मंगलवार, 13 मार्च 2012

तब मधुशाला हम जाते है,...

तब मधुशाला हम जाते है,...
जब गम के बादल छाते है, तब मधुशाला हम जाते है,
जब गम का कोई इलाज नही, तब थोड़ी सी पी जाते है!

रुक,रुक, थम,थम, सब कहते है,पी इसे भूल गम जाते है,
जब गम के बादल छाते है,तब मधुशाला हम जाते है!

तू गम की दवा की पुडिया है,पीने में भी तू बढ़िया है,
मत पी,मत पी,सब कहते है, हम यार इसे पी जाते है!

तेरे जाने कितने अपवाद पड़े, पी कर बेसुध हो जाते है,
पी लेता जो फिर ख़्वाब बढे,तब मधुशाला हम जाते है!

पतझड में जैसे कली खिली, पीकर ऐसा दिखता है,
गर्मी की लपटे सर्द हवा, इसको पीकर ही लगता है!

घनघोर घटा में सुर्ख धुंआ,आँसू बन कर आ जाते है,
जब गम के बादल छाते है,तब मधुशाला हम जाते है!

जब झील रेत हो जाती है, सैसव भी बूढा सा लगता है.
तब गम के बादल छाते है,सब अन्धकार सा दिखता है!

मुझको मेरी बोतल देदे, पीने दे मुझे बहकने तक साकी.
बेहोश हो जाऊ तो रख देना,बच जाए बोतल में जो बाकी!

तेरे कारण ही बोतल की और, प्याले की इज्जत होती है,
तेरे कारण ही महफिलों की, इज्जत बढती और खोती है!

कुछ हँसते कुछ गुस्साते है, पी तुझे होश में आते है,
जब् गम के बादल छाते है,तब मधुशाला हम जाते है!

जब मस्तिक में चढ़ जाती है,कितनी मस्ती करवाती है,
मस्ती जब हद से बढ़ जाती,तो कभी कभी पिटवाती है!

सावन भी जब बैशाख लगे, बारिष न जब "धीर" धरे,
जब शीत लहर गरमाते है, तब मधुशाला हम
जाते है!
--DHEERENDRA,"dheer"--

68 टिप्‍पणियां:

  1. पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए ... और यही कुछ सुन्दर अंदाज में बताती है आपकी रचना ..तब मधुशाला हम जातें हैं..

    उत्तर देंहटाएं
  2. ग़ज़ल दिल को छू गई।
    बेहद पसंद आई।

    उत्तर देंहटाएं
  3. कोई न कोई बहाना चाहिये, वहाँ जाने का।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अभिव्यक्तियों की स्वतंत्रता के अनुक्रम में भाव अच्छे हैं विकल्प भी बढ़िया है / बधाईयाँ जी /

    उत्तर देंहटाएं
  5. ये लाल रंग.........कब पीछा छोडेगा...
    अच्छी रचना...दिल से निकली...
    :-)
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम तो कुछ लिखकर ही गम गलत कर लेते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  7. यह तो बढ़िया है लेकिन दूसरी गज़ल इस विषय पर लिखिये कि जब नशा उतरता है तो क्या होता है?

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अंकुश हटता बुद्धि से, भला लगे *भकराँध ।

      भूले भक्ष्याभक्ष्य जब, भावे विकट सडांध ।

      भावे विकट सडांध, विसारे देह देहरी ।

      टूटे लज्जा बाँध, औंध नाली में पसरी ।।

      नशा उतर जब जाय, होय खुद से वह नाखुश ।

      कान पकड़ उठ-बैठ, साँझ फिर हटता अंकुश ।।
      *सदा हुआ अन्न



      दिनेश की टिप्पणी : आपका लिंक

      dineshkidillagi.blogspot.com

      हटाएं
  8. बढ़िया ग़ज़ल बहुत पसंद आई...धीरेन्द्र जी
    कुछ हट के....
    मेरी नई पोस्ट पर आपका स्वागत है

    उत्तर देंहटाएं
  9. गम है तो भी मधुशाला की और ,ख़ुशी है तो भी मधुशाला की और अगर गम और ख़ुशी दोनों ही नहीं तो आदतन मधुशाला की और ......बढ़िया प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत सुन्दर प्रस्तुति !
    मैं भी होली में मधुशाला गया था !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  11. पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए.....
    फिर भी...
    पीना लेकिन कम...
    ख़ुशी हो या गम.....

