मंगलवार, 15 मई 2012

बेटी,,,,,

बेटी

जब होता है जन्म किसी के , आँगन में बेटी का,
सदा लाडली होती है वह, प्यारी माँ की गोदी का!

समय गुजरता ज्यों-ज्यों , लता सी है वह बढती,
माँ बाप का पाकर प्यार ,फूलों सी है वह खिलती!

हँस-हँसकर तुतली बोली में, वह खुश सबको रखती है,
फिर भी न जाने पिता के मन, चिंता सी क्यों रहती है !

उसको बढते देख पिता का , दिल दुःखों से भर जाता.
लाऊं कहाँ से दहेज सोचकर,पिताका मन है घबराता!

सारी दुनिया कहती है आज, कि भेद नही बेटा- बेटी में,
यही सोच कर लुटा दिया ,पिता ने जो धन था गठरी में!

पढ़ा - लिखा कर योग्य बनाया , बेटी को बेटा जैसा,
विदुषी बनकर हुई सुगन्धित,फूलों की खुशबू जैसा!

किस देव पर इसे चढाकर, मै मन की शांती पाऊं,
द्वार-द्वार पर घूम घूम कर,थक गया मै कहाँ जाऊं!

अपना सा मुँह लेकर वो,घर को लौट आता है
पुत्री को देखकर ,मन ही मन आँसू बहाता है

कन्या का वर कैसा हो , यही वो सोचता रहता है,
आती है आवाज उधर से,दहेज भी देना पडता है!

किसके आगे हाथ पसारे , किसको सुनाये ये दुखड़ा,
बिना दहेज के मीत न मिले, बेटी है दिल का टुकड़ा!

हाय विधाता ये तूने कैसा, खेल अजीब दिखाया,
दहेज में बिक रही बेटियाँ , और ये मानव काया!

आज दहेज का रोग भयंकर , घर-घर कैसे दौड रहा,
कितने पिता बेटी की खातिर, मरने मजबूर होरहा!

आज हम मजबूर बाप है, बेटी की चिंता क्यों न होगी,
कल तुम जब बाप बनोगे, तुम्हारे घर जब बेटी होगी!

dheerendra,"dheer"

69 टिप्‍पणियां:

  1. प्रस्तुति यह उत्कृष्ट है , रची 'धीर' गंभीर ।

    फटें बिवाईं आपनी, तब जाने पर-पीर ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. सच पूछिए तो कई समस्याओं की जड़ में दहेज ही है.....
    सुन्दर गम्भीर रचना...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  3. ...पर अब समय बदल रहा है,
    बेटियों से घर संभल रहा है !

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत गंभार मुद्दे पर लिखी कविता चित्र सा बनाती हुई आँखों के सामने दहेज़ प्रथा ही है भ्रूण हत्या और सभी फसादों की जड़ न जाने लोगों में पूर्ण जाग्रति कब आएगी बहुत अच्छा लिखा आपने

    उत्तर देंहटाएं
  5. बेहद उम्दा रचना ... आभार आपका |

    आज फीड आ गयी है आभार गूगल का भी !

    उत्तर देंहटाएं
  6. सिद्धांत और व्यवहार का फर्क यही है। जो भुगतता है,वही जानता है।

    उत्तर देंहटाएं
  7. .


    अब स्थितियां बदल रही हैं …
    बेटी-बेटे के अनुपात के कारण कई जगह हालात उलटे भी हो रहे हैं …

    कविता भाव पूर्ण लिखी है आपने … आभार !

    मंगलकामनाओं सहित…
    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  8. पिता की चिन्ता स्वभाविक है...बहुत अच्छा लिखा है|

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर प्रस्तुती ....

    उत्तर देंहटाएं
  10. पढ़ा लिखाकर योग्य बनाया, बेटी को बेटा जैसा,
    विदुषी बनकर हुई सुगन्धित,फूलों की खुशबू जैसा!

    किस देव पर इसे चढाकर, मै मन की शांती पाऊं,
    द्वार-द्वार पर घूमघूम कर थक गया मै कहाँ जाऊं!..... यही स्थिति बेटी नहीं चाहने का कारण बन जाती है ! अभी कल ही सुना है एक ऑफिसर लड़की के लिए कि गोरी कम है .... बेटा हद से ज्यादा मोटा , पर आज भी यही कथन कि लड़का तो घी का लड्डू ! .... इस परेशानी को बहुत सही ढंग से आपने व्यक्त किया है

    उत्तर देंहटाएं
  11. आओ मिलकर यह प्रण करें ...की दहेज़ के दानव का दम तोड़ देंगे ......अब न लेंगे ने देंगे दहेज़ हम ...... बेटियों को एक सम्मान्य जीवन देंगे ......

