रविवार, 20 मई 2012

किताबें,कुछ कहना चाहती है,....


किताबें,कुछ कहना चाहती है,....

किताबे,कुछ कहना चाहती है,
तुम्हारे पास रहना चाहतीं है,


किताबें करती है बातें, बीते जमानों की,
दुनिया कि इंसानों की!

आज की, कल की,एक एक पल की,
खुशियों की, गमो की,फूलों और बमों की,

जीत की, हार की, प्यार कि ,मार की,
क्या तुम नहीं सुनोगे,इन किताबो की बाते-?

किताबें कुछ कहना चाहती है,
तुम्हारे पास रहना चाहती है!

किताबों में चिडियाँ चह्चहाती है,
किताबों में खेतियाँ लहलहाती है!

किताबों में,झरने गुनगुनाते है,
परियों के किस्से सुनाते है!

किताबों में राकेट का राज है,
किताबों में साइंस की आवाज है!

किताबों का कितना बड़ा संसार है
किताबो में ज्ञान का भण्डार है,

क्या तुम इस संसार में नही आना चाहोगे?

किताबे, कुछ कहना चाहती है,
तुम्हारे पास रहना चाहतीं है!



नोट , ये मेरी लिखी रचना नही है मेरी पुरानी डायरी में लिखी थी मुझे अच्छी लगी तो ,
आप लोगों के लिये पेश कर रहा हूँ
शायद आपको पसंद आये ,,,,,

संतोष त्रिवेदी जी,द्वारा जानकारी मिली कि ये रचना
"सफ़दर हाश्मी जी "कि है ,
संतोष जी ,,,,,,बहुत२ आभार,रचनाकार का नाम बताने के लिये ,,,,,,

66 टिप्‍पणियां:

  1. किताबे,कुछ कहना चाहती है,तुम्हारे पास रहना चाहतीं है!

    सचमुच, किताबों का संसार अद्भुत संसार है|

    उत्तर देंहटाएं
  2. किताबें हमेशा हमारे पास रहती हैं, बिलकुल किसी अपने की तरह, सबकुछ कहती हैं, सिखाती हैं। सुन्दर रचना... आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. किताबें ही तो वे मित्र हैं जो कभी साथ नहीं छोडती .......बहुत सुंदर बात की आपने

    उत्तर देंहटाएं
  4. अकेलेपन की सच्ची साथी है यह किताबें ... बस इन से एक बार दोस्ती करने की देर है !

    उत्तर देंहटाएं
  5. ज्ञानोपासना का इष्ट किताबें

    उत्तर देंहटाएं
  6. किताबें लेखक का पूरा व्यक्तित्व बाँचती हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  7. किताबें करती है बातें,बीते जमानों की,
    भगवान से लेकर,दुनिया के इंसानों की!
    किताबें नहीं होती तो *हम(मैं-आप-अन्य) यहाँ होते .... ??

    उत्तर देंहटाएं
  8. किसी ने कहा है ," Books are the best friend ....यह शत -प्रतिशत सत्य कथन है , आपका पुस्तकानुराग अच्छा लगा बधाईयाँ जी /

    उत्तर देंहटाएं
  9. किताबे बहुत अछी दोस्त होती है
    इस आभास को बड़ी सुन्दरता से अभिव्यक्त किया है!

    संजय भास्कर

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुंदर सर................

    किताबों से अच्छा कोई मित्र नहीं...ये सिर्फ देतीं ही देतीं हैं...कुछ मांगती नहीं.....

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत हि सुन्दर विषय को उजागर कराती यह कविता, किताबें दुनिया में सबसे ऊपर है,
    आज जो कुछ भी है किताबों कि बदौलत वैज्ञानिकों से लेकर साधू संतों तक सभी का वर्चस्व
    किताबो से हि चल रहा है,किताबों से हि पल रहा है,

    उत्तर देंहटाएं
  12. kitab or aap kabhi akele nahi ho sakte......isliye kitabo se dosti kare.

