मंगलवार, 2 सितंबर 2014

वजूद



काश- तुम्हारे भी एक बेटी होती
प्यार से उसका नाम रखते ज्योती,
सहमी सहमी सिमटी सी-
गुलाबी कपड़ों लिपटी सी-
टुकुर टुकुर निहारती,
जैसे बेरहम दुनिया को देखना चाहती,
उसका हंसना बोलना और मुस्कराना,
तुम्हारा प्यार से माथे को सहलाना,
गाल चूमकर नाम से बुलाते-
गोद में उठाकर सीने से लगाते-
तो तुम्हरा दिल खुशियों से नाच उठता,
कितनी ठंडक पडती कितना सकून मिलता,
नन्हे नन्हे पैरों से चलने की आहट

हंसना रोना और उसकी खिलखिलाहट,
गोद में उठाकर लोरी सुनना
उंगली पकडकर चलना सिखाना,
तोतली जबान से कुछ कहने की चाहत
समाज के दोगली बातों से आहात-
जैसे कहना चाह रही हो-?
बेटे और बेटी में इतना फर्क,
इसमें हम बेटियों का क्या कसूर
एक बार हमारे पंख लगाकर के देखो
खुले आसमान में उड़ाकर के देखो-
हम क्या नहीं कर सकती॥?
लक्ष्मीबाई, से लेकर मदरटेरसा, तक
इंदिरा गांधी,से लेकर कल्पना चावला तक
ये भी तो किसी की बेटियां थी,
बेटियां समाज की धडकन होती है
दो कुलों के बीच रिश्ता जोड़कर-
घर बसाती है,
माँ बनकर इंसानी रिश्तों की
भावनाओ से जुडना सिखाती है,
पर तुमने-?
पर जमने से पहले ही काट डाला
शरीर में जान-?
पड़ने से पहले ही मार डाला,
आश्चर्य है.?
खुद को खुदा कहने लगे हो
प्रकृति और ईश्वर से
बड़ा समझने लगे हो,
तुम्हारे पास नहीं है ?
कोई हमसे बड़ा सबूत,
हम बेटियां न होती-?
न होता तुम्हारा वजूद......

जिन्दगी के  हर जशन को अधूरा पाओगे,
अगर बेटियों के आगमन से इतना कतराओगे,
जीवन का ये अनमोल सुख कैसे पाओगे,,,,,,,,

000000000000000000000000000000000000000000000000000000

dheerendra singh bhadauriya,,,,,

15 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर।
    --
    आपकी इस पोस्ट का लिंक कल के चर्चा मंच पर भी होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर और भावपूर्ण रचना...

    उत्तर देंहटाएं
  3. सही कहा है...बेटियों को अपने आंगन में खेलते देखना अति सुखद अनुभव है....

    उत्तर देंहटाएं
  4. सच कहा है बिलकुल ... बेटियों के बिना घर अधूरा है ... जीवन अधूरा है ...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मैं क्या बोलूँ अब....अपने निःशब्द कर दिया है..... बेटियों के बिना घर अधूरा है बहुत ही सुंदर कविता.

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत अच्छे सर जी :)

    मुझे लगता है की आपने ब्लोगिंग थोड़ी कम कर दी है ...क्या ऐसा नहीं है ?

    उत्तर देंहटाएं
  7. अनुपम प्रस्तुति....आपको और समस्त ब्लॉगर मित्रों को दीपावली की हार्दिक शुभकामनाएं...
    नयी पोस्ट@बड़ी मुश्किल है बोलो क्या बताएं

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,