गुरुवार, 24 मई 2012

सुनहरा कल,,,,,


सुनहरा कल,

सड़क तट पर
लिखे हुए अनगिनत नारे
हम एक अरसे से
पढ़ रहे है,
उनमे से एक
'हम सुनहरे कल
की ओर बढ़ रहे है'!
हमने नारी की पीड़ा को
बहुत नजदीक से
मौन रह कर देखा है,
तंदूर में रोटी की जगह
मानव ने एक अबला को
किस प्रकार सेंका है!
नारी के यौन शोषण से
पापों का घडा
ये नर पिशाच भर रहें है,
फिर भी हम अविरल
सुनहरे कल की बात कर रहे है!
औषधालय में रोज
नूतन अग्निदग्धा लाई जाती है,
दहेज न मिलने पर,
बेचारी जबरन जलाई जाती है!
जलती हुई अबला की
चीखें हमे सुनाई नही देती,
लुटती हुई नारी की अस्मत
हमे दिखाई नही देती!
सब कुछ देखते हुए भी,
हम पूरी तरह मौन है,
हम अनभिज्ञ है कि
इस सुनहरे कल का
निर्माता कौन है-?,,,,,

dheerendra,"dheer":

54 टिप्‍पणियां:

  1. बढ़िया प्रस्तुति .कृपया 'प्रकार ' कर लें पकार को .शुक्रिया
    हमने नारी की पीड़ा को
    बहुत नजदीक से
    मौन रह कर देखा है,
    तंदूर में रोटी की जगह
    मानव ने एक अबला को
    किस पकार सेंका है!

    उत्तर देंहटाएं
  2. यही स्थिति रही तो आने वाला कल बड़ा भयानक होगा !
    सुनहरे कल की बात सब व्यर्थ है ! अच्छी रचना बधाई !

    उत्तर देंहटाएं
  3. सब कुछ देखते हुए भी,
    हम पूरी तरह मौन है,
    हम अनभिज्ञ है कि
    इस सुनहरे कल का
    निर्माता कौन है-?

    यह बात तो सही कहा आपने...
    विचारणीय रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  4. हम अनभिज्ञ है कि
    इस सुनहरे कल का
    निर्माता कौन है-?,,,,,
    ज्वलंत प्रश्न ? सार्थक ,उद्वेलित करती सामयिक रचना ...
    "सेंक लेते हैं जली आग पर रोटियां ,जलाई किसने पता कर लेते तो अच्छा था " .
    मार्मिक चित्रण ..... साभार /

    उत्तर देंहटाएं
  5. अज कल के हालात पर सटीक अभिव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  6. ये कल कों बदलना होगा ... विशवास और मजबूती से ...

    उत्तर देंहटाएं
  7. वाह! फिर भी ये नारा ...
    हम सुनहरे कल
    की ओर बढ़ रहे है'!
    सटीक !
    मुबारक हो !

    उत्तर देंहटाएं
  8. पूछ रहे सब,अपने में ही मौन है
    क्या जाने,कल का निर्माता कौन है!

    उत्तर देंहटाएं
  9. विकट स्थिति है ।
    लेकिन निपटना तो होगा ।
    सुन्दर प्रस्तुति ।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सटीक और मार्मिक प्रस्तुति....

    उत्तर देंहटाएं
  11. यही स्थिति रही तो सुनहरापन कठिन होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  12. wah ..nari ki mansik pida ko apne bakhubi pahchana hai. rachna ki jitni tarif karu kam hi hogi..shabd hi nahi mil rahe..bahut bahut sarahniy

    उत्तर देंहटाएं
  13. बढ़िया धीरेन्द्र भाई ...
    आभार

    उत्तर देंहटाएं
  14. मित्रों चर्चा मंच के, देखो पन्ने खोल |

    आओ धक्का मार के, महंगा है पेट्रोल ||

    --

    शुक्रवारीय चर्चा मंच

    उत्तर देंहटाएं
  15. यह वाली कविता बिलकुल दिल से निकली है,प्रभावित करती है !

    उत्तर देंहटाएं
  16. अनूठी शैली के माध्यम से व्यवस्था पर एक करारा व्यंग्य. बहुत अच्छा लगा।

    उत्तर देंहटाएं
  17. यौन शोसन और दहेज़ प्रथा पर सटीक प्रहार ..........इन सब कों कतम किये बिना पगति की बाते कोखाली है समाज को राह दिखाती हुई प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  18. ह्रिदय उद्वेलित कर रही है रचना ...!!
    अच्छा लिखा है ....!!
    शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  19. सब कुछ देखते हुए भी,
    हम पूरी तरह मौन है,
    हम अनभिज्ञ है कि
    इस सुनहरे कल का
    निर्माता कौन है-?,,,,,
    sach ko vyakt karti sundar bhav purn kavita !

    उत्तर देंहटाएं
  20. आज की क्रूर सच्चाई को बयान करती पोस्ट सच में क्या ये सब कुकृत्य करके समाज को देश को विकसित कर सकेंगे क्या ??

    उत्तर देंहटाएं
  21. बहुत सुन्दर ...नारी की दशा और पीड़ा को दर्शाती हुयी ..काविले तारीफ़ रचना ...और हम सुनहरे कल की ओर बढ़ रहे हैं ??
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत सटीक और मार्मिक प्रस्तुति.....

