मंगलवार, 20 मार्च 2012

अभिनन्दन पत्र............ ५० वीं पोस्ट.



अभिनन्दन पत्र...

अंगरखा और पगड़ियों के दिन गए,
राजा-रानी बेगम नबाबो के दिन लद गए !
मंत्री जी आप बन गए अन्नदाता,
और हम रह गए मतदाता!
आपके संसद सदस्य बन जाने पर,
अपनी जीत की शराब का खुमार आने पर,
आप हमे भूल जाते है,
मंत्री पद की कुर्सी पर झूल जाते है!
आप बनते है हमदम और हम गैर,
रामराज्य में यह कैसा अंधेर?
आपको मोटर कार,बंगले,वेतन और भत्ते,
हमे कर,बेघर बेरोजगारी,सूखे पत्ते?
आप तो नाटक के सजीव पात्र है,
इसलिये मेज चप्पल,जूता सब कुछ चलाते है,
हम पर इसके लिए फौजदारी चलाते है?
आपके भाषणों में घोषणाओ,आश्वासन के
अलावा कुछ नही होता,
आपके यहाँ स्वर्ण सेज पर सोता है पोता!
आप ऊपर से समाजवादी, अंदर से हैदराबादी,
आपके घर दस बच्चे, हम से कहते 'कम करो आबादी!'
आप करते है उद्दघाटन समारोह,
और हमारा समापन कराते है|
आप तो सचमुच विशाल है,
भारत के भाल हैं, हिरोइन के गाल है,
होली का गुलाल है|
आप मंत्री है, भूत और भविष्य की जंत्री है|
आपके 'रामराज्य' में भूखे मरते यंत्री है!
आप तालिया बजवाते है, गालिया सुनवाते है,
भष्टाचार बढाने के नुस्खे आपको आते है,'
कुर्सी-छोडो' देश बचाओ,
आपकी क्या गायें,गीत-गजल-आरती,
देखो "धीर" देश रो रहा रो रही माँ भारती....

DHEERENDRA,"dheer"


63 टिप्‍पणियां:

  1. साफ्ट टार्गेट मिल गया, लो पच्चास बटोर ।

    कान जुआं रेंगे नहीं, खूब मचा लो शोर ।

    खूब मचा लो शोर, भोर सोया मतदाता ।

    नेता लिया बटोर, ढोर की भाँती खाता ।

    रहा रोज पगुराय, खाय पच्चास पादुका ।

    फिर भी नहीं अघाय, लूटता रहा तालुका ।।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मन की पीड़ा को भली भांति उजागर किया है |

    टिप्स हिंदी में ग

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपको मोटर कार,बंगले,वेतन और भत्ते,
    हमे कर,बेघर बेरोजगारी,सूखे पत्ते?..................
    बहुमूल्य वोट की कीमत बहुत कम है.
    शानदार ५० वीं पोस्ट........ढेरों बधाइयाँ और शुभकामनाएं स्वीकार कीजियेगा.

    उत्तर देंहटाएं
  4. कुर्सी-छोडो' देश बचाओ,
    आपकी क्या गायें,गीत-गजल-आरती,
    देखो "धीर" देश रो रहा रो रही माँ भारती..sachchi bat.

    उत्तर देंहटाएं
  5. रची उत्कृष्ट |

    चर्चा मंच की दृष्ट --

    पलटो पृष्ट ||


    बुधवारीय चर्चामंच

    charchamanch.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  6. "आप मंत्री है, भूत और भविष्य की जंत्री है|
    आपके 'रामराज्य' में भूखे मरते यंत्री है!
    आप तालिया बजवाते है, गालिया सुनवाते है,
    भष्टाचार बढाने के नुस्खे आपको आते है,"

    पीड़ा बाहर निकली.. सार्थक रचना ... बधाई स्वीकार करें.

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत ही उत्कृष्ट अंदाज़ में प्रस्तुत किया है...

    उत्तर देंहटाएं
  8. आप मंत्री है, भूत और भविष्य की जंत्री है|
    आपके 'रामराज्य' में भूखे मरते यंत्री है!
    आप तालिया बजवाते है, गालिया सुनवाते है,
    भष्टाचार बढाने के नुस्खे आपको आते है,'... bahut hi badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  9. वाह बहुत सुंदर

    मंत्री जी आप बन गए अन्नदाता,
    और हम रह गए मतदाता!

    उत्तर देंहटाएं
  10. वाह ...बहुत ही बढि़या प्रस्‍तुति ।

    कल 21/03/2012 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.

    आपके सुझावों का स्वागत है .धन्यवाद!


    ... मुझे विश्‍वास है ...

    उत्तर देंहटाएं
  11. आपकी क्या गायें,गीत-गजल-आरती, देखो "धीर" देश रो रहा रो रही माँ भारती....

    सही कहा है आपने... सार्थक रचना...
    ५० वीं पोस्ट के लिए ढेरों बधाइयाँ और शुभकामनाएं... सिलसिला यूँ ही जारी रखिये

    उत्तर देंहटाएं
  12. सच कहते हैं आप.... शानदार रचना धीरेन्द्र सर....
    सादर बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  13. आपको मोटर कार,बंगले,वेतन और भत्ते,
    हमे कर,बेघर बेरोजगारी,सूखे पत्ते?
    सच कहते हैं आप.....sirji ap great ho


    Dharmendra singh Jadon

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुन्दर रचना ………50 वीं पोस्ट की बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  15. धीरेन्द्र जी खूबसूरत कविता ! अर्ध शतक की बधाई ! राम राज कब आई ?

