शनिवार, 14 जनवरी 2012

हमदर्द.....

हमदर्द

मुश्किलों का सामना करना
बड़ा मुश्किल लगता है ,

पावों में हो छाले तो
चलना बड़ा
मुश्किल लगता है,

भंवर में हो नैया तो
किनारा बहुत
दूर लगता है,

उलझा हो काटों में
गर दामन तो
संभलना मुश्किल लगता है,

पतझड का हो मौसम तो
फूलों का
खिलना मुश्किल लगता है,

हवाऐ हो तेज तो
चिराग जलाए
रखना मुशिकल लगता है,

दौरे-गर्दिशाँ में हो आदमी
तो हमदर्द
मिलना मुश्किल लगता है,

-----------------------
---dheerendra---

70 टिप्‍पणियां:

  1. पर मुश्किलों में ही संभलना भी आता है...

    उत्तर देंहटाएं
  2. सार्थक विचारणीय पोस्ट है |

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत खूब...
    हर मुश्किल कुछ सिखा जाती है...
    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  4. सार्थक और बेहद खूबसूरत,प्रभावी,उम्दा रचना है..शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  5. mushkil lagta hai...magar naamunkin kuch bhi nahi....

    Aise hi kuch mere vichar ek kavita mein yahan padhein http://www.poeticprakash.com/2009/12/blog-post_30.html

    उत्तर देंहटाएं
  6. jivan aise hin sangharsh ka naam hai, har mushkil se paar pana. shubhkaamnaayen.

    उत्तर देंहटाएं
  7. लोहडी और मकर संक्रांति की शुभकामनाएं.....


    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है। चर्चा में शामिल होकर इसमें शामिल पोस्ट पर नजर डालें और इस मंच को समृद्ध बनाएं.... आपकी एक टिप्पणी मंच में शामिल पोस्ट्स को आकर्षण प्रदान करेगी......

    उत्तर देंहटाएं
  8. सचमुच मुश्किलें हो तो और मुश्किलें आ जाती है !
    बहुत सुन्दर रचना !
    मेरी रचना " पाँव के फफोले" पे आपका
    इन्तेजार है !
    आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  9. मुश्किलों में ही अपनों की सही पहचान होती है

    बहुत ही सुंदर और सार्थक रचना !

    उत्तर देंहटाएं
  10. मुश्किलों का सामना करना
    बड़ा मुश्किल लगता है ,

    lekin tabhi tak jab tak aap saamna hnahin karte....
    aur ek baar samna ho gaya to sab aasaan lagta hai...

    उत्तर देंहटाएं
  11. aapne jo foto lagayee hai...
    kash vaisi mushkilen ishwar kisi ko n de...

    उत्तर देंहटाएं
  12. सार्थक और गहरी अभिव्यक्ति.

    उत्तर देंहटाएं
  13. मगर जो इन मुश्किलों से बाहर निकलता है लादकर वही सच्चा इंसान होता है!! अच्छी कविता!!

    उत्तर देंहटाएं
  14. "उलझा हो दामन गर ,काँटों में -
    संभलना मुश्किल लगता है."

    वाह ! ! बहुत खूब.

    उत्तर देंहटाएं
  15. अच्छी प्रस्तुति!
    मकर संक्रान्ति की मंगलकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  16. sach kaha...mushkil to bahut kuch lagta hai ...par mushkile hi to hame jeena sikhati hai....achchi prastuti

    उत्तर देंहटाएं
  17. मगर जीवन में आणि वाली सभी कठनाइयों का सामना करते हुए आगे बढ़ना ही ज़िंदगी है ...

    उत्तर देंहटाएं
  18. हर मुश्किल कुछ सिखा जाती है.

    उत्तर देंहटाएं
  19. sachch-- bahut hi mushkil -------
    par sabse jujhna bhi padta hai-----
    jindgi shayad isi ka naam hai------
    sadar naman
    poonam

    उत्तर देंहटाएं
  20. सार्थक और बेहद खूबसूरत,उम्दा रचना है......

    उत्तर देंहटाएं
  21. हवाऐ हो तेज तो
    चिराग जलाए
    रखना मुशिकल लगता है,
    bahut khoob !!

    उत्तर देंहटाएं
  22. मुश्किलें ही बहुत कुछ सिखा देती हैं...सुन्दर प्रस्तुति..

    उत्तर देंहटाएं
  23. कविता ही नहीं यह जीवन की अभिव्यक्ति का सच है।

    उत्तर देंहटाएं
  24. उलझा हो काटों में
    गर दामन तो
    संभलना मुश्किल लगता है,............सार्थक
    बहुत खूब



    वक्त वक्त पर संभल कर चलना मुश्किल लगता हैं

    उत्तर देंहटाएं
  25. इन्हीं मुश्किलों को पार करने वाला ही मंज़िल पाता है॥

    उत्तर देंहटाएं
  26. दौरे-गर्दिशाँ में हो आदमी
    तो हमदर्द
    मिलना मुश्किल लगता है,

    yathaartavaadii abhivykti

    उत्तर देंहटाएं
  27. बढ़िया प्रस्तुति...
    आपके इस सुन्दर प्रविष्टि की चर्चा कल दिनांक 16-01-2012 को सोमवारीय चर्चामंच पर भी होगी। सूचनार्थ

    उत्तर देंहटाएं
  28. हमदर्द मिलें तो दौरेगर्दिशां ही क्यों हो.बढ़िया रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  29. दौरे-गर्दिशाँ में हो आदमी
    तो हमदर्द
    मिलना मुश्किल लगता है,…………सत्य को दर्शाती बेहद उम्दा रचना दिल को छू गयी।

    उत्तर देंहटाएं
  30. दौरे-गर्दिशाँ में हो आदमी
    तो हमदर्द
    मिलना मुश्किल लगता है,

    मुश्किल हो सकता है नामुमकिन नहीं. वैसे भी जिंदगी मुश्किलों में जीना सिखा देती है.