    उत्तर देंहटाएं
  12. गम गलत करने का की बहाना तो चाहिए ...
    लाजवाब लगी आपकी रचना ...

    उत्तर देंहटाएं
  13. गम गलत करना हो या खुशियों को गले लगाना हो!...मधुशाला की तरफ पाँव आगे बढते है!...क्या गजल है!...मजा आ गया!

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ,गम को जब्ज करने का बढियां राह 'मधुशाला

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. सुंदर पोस्ट धीरन्द्र जी साधुबाद ... मधुस्हल्ला की उपयोगिता कभी कम नहीं होगी

      हटाएं
  15. आपकी पोस्ट कल 15/3/2012 के चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-819:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  16. एक शेर याद आ रहा हैं" ना तजुर्बकारीसे वाइज कि यह बातें है | इस रंग को क्या जानें पूछो तो कभी पी हैं|
    बहुत सुन्दर .......

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर रचना है!
    जीवन ही मधुशाला... जीवन ही नशा!
    सादर!

    उत्तर देंहटाएं
  18. अच्छी प्रस्तुति ..... और जो न पीता हो वह कहाँ जाये

    उत्तर देंहटाएं
  19. sabse pahle to aapse kshama chahti hu ki aapke blog par comment nahi kar paati parantu padhti jarur hu isme domat nahi hai.
    hum to madhushala jate nahi par aaj samjh gae ki log madhushala kyu jate hai...acchi lagi post.dhanyawad

    उत्तर देंहटाएं
  20. बढ़िया ग़ज़ल हर अश आर अपना रंग और तराना लिए हुए .वाह !

    :दर्द नशा है ,इस मदिरा का, विगत स्मृतियाँ साकी हैं ,

    जहां कहीं मिल बैठे हम तुम वहीँ रही हो मधुशाला .

    पीड़ा में आनंद जिसे हो आये मेरी मधुशाला .

    अच्छी रचना है भाई साहब !'शैशव 'कर लें सैसव को .

    उत्तर देंहटाएं
  21. वाह .. मधु और साले का संयोग भी अजब है ! इसके गुड और गुडी लाजबाब है ! भगवान बचाए मधु और साले से ! हा...हा...हा..हा..बहुत सुन्दर गजल ! पिने वाले ही समझे इसके दर्द ! मुझे तो शौक नहीं !

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. मै क्या मेरा पूरा परिवार १०० परसेंट शाकाहारी है,मधुशाळा जाना और पीना तो बहुत दूर की बात है,

      हटाएं
  22. मधु की तरह मद्ध को बना दिया है.आपके जादूगरी शब्दों ने उनकी गरिमा बढ़ा दी है.
    बेहतरीन अंदाज़ में प्रस्तुत किया है...
    सादर...!!!

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  24. bachchan ji ki madhushala yaad aa gayi ,din ko holi raat diwali roj manati madhushala ,aapki rachna bahut achchhi lagi

    उत्तर देंहटाएं
  25. "सावन भी जब बैशाख लगे, बारिष न जब "धीर" धरे,
    जब शीत लहर गरमाते है, तब मधुशाला हम जाते है!"

    बहुत खूब, धीरेन्द्र जी,.. वाह ! !

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत सुन्दर धीरेन्द्र जी....

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत सरे बहाने मधुशाला जाने के ....
    अच्छा लिखा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. बहुत ही बढ़िया अभिव्यक्ति है :-)

    उत्तर देंहटाएं
  29. धीरेंद्र जी ,

    मधुशाला में जाना क्या- ना जाना क्या.
    पाकर कुछ खोना, खोकर कुछ पाना क्या..


    सुंदर रचना.............वाह .................

