सोमवार, 21 नवंबर 2011

सब कुछ पाने के बाद-क्या-?

Friends18.com Orkut Scraps


सब कुछ पाने के बाद.. क्या.?


जिंदगी में इंसान क्या चाहता है सफलता.?
हाँ छोटी बड़ी सफलताओं की चाह ही
जिन्दगी को गतिमान रखती है \
कोई छोटी छोटी उपलब्धियों में
अपनी सफलता तलाश कर
उन्ही के लिए जीता है
तो कोई गगनचुंबी अपेक्षाओं की पूर्ती को
सफलता का राज मान कर
उसी की ओर दौड लगाते हुए,
जिंदगी गुजार देता है
सफलता की राह में असफलता से
लगभग हर व्यक्ति का सामना होता है
अधिकांश लोग...
किसी ना किसी तरह इससे उबर जाते है
और कुछ ऐसे भी होते है
जो असफलता से हताश होकर
जीवन लीला समाप्त कर बैठते है
और जो सफलता पा जाते है
जीवन के हर मकसद में कामयाब हो जाते है
अपना बाकी जीवन वे खुशी खुशी गुजार देते है
लेकिन कुछ ऐसे भी लोग होते है
जो सफलता का शिखर छू लेने के बाद भी
मौत को गले लगा लेने की राह चुनते है
कारण..? कारण यह कि..
सब कुछ पा लेने के बाद,
उन्हें और जीने की वजह नजर नही आती
यह अजीब विरोधाभास है
जहा असफल व्यक्ति हताशा में
डूबकर मौत को गले लगाता है
वहीं भौतिक उपलब्धियों का
शिखर छू लेने के बाद व्यक्ति को
जीवन में किसी उद्देश्य की कमी खटकने लगती है
और यह उद्देश्यहीनता उसे
आत्महत्या की ओर ले जाती है
कुल मिलाकर मेरा कहना ये है
यदि जीवन में खालीपन महसूस हो रहा है
तो उसकी पूर्त्ती मृत्यु से मत करो
जीवन को उद्देश्य दो
अपने लिए तो जी चुके
औरों के लिए जियो..|
००००००००००००००
दु:खद किन्तु सत्य घटना.

अभी पिछले माह ही गोवा में एक युवा दंपति द्वारा की गई आत्महत्या ने
सबको दहला दिया था ३९ वर्षीय साफ्टवेयर इंजीनियर'आनंद रंथीदेवन'और
उसकी३६वर्षीय पत्नी 'दीपा' फांसीपर झूलते पाए गए,किसी आर्थिक कठिनाई
बीमारी या फिर संबंधों में तनाव के कारण इस तरह की आत्महत्या हैरत
पैदा नही करती| हैरत की बात यह थी कि रंथीदेवन दंपंती आर्थिक रूप से
संपन्न था, सफल था, स्वस्थ था.खुश था,.फिर यह कदम क्यों.?उसके फ़्लैट
से मिले सुसाईट नोट में इस सवाल का जबाब दर्ज था,...हमने खूब अच्छी
जिंदगी गुजारी है, हम दुनिया भर में घूमे है, और कई देशों में रहे है, हमने
इतनापैसा कमाया जिसकी कभी कल्पनाभी नही कीथी और इसे उन चीजों
पर खर्च किया जिसमे हमे खुशी मिलतीथी..आगे सार यहथा कि अब जीने
के लिए कुछ बचा नही है, इसलिए हम खुदकुशी कर रहे है|

dheerendra

33 टिप्‍पणियां:

  1. सबकुछ के बाद बस एक दुखद शून्य ....

    उत्तर देंहटाएं
  2. औरों के लिए जीना शुरू करने के बाद समय पंख लगाकर उड़ने लगता है.बिलकुल सही कहा.

    उत्तर देंहटाएं
  3. जीवन में किसी उद्देश्य की कमी खटकने लगती है
    और यह उद्देश्यहीनता उसे
    आत्महत्या की ओर ले जाती है
    कुल मिलाकर मेरा कहना ये है
    यदि जीवन में खालीपन महसूस हो रहा है
    तो उसकी पूर्त्ती मृत्यु से मत करो
    जीवन को उद्देश्य दो
    अपने लिए तो जी चुके
    औरों के लिए जियो..|

    bahut sundar...

    उत्तर देंहटाएं
  4. bilkul sahi kaha hai aapne ...apne liye jiye the abtak aa auron ki khatir ji le.

    उत्तर देंहटाएं
  5. दुखद है यह ...सही कहा आपने ..।

    उत्तर देंहटाएं
  6. You're right. It's a tragedy! congrats on writing such a meaningful post!

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सार्थक रचना...एक गंभीर सन्देश के साथ..बहुत अच्छा लिखा है..