    सुंदर प्रस्तुति के लिये बहुत बधाई.

    उत्तर देंहटाएं
  31. पर ऐसी मुश्किलें ही आगे बढ़ने की प्रेरणा भी देती हैं ... अच्छी रचना है ...

    उत्तर देंहटाएं
  32. दौरे-गर्दिशाँ में हो आदमी
    तो हमदर्द
    मिलना मुश्किल लगता है,

    सच का बयान करती अच्छी कविता।

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत सुन्‍दर अभिव्‍यक्ति हैं आपकी, इस ब्‍लॉग को फालों कर रहा हूं, अब गूगल रीडर से नये पोस्‍टों को बिना उपस्थिति का आभास दिलाए पढ़ते रहूंगा.

    उत्तर देंहटाएं
  34. बहुत ही सार्थक व सटीक लेखन| मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    उत्तर देंहटाएं
  35. आदरणीय भाई धीरेन्द्र जी कभी -कभी व्यस्तता बढ़ जाती है |कलम भी खामोश हो जाती है |बहुत सुन्दर और सार्थक सृजन के लिए आपको बधाई |

    उत्तर देंहटाएं
  36. यथार्थ को अभिव्यक्त करती आपकी प्रस्तुति अच्छी
    लगी.पाठकों की प्रतिक्रिया भी विचारणीय हैं.

    कहतें मुश्किलों में ही असली परीक्षा होती है व्यक्ति की.
    एक गाना अभी सुन रह था
    'गिरना नही है,गिर के संभलना है जिंदगी...'

    सुन्दर प्रस्तुति के लिए आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  37. दौरे-गर्दिशाँ में हो आदमी
    तो हमदर्द
    मिलना मुश्किल लगता है,
    -----------------------
    bhut hi gahan drishtipat badhai dheerendr ji .

    उत्तर देंहटाएं
  38. काव्यांजलि में पिरो दी सीधी सच्ची बात आपने .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  39. मुश्किलें ही जिंदगी जीना सिखाती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  40. मुश्किलें ही जिंदगी जीना सिखाती हैं

    उत्तर देंहटाएं
  41. गर हो मुश्किलों में जीना मुस्किल
    रख हौसला,अब कुछ भी ना मुस्किल

    बहुत खूब...

    मैं आपको मेरे ब्लॉग पर सादर आमन्त्रित करता हूँ.....

    उत्तर देंहटाएं
  42. अंतिम पंक्तियाँ बेहतरीन हैं.. सच्चाई बिखेरती हुई..

    उत्तर देंहटाएं
  43. bahut marmik rachna bahut achchi likhi hai.tasveer bhi bahut kuch bol rahi hai.

    उत्तर देंहटाएं
  44. बहुत खूबसूरत ..शुभकामनाएं |

    उत्तर देंहटाएं
  45. sundar rachna....sach hai mushkil hi to hai jo jeene ka maksad deti hai

    उत्तर देंहटाएं
  46. दौरे-गर्दिशाँ में हो आदमी
    तो हमदर्द
    मिलना मुश्किल लगता है..
    ..ekdam sach kaha aapni..
    bahut marmsparshi rachna..

    उत्तर देंहटाएं
  47. मुश्किले दौर ने ही मुझे संभलना सिखाया है ।
    गिरे जो चलके कुछ कदम तो उठना आया है ।

    उत्तर देंहटाएं
  48. भंवर में हो नैया तो
    किनारा बहुत
    दूर लगता है,
    nahee ho sukoon to jeevan
    dojakh lagtaa hai

    bahut badhiyaa

    उत्तर देंहटाएं
  49. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण प्रस्तुती! बढ़िया लगा!

    उत्तर देंहटाएं
  50. हर मुश्किल कुछ सिखाती है.. बस धैर्य चाहिये.. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  51. बहुत ही बढ़िया । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है ।

    उत्तर देंहटाएं
  52. बहुत ख़ूबसूरत और भावपूर्ण प्रस्तुती

    उत्तर देंहटाएं
  53. सार्थक रचना!गहन अभिव्यक्ति

    उत्तर देंहटाएं
  54. सच कहा....दर्द में कोई हमदर्द नही मिलता..

    उत्तर देंहटाएं
  55. बहुत खूब...
    मुश्किल कुछ सिखाती है.
    सार्थक पोस्ट

    उत्तर देंहटाएं
  56. उफ्फ ! इतना अन्याय क्यों है इस दुनिया में ?

    उत्तर देंहटाएं
  57. वाह धीरेन्द्र भाई ,.... मुश्किल आने पर ...ही सही की पहचान भी होती है ...सुंदर रचना

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,