रविवार, 13 अप्रैल 2014

आज चली कुछ ऐसी बातें.


Friends18.com Orkut Scraps

आज चली कुछ ऐसी बातें...

 

 आज चली  कुछ  ऎसी बातें, बातों पर हैं  जाएँ बातें

हँसती हुयी  सुनी हैं बातें, बहकी हुयी  सुनी हैं  बातें
बच्चो की क्या प्यारी बातें,इनकी बातें,उनकी बातें
होती हैं  कुछ अपनी बातें, दिल को छू जाती हैं बातें
आसूँ  में  कुछ डूबी बातें, क्यूँ करते हो  ज्यादा बातें
 आज  चली कुछ  ऐसी बातें, बातों पर हो जाएँ बातें 

होती बड़ी मृदुल  कुछ बातें, कर्कश भी होतीं है बातें
  प्रेम  कराती  हैं  ,ये  बातें,  बातें   बंद   कराती  बातें  
सहनी पड़ती हैं कुछ बातें,सही नहीं जातीं कुछ बातें
उचे  स्वर में  होतीं बातें,  चुपके -चुपके  होतीं  बातें


 आज  चली  कुछ ऐसी बातें, बातों  पर हो  जाएँ बातें 

नयनों में  जब होतीं  बातें, क्या समझोगे  ऎसी बातें
हर भाषा  में होतीं  बातें, कुछ सच्ची  कुछ झूठी बातें
हार की बातें जीत की बातें,गीत और संगीत की बातें
 ज्ञान और विज्ञान की बातें,हर मौसम पर करते
बातें  
 
आज चली  कुछ ऐसी  बातें, बातों  पर हो जाएँ  बातें

कभी  वीरता की  हों बातें, क्रोध  भरी भी  होतीं बातें
डींग  हाकती हैं  कुछ बातें, डरी और  सहमी सी बातें
ध्रणा दर्द पर भी हों बातें, जन्म म्रत्यु  पर होती बातें
बंद करो  भी ऐसी  बातें, अब न सुनी  जाती  ये बातें


आज  चली  कुछ ऐसी  बाते,बातों  पर हो  जाएँ बाते 
 
प्रेम और परमार्थ की बातें,धनी और निर्धन की बातें
ताकतवर  निर्बल की बातें, भूखे प्यासों  की भी बातें
सुनने जाते हैं कुछ बातें, सुनकर न सुन ते कुछ बातें
कुछ  होतीं  है ऐसी बातें, कह न कही  सकते  वे बातें


आज चली  कुछ ऐसी  बातें, बातों पर  हो जाएँ  बातें

ममता मयी हैं माँ की बातें, शिक्षा देती गुरु की बातें
अच्छी और  बुरी  कुछ बातें, है गंभीर बहुत  सी बातें
कभी-कभी भरमाती  बातें, है इतिहास  बनाती बातें
युगों-युगों  तक चलती बातें, कुछ हो
तीं हैं ऎसी बातें

आज  चली कुछ ऐसी  बातें, बातों पर  हो  जाएँ बातें 

 
किसके दम पर इतनी बातें, इस पर भी हो जायें बातें
दिल की  धड़कन  से हैं बातें, सासों पर निर्भर हैं बातें
जब तक  करती हैं ये बातें,तब तक है अपनी भी बातें

खतम नही  हुई  हैं बातें, सोच समझ कर करना बातें

  आज चली  कुछ ऐसी  बातें, बातों पर  हो  जाएँ  बातें 
 
vikram
http://vikram7.blogspot.com

39 टिप्‍पणियां:


  1. प्रेम और परमार्थ की बातें,धनी और निर्धन की बातें
    ताकतवर निर्बल की बातें, भूखे प्यासों की भी बातें

    ..बहुत प्रबल भाव ...जीवन की सच्चाई के ...

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सारी गहरी गंभीर बातें
    सादर

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सारगर्भित और सार्थक प्रस्तुति,आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  4. आज चली कुछ ऐसी बातें, बातों पर हो जाएँ बातें .. बहुत सुन्दर रचना ..

    उत्तर देंहटाएं
  5. कभी वीरता की हों बातें, क्रोध भरी भी होतीं बातें
    डींग हाकती हैं कुछ बातें, डरी और सहमी सी बातें
    ध्रणा दर्द पर भी हों बातें, जन्म म्रत्यु पर होती बातें
    बंद करो भी ऐसी बातें, अब न सुनी जाती ये बातें
    bahut sundar v sarthak abhivyakti v prastuti .

    उत्तर देंहटाएं
  6. रोचक, गहरी बातें। बहुत सुन्दर रचना...! ..

    उत्तर देंहटाएं
  7. बातों बातों में गहन अनुभव से बहुत सीख भरी बातें ..
    सुन्दर रचना!

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल मंगलवार (15-04-2014) को "हालात समझ जाओ" (चर्चा मंच-1583) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  9. बातों बातों में क्या बात कही है ... क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं
  10. बहुत गहरी बातें। सुन्दर प्रस्तुति।
    --

    उत्तर देंहटाएं
  11. ब्लॉग बुलेटिन की आज की बुलेटिन सावधानी हटी ... दुर्घटना घटी - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुंदर बातें.;गहरे भाव लि‍ए..

    उत्तर देंहटाएं
  13. बातों ही बातों में कितनी बातें हो गयीं ... गहरा अर्थ लिए ..

    उत्तर देंहटाएं
  14. बातों के हर पहलु का सुन्दर अर्थ पूर्ण आख्यान

    उत्तर देंहटाएं
  15. बातों के हर पहलु का सुन्दर अर्थ पूर्ण आख्यान

    उत्तर देंहटाएं
  16. बातों के हर पहलु का सुन्दर अर्थ पूर्ण आख्यान

    उत्तर देंहटाएं
  17. नयनों में जब होतीं बातें, क्या समझोगे ऎसी बातें
    हर भाषा में होतीं बातें, कुछ सच्ची कुछ झूठी बातें
    हार की बातें जीत की बातें,गीत और संगीत की बातें
    ज्ञान और विज्ञान की बातें,हर मौसम पर करते बातें

    बहुत बढ़िया स्पेक्ट्रम रचा है बातों का :

    तिल का ताड़ बनाती बातें ,

    बे -मकसद बे -मानी बातें ,

    राहुल की नादानी बातें ,

    आज छिड़ी फिर बात पे बातें ,

    लातें होतीं हैं कुछ बातें ,

    चलती सरे आम ये बातें ,

    कहलातीं हैं चुनावी बातें।

    उत्तर देंहटाएं
  18. वाह बात से निकलती बात जिससे बन गयी बात |

    उत्तर देंहटाएं
  19. गहरी बातें प्यारी बातें

    लोगों को समझाती बातें!
    हमको तो अच्छी लगती हैं
    आपकी इतनी सारी बातें!!

    उत्तर देंहटाएं
  20. वाह....बहुत खूब...
    बहुत बढ़िया बात....

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  21. bato hi baton me na jane kitni baten keh din aapne in panktiyon me...bahut khoob sir.
    aaj kafi arse baad ana hua blog pe aur ate hi aap ki baaten....

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,