    उत्तर देंहटाएं
  30. वैसे ज्यादा पीने से लीवर ......:)

    बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  31. सुन्दर रचना,पर इसे पढ़ कर कोई मधुशाला जाने की ना सोचे :) ये सिर्फ कविता है भई

    उत्तर देंहटाएं
  32. खूबसूरत रचना और दिलकश अंदाज़ ! बेहतरीन प्रस्तुति !

    उत्तर देंहटाएं
  33. सावन भी जब बैशाख लगे, बारिष न जब "धीर" धरे,
    जब शीत लहर गरमाते है, तब मधुशाला हम जाते है!

    bas ek bahana chahiye.MAYKHANA jane ka.

    उत्तर देंहटाएं
  34. जब झील रेत हो जाती है, सैसव भी बूढा सा लगता है.
    तब गम के बादल छाते है,सब अन्धकार सा दिखता है!
    bahut hi gahri abhivyakti

    उत्तर देंहटाएं
  35. वो गए मयखाने जिन्हें मय की प्यास थी,
    रह गए तन्हा "रजनी" निगाहों की प्यास में |

    उत्तर देंहटाएं
  36. जब गम के बादल छाते है, तब मधुशाला हम जाते है,
    जब गम का कोई इलाज नही, तब थोड़ी सी पी जाते है!

    रुक,रुक, थम,थम, सब कहते है,पी इसे भूल गम जाते है,
    जब गम के बादल छाते है,तब मधुशाला हम जाते है!

    बहुत खूब लिखा है

    उत्तर देंहटाएं
  37. रुक,रुक, थम,थम, सब कहते है,पी इसे भूल गम जाते है,
    जब गम के बादल छाते है,तब मधुशाला हम जाते है!
    .........waah bahut sunder , geet , umda rachna , ..
    vaise hari vansh rai bacchan ki bhi madhushala yaad aa gayi , hamari pasandida rachna , aapne bahut sunder likha dheerendra ji , vakai gam ko bhulane ka to bahana hai ..madhushala jana hai ......badhai .

    उत्तर देंहटाएं
  38. आपका ब्लॉग फीड में तो आता ही था... अब follow भी होगी!
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  39. उत्तर
    1. सुन्दर सृजन, सुन्दर भावाभिव्यक्ति.

      हटाएं
  40. आपको ये मैं बड़े हर्ष के साथ सूचित कर रही हूँ की आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (३५) में शामिल की गई है आप आइये और अपने अनुपम विचारों से हमें अवगत करिए /आपका सहयोग हमेशा इस मंच को मिलता रहे यही कामना है /आभार /लिंक है
    http://hbfint.blogspot.in/2012/03/35-love-improves-immunity.html

    उत्तर देंहटाएं
  41. रुक,रुक, थम,थम, सब कहते है,पी इसे भूल गम जाते है,
    जब गम के बादल छाते है,तब मधुशाला हम जाते है.............!
    सुन्दर भावाभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  42. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  43. पीने की आदत हो जिसको, उसे कई वजह मिल जाती हैं ...दुःख में तो हर कोई पीता है .....खुशियाँ भी खूब पिलाती हैं .....

    उत्तर देंहटाएं
  44. shaki ke righane me ....lo aa gaye ham mai-khane mai
    isase kaun chhutta hai..........bahut badiya sirji

    Dharmendra Singh Jadon

    उत्तर देंहटाएं
  45. "जब झील रेत हो जाती है, सैसव भी बूढा सा लगता है.
    तब गम के बादल छाते है,सब अन्धकार सा दिखता है!"
    पीर भरी गहन अभिव्यक्ति !
    पीने के न पूछ क्या-क्या बहाने हैं
    कभी छुपाने हैं आंसू , कभी उत्सव मनाने हैं |

    उत्तर देंहटाएं
  46. पीने के अच्छे बहाने लिख दिए हैं आपने .......बस कोई भी मौका हो ...पीने वाले के लिए

    उत्तर देंहटाएं
  47. पीने वालों को पीने का बहाना चाहिए, गम हो तो पीना खुशी हो तो पीना... बहुत खूब...

    उत्तर देंहटाएं
  48. गहरे भाव के सुन्दर मोती
    फैल रही है कोमल ज्योति
    धागे में गाँठें कम होती
    माला और भी उम्दा होती ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,