बुधवार, 15 फ़रवरी 2012

कामयाबी..


कामयाबी...

रोने से तकदीर बदलती नही
वक्त से पहले रात ढलती नही
दूसरों की कामयाबी लगती आसान मगर
कामयाबी रास्ते में पडी मिलती नही

मिल जाए कामयाबी अगर इत्तेफाक से
यह भी सच है कि वह पचती नही
कामयाबी पाना है,पानी में आग लगाना
पानी में आग ,आसानी से लगती नहीं

ऐसा भी लगता है जिंदगी में अक्सर
दुनिया अपने जज्बात समझती नही है
हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही

हाथ बाँधकर बैठने से पहले सोच धीरेन्द्र
अपने आप कोई जिन्दगी संवरती नही,

------------------------------------------------

dheerendra

73 टिप्‍पणियां:

  1. हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही
    waah...

    उत्तर देंहटाएं
  2. हाथ बाँधकर बैठने से पहले सोच धीरेन्द्र
    अपने आप कोई जिंदगी संवरती नही..
    sach kaamyabi paane ke liye hath bandhkar baithne se kuch nahi banta..
    bahut sundar sakaratmak sandesh deti rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  3. कामयाबी को बेहतरीन ढंग से समझाया है, इस कविता में!!

    उत्तर देंहटाएं
  4. जिंदगी को देखने का अलग नजरिया ...बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. रोने से तकदीर बदलती नही
    वक्त से पहले रात ढलती नही
    दूसरों की कामयाबी लगती आसान मगर
    कामयाबी रास्ते में पडी मिलती नही../
    the main theme is that .... if you want to reach the highest point... you work hard... there is no shortcut in success/

    उत्तर देंहटाएं
  6. सच है..पानी में आग आसानी से लगती नहीं..जज्बा होना चाहिए बस...फिर क्या मुश्किल है..

    सार्थक रचना..

    उत्तर देंहटाएं
  7. //हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही

    हाथ बाँधकर बैठने से पहले सोच धीरेन्द्र
    अपने आप कोई जिंदगी संवरती नही,

    bahut khoob sirji.. bahut khoob.. waah :)

    उत्तर देंहटाएं
  8. सच है क्म्याबी के लिए मेहनत करनी पड़ती है ... भागी के भरोसे नहीं बैठा जा सकता ...अच्छी प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  9. सार्थक और प्रेरणादायक रचना है...

    "अपने आप कोई जिंदगी संवरती नही...."

    उत्तर देंहटाएं
  10. धीरेन्द्र जी बहुत ही शानदार कविता है... वाकई कामयाबी रस्ते में पड़ी कोई वास्तु नहीं की राह चलते मिल जाएगी... और जुगाड़ तुगाड़ से कुछ मिल भी गई तो काबिलियत न होने से पच नहीं पायेगी...

    उत्तर देंहटाएं
  11. जब जीवन दंगल बन जाये,
    ताल ठोंक जीना होता है,

    उत्तर देंहटाएं
  12. दूसरों की कामयाबी लगती आसान मगर
    कामयाबी रास्ते में पडी मिलती नही
    sahi kaha hai ....

    उत्तर देंहटाएं
  13. ऐसा भी लगता है जिंदगी में अक्सर
    दुनिया अपने जज्बात समझती नही है
    हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही
    पर बहुत सार्थक पंक्तियाँ हैं यह मैं ज़िन्दगी का साथ निभाता चला गया का मर्म समझाती बुझती सी .

    उत्तर देंहटाएं
  14. हाथ बाँधकर बैठने से पहले सोच धीरेन्द्र
    अपने आप कोई जिन्दगी संवरती नही…………………सार्थक संदेश देती सुन्दर रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  15. बढ़िया... बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  16. सच्ची सच्ची कहती सुन्दर रचना आदरणीय धीरेन्द्र जी.
    सादर बधाई..

    उत्तर देंहटाएं
  17. हाथ बाँधकर बैठने से पहले सोच धीरेन्द्र
    अपने आप कोई जिन्दगी संवरती नही,

    aikdam sahi kaha.

    उत्तर देंहटाएं
  18. बहुत ही सुन्दर प्रस्तुति|

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत सुंदर भाव संयोजन के साथ लिखी गई सार्थक संदेश देती रचना...बहुत खूब!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. हाथ बाँधकर बैठने से पहले सोच धीरेन्द्र
    अपने आप कोई जिन्दगी संवरती नही,

    जी हाँ...प्रेरणादायी
    गहरी अभिव्यक्ति लिए पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  21. सार्थक मार्गदर्शन करती रचना ।
    बहुत सुन्दर ।

    उत्तर देंहटाएं
  22. बड़ा ही क़ामयाब नुस्ख़ा बताया है आपने क़ामयाबी के।

    उत्तर देंहटाएं
  23. अपने आप ज़िंदगी संवरती नहीं

    सौ बात की एक बात, वाह !!!!!!!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  24. कामयाबी का फ़लसफ़ा समझती रचना .....!
    आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  25. हाथ बाँधकर बैठने से पहले सोच धीरेन्द्र
    अपने आप कोई जिन्दगी संवरती नही,ekdam sahi likhe.....

    उत्तर देंहटाएं
  26. जिंदगी का सच।
    बेहतरीन रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  27. बहुत खूब .. प्रेरक रचना
    सीख देती हुई सी

    उत्तर देंहटाएं
  28. दूसरों की कामयाबी लगती आसान मगर
    कामयाबी रास्ते में पडी मिलती नही
    shi kaha aapne bahut khoob
    rachana

    उत्तर देंहटाएं
  29. पानी में आग भी लगेगी,
    जब ऐसी कविता रचेगी !

