शुक्रवार, 4 जुलाई 2014

आज के दोहे.

आज के दोहे.

नई  सदी  से  मिल  रही,  दर्द  भरी  सौगात   
बेटा   कहता   बाप  से , तेरी   क्या  औकात !!

अब  तो अपना  खून भी, करने लगा कमाल    
बोझ समझ माँ बाप को, घर से रहा निकाल !!

 पानी आँख में  न रहा, शरम  बची  ना लाज     
कहे   बहू  अब  सास  से, घर  में  मेरा  राज !!

भाई   भी  करता   नही, भाई  पर  विस्वास   
 बहन  पराई   हो   गई,  साली  खासमखास !!

मंदिर  में  पूजा  करें,  घर   में   करे  कलेश   
 बापू  तो   बोझा  लगे, पत्थर   लगे   गणेश !!

बचे  कहाँ   वो  लोग  है, बचा  कहाँ  ईमान   
 पत्थर के  भगवान्  हैं, पत्थर  दिल  इंसान !!

फैला   है  पाखंड  का, अन्धकार  सब  ओर  
 पापी  करते  जागरण, मचा  मचाकर  शोर !!

रचना whatsApp से

23 टिप्‍पणियां:

  1. उत्तर
    1. waah sach ukera hai aapne , bahut acche lage dohe . badhai aapko aapki rachnaye man me sada josh bharti hai

      हटाएं
  2. रचना पोस्ट करने के पहले ही आपका कमेंट्स आ गया ....!

    उत्तर देंहटाएं
  3. बचे कहाँ वो लोग है, बचा कहाँ ईमान
    पत्थर के भगवान् हैं, पत्थर दिल इंसान !!
    satya v sundar abhivyakti /prastuti .badhai

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज के दौर में सार्थक सटीक है सभी दोहे !

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत बढ़िया दोहे....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  6. अभी भी अच्छे लोग हैं तभी तो दुनिया टिकी है

    उत्तर देंहटाएं
  7. मंदिर में पूजा करें, घर में करे कलेश
    बापू तो बोझा लगे, पत्थर लगे गणेश !!
    बहुत बढ़िया सब दोहे
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल रविवार (06-07-2014) को "मैं भी जागा, तुम भी जागो" {चर्चामंच - 1666} पर भी होगी।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  9. सचाई से जुड़े सब दोहे .. हकीकत को उतारा है आपने ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. La- jawab panktiyan... Aaj ke samaj aur uski sonch ka sach darshati aaina hai ye. Badhayi.

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत सुन्दर प्रस्तुति। मेरे नए पोस्ट खामोश भावनाओं की ऊपज पर आपकी प्रतिक्रिया अपेक्षित है। शुभ रात्रि।

    उत्तर देंहटाएं
  12. Kalyugi Sach Batane wali post hai.
    Thanks & Welcome to my Blog.

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये दोहे हरियाणा के प्रसिद्ध दोहाकार श्री रघुविन्द्र यादव जी के हैं जो उनके दोहा संग्रह नागफनी के फूल में 2011 में प्रकाशित हो चुके हैं । एक जिम्मेदार शहरी होने के नाते या तो आपको उनका नाम लिखना चाहिए या "नागफनी के फूल से साभार" लिखना चाहिए ।

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,