    उत्तर देंहटाएं
  13. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत ही अच्छी प्रस्तुती सर।
    फुर्सत के लम्हात एक बार फिर से हो जाएँ ,
    किताबों की उस दुनिया में एक बार फिर से खो जाएँ।
    मोहब्बत नामा

    उत्तर देंहटाएं
  15. kitab se accha or saccha koi mitra nahi hota hai..
    bahut hi badhiya or sarthak lekhana:-)

    उत्तर देंहटाएं
  16. इंसान की सबसे बड़ी मित्र, सखा, और रहबर होती हैं यह किताबें .....सुन्दर !

    उत्तर देंहटाएं
  17. किताबों के बिना घर, बिना खिडकी कमरे की तरह है!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. mujhe to lagta hai is duniya me kitabon se adhik sachcha sathi koi or hai hi nahi. jab man udas ho to hasati b hai rula kar gam halka b arti hai. bahut hi achchhi rachna hai dheerendra ji... badhai

      हटाएं
  18. किताबे मेरी सहेली भी हैं
    हमसफ़र हैं मेरी यादों की ||..अनु

    उत्तर देंहटाएं
  19. इकिताबों का महत्त्व कम लोग ही समझ पाते हैं |पर जो समझ पाते हैं उनके बिना रहने की कल्पना भी नहीं कर सकते |यह रचना बहुत ही अच्छी लगी |बहुत बहुत बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  20. अगर आप की किताबों से दोस्ती है तो आप कभी अकेलापन महसूस नहीं होगा ....बहुत बढ़िया रचना



    धर्मेन्द्र सिंह जादौन

    उत्तर देंहटाएं
  21. कल 21/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  22. क्या बात है!!
    आपकी यह ख़ूबसूरत प्रविष्टि कल दिनांक 21-05-2012 को सोमवारीय चर्चामंच-886 पर लिंक की जा रही है। सादर सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  23. वाह वाह ,रचना कुछ जानी पहचानी सी लगी और पढी पढी सी भी , फ़िर नीचे पंक्तियों में स्पष्टीकरण देखा तो पता चल गया । "सफ़दर हाशमी "....(आपने आजमी लिख दिया है भूलवश शायद )जी की लेखनी से निकली है ये । बहरहाल यहां साझा करने के लिए बहुत बहुत शुक्रिया । संतोष माट साब की निगाह के पारखी तो हम हईये हैं कब्बे से अईसे ही नहीं

    उत्तर देंहटाएं
  24. किताबे दिल ही तो है ! हर मोड़ पर ! टूट न जाएँ !

    उत्तर देंहटाएं
  25. एक देहतरीन रचना पढ़वाई आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  26. किताबें करती है बातें, बीते जमानों की,
    दुनिया कि इंसानों की!

    कि के स्थान पर 'की 'करें .एक और जगह ऐसा ही करना पड़ेगा .शुक्रिया इस पोस्ट के लिए .
    किताबों सा कोई सगा भी नहीं है ,
    किताबों से आगे जहाँ भी नहीं है .
    कृपया यहाँ भी पधारें -
    ram ram bhai
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    रविवार, 20 मई 2012
    कब असरकारी सिद्ध होता है एंटी -बायटिक : ये है बोम्बे मेरी जान (तीसरा भाग ):

    उत्तर देंहटाएं
  27. सच ही किताबों का संसार अद्भुत होता है ... सुंदर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  28. अच्छे कि बुरे,जो भी हैं हम
    ये किताब है कि बचे हैं हम

    उत्तर देंहटाएं
  29. इस सुंदर रचना को पढ़वाने के लिए सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  30. बर्नाड शा ने कहा है की मैं नरक में भी उत्तम पुस्तकों का स्वागत करूँगा क्योंकि जहाँ ये होंगी वहाँ स्वर्ग स्वयं बन जायेगा ।

    उत्तर देंहटाएं
  31. इस बेहतरीन रचना प्रस्‍तुति के लिए आभार ।

    उत्तर देंहटाएं
  32. किताबों में,झरने गुनगुनाते है,
    परियों के किस्से सुनाते है! ........इस सुंदर रचना को पढ़वाने के लिए सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  33. वाह...बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  34. behtarin kriti...kitabon se accha koi dost nahi..sadar badhayee

    उत्तर देंहटाएं
  35. किताबों में,झरने गुनगुनाते है,
    परियों के किस्से सुनाते है! bhaut hi behtreenm abhivaykti.....

