बुधवार, 5 अक्तूबर 2011

विजयादशमी......





















विजयादशमी......


विजयादशमी,
एक मात्र पर्व नहीं
यह एक प्रतीक है -?
कई सारी बातों का
साहस और सच्चाई का
बुराई और अच्छाई का
नि:स्वार्थ सहायता
मित्रता और वीरता
प्रतिभाशाली और दंभ का
रावण जैसे स्थभं का
अलग-अलग
भले-बुरे तत्वों का प्रतीक है
अच्छाई, राम की-
बुराई, रावण की-
सीख लेने की बनाई गई रीत
अच्छाई की बुराई पर जीत
विजय की खुशी मनाने का प्रतीक
,

विजयादशमी......

dheerendra.....






9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया लिखा है आपने! लाजवाब प्रस्तुती!
    आपको एवं आपके परिवार को दशहरे की हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  2. धीरेन्द्र जी ...आपका ब्लॉग देखा ..नवरात्र की बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  3. बधाई हो धीरेन्द्र जी आपने एक स्टेप (मोडरेशन का विकल्प हटाने का) सीख लिया है | ऐसे ही बढते रहे व नई रचनाओं को रचते रहे |

    उत्तर देंहटाएं
  4. अच्छा लगा इस ब्लॉग की कुछ पोस्ट को पढ़कर।
    दशमी के साथ नौ का भी खूब महत्व समझाया है आपने।

    उत्तर देंहटाएं
  5. प्रिय और आदरणीय धीरेन्द्र जी बहुत सुन्दर शब्द- मूल भाव सुन्दर- नपे तुले रचनात्मक -तुलनात्मक दृष्टिकोण लिए विजय दशमी पर बुराइयों पर अच्छाइयों की विजय दर्शाती रचना ....बधाई हो
    भ्रमर ५

    साहस और सच्चाई का
    बुराई और अच्छाई का
    नि:स्वार्थ सहायता
    मित्रता और वीरता
    प्रतिभाशाली और दंभ का
    रावण जैसे स्थभं का
    अलग-अलग
    भले-बुरे तत्वों का प्रतीक है

    उत्तर देंहटाएं
  6. आदरणीय धीरेन्द्र जी
    नमस्कार !
    लाजवाब लिखा है
    देर से ही सही
    दशहरे की हार्दिक ..... शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,