    उत्तर देंहटाएं
  12. आज दहेज का रोग भयंकर, घर-घर कैसे दौड रहा है,
    कितने पिता बेटी की खातिर, मरने मजबूर होरहा है!..... सही कहा धीरेन्द्र जी ....मन को झकझोरती सटीक रचना....आभार..

    उत्तर देंहटाएं
  13. सच कहा संतोष त्रिवेदी जी ने..
    ...पर अब समय बदल रहा है,
    बेटियों से घर संभल रहा है !

    मगर अब भी पूरी तरह बदला नहीं है...सो बेटियों के पिता की फ़िक्र तो जायज़ है.....

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  14. भावपूर्ण अभिव्यक्ति ........

    उत्तर देंहटाएं
  15. सार्थक चिंतन .... बेटी को पढ़ा लिखा कर भी दहेज से बेहाल माँ बाप की व्यथा को बखूबी उभारा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  16. पढ़ा लिखाकर योग्य बनाया, बेटी को बेटा जैसा,
    विदुषी बनकर हुई सुगन्धित,फूलों की खुशबू जैसा!

    किस देव पर इसे चढाकर, मै मन की शांती पाऊं,
    द्वार-द्वार पर घूमघूम कर थक गया मै कहाँ जाऊं!…………दहेज के दानव से कैसे मुक्ति पाऊँ मैं ………एक पिता का दर्द बखूबी बयान कर दिया और आज के समाज की सोच को भी………शानदार प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत ही सत्य को प्रस्तुत करती कविता लिखी है आपने। इसके लिए आपको बधाई हो। दहेज प्रथा का बिल्कुल सही वर्णन किया है। इस अच्छी और सच्ची कविता की रचना के लिए आपको धन्यवाद।

    उत्तर देंहटाएं
  18. अक्षरश: सही कहा है इस प्रस्‍तुति में आपने ... आभार

    कल 16/05/2012 को आपकी इस पोस्‍ट को नयी पुरानी हलचल पर लिंक किया जा रहा हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ...'' मातृ भाषा हमें सबसे प्यारी होती है '' ...

    उत्तर देंहटाएं
  19. जरुरी नहीं की सभी दहेज़ लोभी होते है फिर भी बेटी का पिता होने के नाते सभी माता -पिता सोंचते है लेकिन ये हमेशा याद रखना चाहिए की बेटियां हमारा स्वाभिमान होती है.........

    उत्तर देंहटाएं
  20. कुछ मीठी कुछ कड़वी बातों कों संजो के लिखी अच्छी रचना है बहुत ही ...

    उत्तर देंहटाएं
  21. त्वरित टिप्पणी से सजा, मित्रों चर्चा-मंच |
    छल-छंदी रविकर करे, फिर से नया प्रपंच ||

    बुधवारीय चर्चा-मंच
    charchamanch.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  22. वाह क्या बात है...बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  23. कुछ कहते है

    बेटी गाय होती है

    उत्तर देंहटाएं
  24. सुन्दर एवं भावपूर्ण प्रस्तुति । मेरे नए पोस्ट पर आपका पुन: स्वागत है । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  25. गहन चिंतन ...
    सार्थक ..बहुत भावपूर्ण सुंदर , रचना ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  26. भावपूर्ण उत्तम रचना...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  27. सारी दुनिया कहती है आज, कि भेद नही बेटा- बेटी में,
    यही सोच कर लुटा दिया ,पिता ने जो धन था गठरी में
    आज हम मजबूर बाप है, बेटी की चिंता क्यों न होगी,
    कल तुम जब बाप बनोगे, तुम्हारे घर जब बेटी होगी
    समाज की सच्चाई ,कडवी - अभिशाप - कोढ़ न जाने कब दूर होगी.... ??

    उत्तर देंहटाएं
  28. एक सच का सामना है यह कविता- दुनिया के रंग अनेक हैं ...
    खाने दांत अलग,दिखाने के दांत अलग -दहेज जैसी कुरीति के खिलाफ सभी बोलते हैं
    कुछ हि अमल करते हैं,
    एक बेटी का बाप हि समझ सकता है,इस दर्द को
    सुन्दर रचना के लिए धन्यवाद एवं बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  29. आपकी किसी नयी -पुरानी पोस्ट की हल चल बृहस्पतिवार 17 -05-2012 को यहाँ भी है

    .... आज की नयी पुरानी हलचल में ....ज़िंदगी मासूम ही सही .

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत मर्मस्पर्शी .....सभी के घर बेटियां भी है और बेटे भी पर जब बात बेटी की आती है तो सभी दहेज़ विरोधी राग गाने लग जाते हैं और बेटी की शादी के वक्त हम सब कहते हैं क्यूँ क्या हमने बेटी को दहेज़ नहीं दिया क्या ?अब तो लेने की बारी है फिर तो दहेज़ लेना है .....

