐसा हो जाये,
    मै तेरी तू मेरी बाहों में समाँ जाये !

    कुछ पल के ही लिए मै तेरे सारे रंग समेट लूँ ,
    जिन्दगी हर रंग को बहुत करीब से देख लूँ !
    बहुत प्यारे भाव ..जिन्दगी अपना हर प्यारा रंग आप को दे खुशियाँ बरसाए ..
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  38. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति सर जी..
    आपका जीवन सतरंगो से भरा हो..
    शुभकामनाये...
    :-)

    उत्तर देंहटाएं
  39. कभी कभी सबके दिल मे खयाल आता है......

    मन में होता है न जाने क्यों अहसास,
    कम दिनों का बचा है तेरा-मेरा साथ !

    मगर सच तो ये है कि

    लाई हयात आये, कज़ा ले चली चले
    अपनी खुशी से आये ,न अपनी खुशी चले

    उत्तर देंहटाएं
  40. कभी कभी सबके दिल मे खयाल आता है......

    मन में होता है न जाने क्यों अहसास,
    कम दिनों का बचा है तेरा-मेरा साथ !

    मगर सच तो ये है कि

    लाई हयात आये, कज़ा ले चली चले
    अपनी खुशी से आये ,न अपनी खुशी चले

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,