    उत्तर देंहटाएं
  23. sir
    ek bahut hi marmik par kadva sach jo aaj tak barkaraar hai aur shayd age bhi rahega fir bhi ham jaane kis ummid se ek sunhre kal ka sapna man me sajaaye biathe hai----
    hriday sparshhi rachna
    sadar naman
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  24. जब हम मौन हैं तो इस सुनहरे कल का निर्माता कौन होगा !
    प्रश्न तो वाजिब है !

    उत्तर देंहटाएं
  25. सुनहरे कल के नाम पर यह कौन शमशान बना रहा .... और रौशनी के नाम पर चिताएं जला रहा !

    उत्तर देंहटाएं
  26. नारी की स्‍ि‍थती के सुधार तो आया है समय के साथ और आने की सम्‍भावना है
    युनिक तकनीकी ब्‍लाग

    उत्तर देंहटाएं
  27. बेहतरीन अभिव्‍यक्ति ।

    उत्तर देंहटाएं
  28. aapki post vartman par ktahsh jar rahi haen jo hamara hi bnaya gya hae.aapne mera margdarshan kiya aabhr.

    उत्तर देंहटाएं
  29. बहुत बढ़िया प्रस्तुति!
    आपकी प्रविष्टी की चर्चा कल शनिवार के चर्चा मंच पर लगाई गई है!
    चर्चा मंच सजा दिया, देख लीजिए आप।
    टिप्पणियों से किसी को, देना मत सन्ताप।।
    मित्रभाव से सभी को, देना सही सुझाव।
    शिष्ट आचरण से सदा, अंकित करना भाव।।

    उत्तर देंहटाएं
  30. सार्थक प्रश्न उठाती एक सजग जिम्मेदार रचना....
    सादर बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  31. ''क्या सच में कल ऐसी कोई सुनहरी सुबह आएगी ''??????

    उत्तर देंहटाएं
  32. बहुत हि बढिया- व्यवस्था एवं समाज के कुप्रथा पर प्रहार करती दमदार रचना

    उत्तर देंहटाएं
  33. वह सुबह कभी तो आयेगी - इसी आशा पर जीवन बीत रहा है !

    उत्तर देंहटाएं
  34. भाई साहब कथित आर्थिक वृद्धि भी ऐसी ही मृगमरीचिका रच रही है .अरबों पति यहाँ गरीबन को चिढा रहें हैं .कारें आरामदायक पंचर लगी कारों का लूंगी का मज़ाक उड़ा रहीं हैं .औरत तो चंद नारीवाद का परचम लेके चलने वाली अधिकार सचेत औरत के अलावा अब और भी सशक्त जिंस बनाके रख दी गई है उपभोग की .

    उत्तर देंहटाएं
  35. एक कड़वा सच... बहुत सुन्दर रचना

    उत्तर देंहटाएं
  36. इस कल के निर्मात भी हम ही हैं और इसको भोगने वाले भी हम हीं होंगे।

    उत्तर देंहटाएं
  37. sunder shabdon me yatharth ks behtareen sajeev chitran..hardik badhayee ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  38. सुन्दर भावपूर्ण प्रस्तुति...बहुत बहुत बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  39. नारी मन की पीड़ा को बखूबी बयां किया है..
    मार्मिक रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  40. हम सुनहरे कल की और बढ़ रहें हैं इसलिए सिर्फ १० जनपथ को तक रहें हैं .बढ़िया प्रस्तुति है .... .कृपया यहाँ भी पधारें -
    .
    ram ram bhai
    रविवार, 27 मई 2012
    ईस्वी सन ३३ ,३ अप्रेल को लटकाया गया था ईसा मसीह को सूली पर
    http://veerubhai1947.blogspot.in/
    तथा यहाँ भी -
    चालीस साल बाद उसे इल्म हुआ वह औरत है

    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.i

    उत्तर देंहटाएं
  41. सचमुच, बहुत चिंताजनक स्थिति है।
    समय की सच्छी तस्वीर दिखाती रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  42. समाज का विद्रूप चेहरा उघाड़ने का प्रयास करती सार्थक रचना.....

    उत्तर देंहटाएं
  43. सच में सुनहरे कल का निर्माता कौन है ... जब स्तिथि ऐसी है ... बहुत सुन्दर चिंतन समाज की स्तिथि का

    उत्तर देंहटाएं
  44. संवेदना से पगी अभिव्यक्‍ति ! दिल पर गहरा असर छोड़ती है और बहुत-कु सोचने पर मज़बूर करती है !
    अति सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  45. सब कुछ देखते हुए भी,
    हम पूरी तरह मौन है,
    हम अनभिज्ञ है कि
    इस सुनहरे कल का
    निर्माता कौन है-?,,,,,

    सबसे अहम बात तो यही है कि हम सभी ये सब देखते और खामोश हैं. आखिर कौन लोग हैं जो ऐसा करते? सुनहरे कल का निर्माता ही तो हमारे आज और कल को भस्म कर रहा है. हम सभी मूक हैं. ज्वलंत विषय पर बहुत अच्छी रचना, बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  46. बहुत सटीक अभिव्यक्ति |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  47. एक कड़वा सच ...आपकी लेखनी के माध्यम से सामने आया ...आभार

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,