    उत्तर देंहटाएं
  36. कविता अच्छी लगी । मेरी कामना है कि आप अहर्निश सृजनरत रहें । मेरे नए पोस्ट अमीर खुसरो पर आपका इंतजार रहेगा । धन्यवाद

    उत्तर देंहटाएं
  37. किताबें कहती है भविष्य कथन ,रचतीं हैं एक परि कथा ,
    खुश्वंती फेंटेसी ,
    अमृता प्रीतम /पुष्पा मैत्रियी की आत्म कथा ,
    करती हैं परिशोधन पूर्व लिखित शोध का .
    भाई साहब अच्छी प्रस्तुति है किताबें कुछ कहतीं हैं .बधाई .
    यह बोम्बे मेरी जान (चौथा भाग )http://veerubhai1947.blogspot.in/

    तेरी आँखों की रिचाओं को पढ़ा है -
    उसने ,
    यकीन कर ,न कर .

    कृपया यहाँ भी पधारें -
    दमे में व्यायाम क्यों ?
    दमे में व्यायाम क्यों ?
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.in/2012/05/blog-post_5948.html

    उत्तर देंहटाएं
  38. किताबों से अच्छा और कोई मित्र नहीं
    आभार अच्छी रचना पढवाने का !

    उत्तर देंहटाएं
  39. .बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  40. क्या तुम इस संसार में नही आना चाहोगे?

    .बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  41. किताबे, कुछ कहना चाहती है,
    तुम्हारे पास रहना चाहतीं है!


    बेहतरीन प्रस्तुति.

    उत्तर देंहटाएं
  42. सच में किताबें बहुत कुछ और कह देती हैं और अकेले की सबसे अच्छी साथी होती हैं....

    उत्तर देंहटाएं
  43. बहुत खूब...बेहतरीन प्रस्‍तुति .....

    हम आपका स्‍वागम करते है....
    दूसरा ब्रम्हाजी मंदिर आसोतरा में .....

    उत्तर देंहटाएं
  44. किताबो से बड़ा की दोस्त नहीं ...
    जहां किताबे रहती हैं वहा ज्ञान का वास रहता है ...

    उत्तर देंहटाएं
  45. सारा संसार किताबों में समाया हुआ है किताबों से अच्छा कोई दोस्त भी नहीं हो सकता कितने भी नए उपकरण पढने पढ़ाने के आ जाएँ किन्तु किताबों की बराबरी नहीं कर सकता इंसान जो मुकाम हासिल करता है वो किताब की ही बदोलत करता है बहुत बहुत आभार इतनी सुन्दर रचना पढवाने के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  46. Mari samaji thodi kavita ki kam hi per isi padnai per jana ki mani kitabo ko bhaut kam hi jana hi okay best of luck

    उत्तर देंहटाएं
  47. बहुत खूबसूरत प्रस्तुति ...आभार

    उत्तर देंहटाएं
  48. bahut hi sundar kavita sir
    aapka blog bada accha laga
    aaj se main aapka naya follower
    http://drivingwithpen.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत ही बेहतरीन रचना....
    मेरे ब्लॉग

    विचार बोध
    पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  50. सफदर हाशमी की यह कविता हमारे संस्थान के पुस्तकालय की दीवार पर अंकित है।
    शुक्रिया, यहां प्रस्तुत करने के लिए।

    उत्तर देंहटाएं
  51. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    हैल्थ इज वैल्थ
    पर पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  52. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    हैल्थ इज वैल्थ
    पर पधारेँ।

    उत्तर देंहटाएं
  53. यह रचना publish करने का शुक्रिया धीर जी.. सुंदर प्रस्तुति !!

    उत्तर देंहटाएं
  54. किताबे ही हमे सुसंस्‍क्रत बनाती है इन्‍ही के कारण आज हम यहा ब्‍लाग पर है
    फेसबुक थीम को बदले

    उत्तर देंहटाएं
  55. प्रगतिशील किताबों के लिए इस वेबसाइट पर जायें
    http://janchetnabooks.org/

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,