रविवार, 9 अक्तूबर 2011

चले मनाने आज दिवाली......



















चले मनाने आज दिवाली......

नेता बन, कर रहे घोटाला
कोई नही है सुनने वाला
फिर भी लोग समझ नहीं पाते
हाँथ मिला, पहनाते माला

जमा कर रहे है,कमाई काली
चमन लूट, कर रहे है खाली
आश्वशन के भाषण सुनकर
जिंदाबाद कर,बजा रहे है ताली

भ्रष्टाचार और आतंक की जाली
महगाई भूख की बढती डाली
याद करो तुम उन लोगों को
जो डुबा रहे भारत की लाली

देश में ऐश कर रहे है माली
हम सब बाद में देते है गाली
आओ मिलकर सबक सिखाते
जो खीच रहे गरीबों की थाली

गया दशहरा आयी दिवाली
जनता कितनी भोली भाली
भूल गयी सारी बातों को
चले मनाने आज दिवाली.....



dheerendra.....

2 टिप्‍पणियां:

  1. धीरेन्द्र जी,
    आपके कोई भी पोस्ट प्रकाशित होने के 15 सैकिंड के बाद ही पानी पोस्ट को टिप्स हिंदी में ब्लॉग पर देखें | है न सबसे तेज | यकीन नहीं होता तो आप अपनी पोस्ट प्रकाशित करें व ठीक 15 सैकिंड बाद इस लिंक पर कलिक करके देख लें |

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,