    उत्तर देंहटाएं
  30. आपकी पोस्ट चर्चा मंच पर प्रस्तुत की गई है
    कृपया पधारें
    http://charchamanch.blogspot.com
    चर्चा मंच-791:चर्चाकार-दिलबाग विर्क

    उत्तर देंहटाएं
  31. अति उत्तम विचार .............!!!! यहाँ पर मै एक बात कहना चाहता हूँ की इस तरह की कामयाबी आज विरले लोग ही पाना चाहते है....बाकियों के लिये तो कामयाबी पैसे से खरीदने की चीज लगती है.........समय के साथ लोगो ने कामयाबी के मायने ही बदल डाले है !!!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  32. सही कहा सर ,,,,
    कामयाबी के साथ मन कि शांती भी जरुरी है...
    इसलिये मेहनत से मिली कामयाबी हि सच्ची कामयाबी है ..
    बहूत हि बेहतरीन रचना......

    उत्तर देंहटाएं
  33. हकीकत की बयानी बड़ी ही खूबसूरत अंदाज़ में किया है...
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  34. ऐसा भी लगता है जिंदगी में अक्सर
    दुनिया अपने जज्बात समझती नही है
    हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही
    LAJABAB RACHANA DHEERENDR JI ....BADHAI.

    उत्तर देंहटाएं
  35. रोने से तकदीर बदलती नही
    वक्त से पहले रात ढलती नही
    दूसरों की कामयाबी लगती आसान मगर
    कामयाबी रास्ते में पडी मिलती नही


    bahut sundar rachna...Prerak...

    उत्तर देंहटाएं
  36. हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही

    सुन्दर और प्रेरक प्रस्तुति है आपकी.
    मेरे ब्लॉग पर आपके आने का आभार.

    'मेरी बात' पर आईएगा, जी.

    उत्तर देंहटाएं
  37. अपने आप कोई जिन्दगी संवरती नही...waah bahut khoob...aap ki is utsahit kardene wali rachna ke liye dhanywad.

    उत्तर देंहटाएं
  38. अपने आप कोई जिन्दगी संवरती नही.. ekdam sach... bina karm kiye kuch hota nahin...

    उत्तर देंहटाएं
  39. प्रेरणादायक एवं सुन्दर संदेश देती रचना। बधाई......
    नेता- कुत्ता और वेश्या (भाग-2)

    उत्तर देंहटाएं
  40. प्रेरणा देती हुई , जीवन का संदेश देती हुई बेहतरीन रचना के लिये बधाई स्वीकार करें........

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत सुन्दर....सकारात्मक एवं प्रेरक रचना हेतु बधाई स्वीकारें !!

    उत्तर देंहटाएं
  42. हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही

    ....बहुत खूब! सकारात्मक सोच दर्शाती बहुत सुंदर रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  43. हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही
    aage badhne ke liye yahi soch chahiye ,bahut hi badhiya likha hai aapne .

    उत्तर देंहटाएं
  44. इस छोटी सी जिंदगी का सच लिख दिया आपने ....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  45. सच कहा आपने ,कामयाबी ऐसे ही नहीं मिलजाती राह पड़े हुए ............बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  46. मिल जाए कामयाबी अगर इत्तेफाक से
    यह भी सच है कि वह पचती नही
    कामयाबी पाना है,पानी में आग लगाना
    पानी में आग ,आसानी से लगती नहीं

    कुछ सीख देती हुई एक अच्छी रचना।

    उत्तर देंहटाएं
  47. हर शिकस्त के बाद जो टूटकर संभल गया
    फिर कौन सी बिगड़ी बात बनती नही

    वाह! सकारात्मक सोच से भरी पंक्तियाँ...|

    उत्तर देंहटाएं
  48. वाह! बहुत ही सच्ची बात कही आपने....

    उत्तर देंहटाएं
  49. bahut badhiya likha haa apne.......keep it up......nice blog

    उत्तर देंहटाएं
  50. "कामयाबी पाना है,पानी में आग लगाना
    पानी में आग ,आसानी से लगती नहीं"
    जवाब नहीं!

    उत्तर देंहटाएं
  51. मिल जाए कामयाबी अगर इत्तेफाक से
    यह भी सच है कि वह पचती नही
    कामयाबी पाना है,पानी में आग लगाना
    पानी में आग ,आसानी से लगती नहीं ...

    बहुत खूब ... सच कहा है ... कामयाबी आसानी से मिल जाए तो महत्त्व नहीं रहता और कामयाबी सतही लगती है ... लाजव्वाब प्रस्तुति ...

    उत्तर देंहटाएं
  52. अपने रिश्तेदारों को टिकट दिला रहे हैं साले.....
    धीरेन्द्र जी, अपने को यह बात जंच गई।

    उत्तर देंहटाएं
  53. अर्थ के चक्कर में जीवन जीने का मूल्य भूल जाते है
    बहुत,बेहतरीन अच्छी प्रस्तुति,सुंदर सटीक रचना के लिए बधाई,.....

    NEW POST...काव्यांजलि...आज के नेता...
    NEW POST...फुहार...हुस्न की बात...

    उत्तर देंहटाएं
  54. कामयाबी बैठे बैठे मिलती नही
    पर बिगडी बात मेहनत से ही बनती है ।
    सुंदर सार्थक रचना ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,