    उत्तर देंहटाएं
  31. जानकार आश्चर्य और दुःख होगा कि धनवान और संपन्न परिवारों में ही यह प्रथा ज्यादा है..
    लील गया है यह दकियानुसी ख्याल हमारे समाज को..

    उत्तर देंहटाएं
  32. कविता में सार्थक चिंतन .
    दहेज़ अभी तक एक अभिशाप बना हुआ है .

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. beti to sabhim ke dil ka tukda hoti hai. par jab bat bahu ki hoti hai to dusre ki beti tuchh najar ati hai or jab apni beti ki bat ati hai to wah dil ka tukda ho jati hai. jab tak ye fark khatm n hoga har bap aise hi aansu bahata rahega....... jeevant rachna hai

      हटाएं
  33. भाई धीरेन्द्र जी बहुत ही भावपूर्ण कविता |आभार

    उत्तर देंहटाएं
  34. भावपूर्ण अभिव्यक्ति ........सार्थक चिंतन आभार ...

    उत्तर देंहटाएं
  35. आपकी पोस्ट 17/5/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें

    चर्चा - 882:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  36. सत्य का वर्णन करती सुन्दर रचना | आपकी रचना ने हृदय स्पर्श कर लिया | आभार

    उत्तर देंहटाएं
  37. सार्थक रचना गहन भाव लिए है |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  38. दोहरे मानदंडों के कारण समाज में बहुत विषम स्थितियाँ हैं जो दुख का कारण हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  39. behtreen prastuti.. bahut kuch likha ja chuka hai! lekin halaat jyun ke tyun hi hain....!

    lekin apna kaam to sandesh dena hi hai1 shaandar sirjan ! badhai kabule..

    sis ummeed ke sath ki halaat sudhre!

    उत्तर देंहटाएं
  40. सामाजिक सरोकारों को संबोधित पोस्ट .कटु यथार्थ का दर्पण दरका हुआ सा .जिसमे कोई प्रतिबिम्ब साफ़ नहीं उभरता .
    ram ram bhai
    शुक्रवार, 18 मई 2012
    ऊंचा वही है जो गहराई लिए है



    http://veerubhai1947.blogspot.in/


    Posted by veerubhai to दिनेश की टिप्पणी - आपका लिंक at 17 May 2012 12:51

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत सार्थक और सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  42. क्यों शर्मिंदा से लगते हो
    बेटी करके दिखायेगी !
    विदुषी पुत्री जिस घर जाए
    चिंता दूर भगाएगी !
    इसके पीछे चलते चलते, जग सीखेगा मेरे गीत !
    कर्मठ बेटी के होने पर , क्यों शर्मिन्दा तेरे गीत !

    उत्तर देंहटाएं
  43. प्रभावशाली रचना
    आपके लेखन की तारीफ के लिए शब्द ही नहीं मिलते |बहुत भाव पूर्ण रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  44. सुन्दर प्रस्तुति
    धीर जी ,आपकी पोस्ट हिट हो गई ,ब्लॉग बुलेटिन वाले या तो पोस्ट हटाते?या फिर आप की ही पोस्ट लोक प्रिय पोस्ट में सबसे ऊपर रही आती ,व पढी जाती इसी लिए लोक प्रिय पोस्ट का लेबल ही हटा दिया ,इससे आप और भी हिट हो गए,और इनके अथित सत्कार की पोल भी खुल गयी .

    उत्तर देंहटाएं
  45. किस देव पर इसे चढाकर, मै मन की शांती पाऊं,
    द्वार-द्वार पर घूम घूम कर,थक गया मै कहाँ जाऊं!
    सार्थक, प्रभावशाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  46. bahut hi sundar kavita
    Thanks
    http://drivingwithpen.blogspot.in/

    उत्तर देंहटाएं
  47. बेटी से घर स्वर्ग बन जाता है।

    उत्तर देंहटाएं
  48. सामाजिक पारिवारिक चिंताओं और चिंतन से आज के यथार्थ से जुडी पोस्ट .

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत सार्थक और प्रभावशाली प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  50. धीरेंदर जी, एक बेटी की माँ होने के नाते आपकी की भावनाओं ने ह्रदय को छू लिया....

    उत्तर देंहटाएं
  51. bahut sunder prastuti hai. udwelit karti ki aaj ham kasam khaye dahej na lene aur dene ki.

    उत्तर देंहटाएं
  52. बेटी की महत्ता को प्रतिपादित करती आपकी कविता बेहद भावनात्मक है.

    उत्तर देंहटाएं
  53. आपकी की भावनाओं और प्रभावशाली प्रस्तुति ने ह्रदय को छू लिया

    उत्तर देंहटाएं
  54. bahut bahut hi umda, satya deekhati raah seekhati prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  55. बहुत ही सुन्दर व प्रभावी ........

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,