    उत्तर देंहटाएं
  8. ye kahna ki jine k liye ab kuchh bacha nahi hai, apne aap mein asantusti, tanaav, haar ayr kaayarta ko darshata hai... main to maanta hun ki har pal naya hai aur karne ko abhi bahut kuchh baaki hai... apne liye kar chuke to apnon k liye karein... wo v pura ho gaya to dusron k liye karein...

    उत्तर देंहटाएं
  9. कोई न कोई उद्देश्य तो तलाशा ही जा सकता है...
    जीने के कई बहाने हैं!

    उत्तर देंहटाएं
  10. मेरे पोस्ट आकर अपने अनमोल विचारों से नवाजा उन सभी लोगों को मेरा हार्दिक आभार शुक्रिया...
    धन्यबाद देता हूँ...dheerendra...

    उत्तर देंहटाएं
  11. कल 23/11/2011 को आपकी यह पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्‍वागत है, चलेंगे नहीं तो पहुचेंगे कैसे .. ?..
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत अच्छी सार्थक मनोवैज्ञानिक प्रस्तुति .सीखना आखिर चुक कैसे जाता है ?क्या आदमी इतनी जल्दी चुक जाता है ?

    उत्तर देंहटाएं
  13. गंभीर सन्देश बहुत सार्थक रचना....!


    संजय भास्कर
    आदत...मुस्कुराने की
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  14. सत्य घटना के साये में आपने अत्यंत गंभीर और सार्थक रचना रची है आदरणीय धीरेन्द्र जी...
    सादर आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत उम्दा व भावपूर्ण,संदेशपूर्ण प्रस्तुति ।

    प्रस्तुत कहानी पर अपनी महत्त्वपूर्ण प्रतिक्रिया से अवगत कराएँ ।

    भावना

    उत्तर देंहटाएं
  16. बहुत अच्छा सबक है उन लोगों के लिए जो उद्देश्य विहीन जीवन जीते हैं ,
    कुछ न कुछ पाने की इच्छा हर इंसान को रखनी चाहिए जिन्दा रहने के लिए |

    उत्तर देंहटाएं
  17. पाना भीतर ही हो सकता है,बाहर नहीं और भीतर जब सब कुछ मिल जाए,तो वहीं विश्राम करना ठीक।

    उत्तर देंहटाएं
  18. कुछ न था तो खुदा था और सब कुछ है तो भी खुदा ही है

    उत्तर देंहटाएं
  19. विचारोत्तेजक प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  20. अपने लिए तो जी चुके
    औरों के लिए जियो.behad prerak andaz hai......

    उत्तर देंहटाएं
  21. यह अजीब विरोधाभास है
    जहा असफल व्यक्ति हताशा में
    डूबकर मौत को गले लगाता है
    वहीं भौतिक उपलब्धियों का
    शिखर छू लेने के बाद व्यक्ति को
    जीवन में किसी उद्देश्य की कमी खटकने लगती है

    सही बात कह रहे हैं सर!

    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  22. इस खालीपन का कोई संभव राह भी नहीं है ....सूनेपन की राते भी और ये दिन भी .....

    उत्तर देंहटाएं
  23. भीतर की रिक्तता बाहर की उपलब्धियों से
    कभी नहीं भर सकती ! अच्छी पोस्ट आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  24. भौतिक उपलब्धि को हमारे यहाँ निम्न कोटि की
    उपलब्धि ही बताया गया है,यही कारण है कि
    प्राचीन समय में राजा लोग वानप्रस्थ/संन्यास का
    अनुपालन करने के लिए सभी भोग सामग्री का
    त्याग कर जीवन को तपोमय बना 'परमानन्द'
    की प्राप्ति का यत्न करते थे.

    यह जीवन प्रभु की अनमोल धरोहर है.
    एक एक क्षण अत्यंत कीमती है.
    इसका सदुपयोग करना ही मानव का धर्म है.

    उत्तर देंहटाएं
  25. जीवन के हर मकसद में कामयाब हो जाते है
    अपना बाकी जीवन वे खुशी खुशी गुजार देते है
    लेकिन कुछ ऐसे भी लोग होते है
    जो सफलता का शिखर छू लेने के बाद भी
    मौत को गले लगा लेने की राह चुनते है


    जीवन विरोधाभासों के संगम के सिवा कुछ भी नहीं .......!

    उत्तर देंहटाएं
  26. जहा असफल व्यक्ति हताशा में
    डूबकर मौत को गले लगाता है
    वहीं भौतिक उपलब्धियों का
    शिखर छू लेने के बाद व्यक्ति को

    जीवन में किसी उद्देश्य की कमी खटकने लगती है
    और यह उद्देश्यहीनता उसे
    आत्महत्या की ओर ले जाती है ...

    उत्तर देंहटाएं
  27. मानव मन को समझाना आसान नहीं , अफ़सोस जनक मूर्खता की मिसाल है यह घटना !
    शुभकामनायें आपको !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,