    उत्तर देंहटाएं
  16. ........बहुत खूब...बेहतरीन प्रस्तुति...धीरेन्द्र जी
    50 वीं पोस्ट के लिए ढेरों बधाइयाँ

    उत्तर देंहटाएं
  17. रहा रोज पगुराय, खाय पच्चास पादुका ।

    फिर भी नहीं अघाय, लूटता रहा तालुका ।।

    बहुत खूब...बेहतरीन प्रस्तुति...धीरेन्द्र जी
    50 वीं पोस्ट के लिए ढेरों बधाइयाँ

    प्रत्‍युत्तरदें

    उत्तर देंहटाएं
  18. कमाल के भावों का संयोजन किया है आपने.. माँ भारती तो पिछले कई दशकों से रो रही है!! और यही हाल रहा तो पता नहीं कब तक.. बहुत अच्छी प्रस्तुति!!

    उत्तर देंहटाएं
  19. बखिया उधेरती इस पोस्ट के ज़रिये आपने वर्तमान राजनीतिक परिदृश्य करारा व्यंग्य किया है। पता नहीं उन मोटी चमड़ी वाली को कोई असर हो भी पाएगा या नहीं। शायद नहीं।

    उत्तर देंहटाएं
  20. करारा,तीखा एवं आन्दोलित कर देने वाला व्यंग। 50वीं पोस्ट की प्रस्तुति के लिये बधाई...

    उत्तर देंहटाएं
  21. यह अभिनंदन पत्र जिनके लिए लिखा गया है, उनके हाथों तक पहुंचना चाहिए।
    बिल्कुल यथार्थपरक रचना है।

    उत्तर देंहटाएं
  22. सामयिक रचना, बहुत बधाई ५०वीं पोस्ट के लिये।

    उत्तर देंहटाएं
  23. कलात्मक रचना प्रभावशाली है बधाईयाँ जी /

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत खूब..धीरेन्द्र जी
    50 वीं पोस्ट के लिए बधाई आपको ..........

    उत्तर देंहटाएं
  25. 50th ost ke lie badhaai....aur ye behtareen kavita bhi khush kar gai...

    उत्तर देंहटाएं
  26. पचासवी पोस्ट पर बधाई । कविता सामयिक है ।

    उत्तर देंहटाएं
  27. वाह ... सटीक और सार्थक अभिव्यक्ति ... ५०वी पोस्ट की बहुत बहुत बधाई ...

    उत्तर देंहटाएं
  28. पिछले कुछ दिनों से अधिक व्यस्त रहा इसलिए आपके ब्लॉग पर आने में देरी के लिए क्षमा चाहता हूँ...

    अद्भुत रचना के लिए बधाई स्वीकारें.

    नीरज

    उत्तर देंहटाएं
  29. वाह बहुत खूब ,आज की राजनीति और सरकार पर किया गया कटाक्ष बहुत बढिया रहा ...

    उत्तर देंहटाएं
  30. बहुत बढ़िया सर....
    सटीक व्यंग है....
    ५० वीं रचना के लिए हार्दिक बधाई.

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  31. बहुत सुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति प्रस्तुत की है आपने!
    50वीं पोस्ट की बधाई हो!

    उत्तर देंहटाएं
  32. sunder vyang rachna kamal ka likha hai
    bahut bahut badhai
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  33. bahut uttam aaj ke samaj prashasan ko aaina dikhati hui prastuti.

    उत्तर देंहटाएं
  34. Kursi, Neta aur Raajniti...Vyang likhne ke sabse sulabh vishay hain...sundar

    Ek sher yaad aa raha hai:
    Bas ek hi ullu kaafi tha barbaad gulistan karne ko,
    Har shaakh pe ullu baitha hai anzaame gulistaan kya hoga...

    उत्तर देंहटाएं
  35. बहुत ही बेहतरीन और प्रशंसनीय प्रस्तुति....


    इंडिया दर्पण
    की ओर से नव संवत्सर व नवरात्रि की शुभकामनाए।

    उत्तर देंहटाएं
  36. जब ऐसे ही मंत्री लोगो के हाथ में देश के शासन की डोर थमाई गई हो.....तो देश का आने वाला कल क्या होगा इसका सहज ही अंदाजा लगाया जा सकता है!...सटिक कथन!

    उत्तर देंहटाएं
  37. बहुत सुन्दर ! ५०वी पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई *

    उत्तर देंहटाएं
  38. आप मंत्री है, भूत और भविष्य की जंत्री है|
    आपके 'रामराज्य' में भूखे मरते यंत्री है!
    आप तालिया बजवाते है, गालिया सुनवाते है,
    भष्टाचार बढाने के नुस्खे आपको आते है,'...
    bahut badhiya ....

    उत्तर देंहटाएं
  39. नेता और मंत्री तो चुनाव जीतते ही मलाई खाने के लिए..... ये देश का प्रजातंत्र नहीं जुगाड़ तंत्र लगता है... अच्छी कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  40. सटीक व सामयिक कविता। 50वीं पोस्ट हेतु बधाई।

    उत्तर देंहटाएं
  41. ५० पोस्ट के लिए हार्दिक बधाई और शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  42. मंत्री जी आप बन गए अन्नदाता,
    और हम रह गए मतदाता!...बहुत सुन्दर सटीक रचना...पचासवी पोस्ट पर बहुत -बहुत बधाई ..धीरेन्द्र जी..

    उत्तर देंहटाएं
  43. bahut hee sunder rachna...pachaswi post mubarak ho..sadar badhayee ke sath

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,