शुक्रवार, 4 जनवरी 2013

वह सुनयना थी,,,( विक्रम सिंह )


वह सुनयना थी,
कभी चोरी-चोरी मेरे कमरे मे आती
नटखट बदमाश
मेरी पेन्सिले़ उठा ले जाती
और दीवाल के पास बैठकर
अपनी नन्ही उगलियों से
भीती में चित्र बनाती

अनगिनत-अनसमझ, कभी रोती कभी गाती
वह फिर आयी थी मेरे कमरे में
मुझे देख सकुचाई थी

नव-पल्लव सी अपार शोभा  लिये
पलक संपुटो में लाज को संजोये
सुहाग के वस्त्रों में सजी
उषा की पहली किरण की तरह
कॉप रही थी

जाने से पहले मांगनें आयी थी ,वात्सल्य भरा प्यार
जो अभी तक मुझसे पा रही थी
वह फिर आयी थी मेरे कमरे में
दबे पाँव
डरी सहमी सी
उस कबूतरी की तरह
जिसके कपोत को बहेलिये ने मार डाला था
संरक्षण विहीन
भयभीत मृगी के समान
मेरे आगोश में समां गयी थी
सर में पा ,मेरा ममतामईं हाथ
आँसुओं के शैलाब से
मेरा वक्षस्थल भिगा गयी थी
सफेद वस्त्रों में उसे देख ,मैं समझ गया था
अग्नि चिता में
वह अपना
सिंदूर लुटा आयी  थी
वह फिर आयी थी मेरे कमरे में
नहीं इस बार दरवाजे पर
दबे पाँव नहीं
कोई आहट नहीं
कोई आँसू नहीं
सफेद चादर से ढकी
मेरे ड्योढी में पडी थी
मैं आतंकित सा,काँपते  हाथों से
उसके सर से चादर हटाया था
चेहरे पे अंकित थे वे चिन्ह
जो उसने, वासना के
सडे-गले हाथो से पाया था
मैने देखा
उसकी आँखों में शिकायत नहीं,स्वीकृति थी
जैसे वह मौन पड़ी कह रही हो
हे पुरूष, तुम हमें
माँ
बेटी
बहन
बीबी
विधवा
और वेश्या बनाते हो
अबला नाम भी तेरा दिया हैं
शायद इसीलिए
अपने को समझ कर सबल
रात के अँधेरे में,रिश्तो को भूल कर
भूखे भेडिये की तरह
मेरे इस जिस्म को, नोच-नोच खाते हो,
क्या कहाँ ,शिक़ायत और तुझसे
पगले, शायद तू भूलता है,
मैने वासना पूर्ति की साधन ही नहीं-
तेरी जननी भी हूँ
और तेरी संतुष्ति,मेरी पूर्णता की निशानी हैं
मैं सहमा सा पीछे हट गया
उसकी आँखों में बसे इस सच को,मैं नहीं सह सका
और वापस आ गया ,अपने कमरे में
शायद मैं फिर करूँगा इंतजार
किसी सुनयना का
वह सुनयना थी,,,,,,,


अभी हाल में हुई  दिल्ली की घटना ने पूरे देश को सोचने के लिए मजबूर कर दिया,कुछ इसी परिपेक्ष पर विक्रम सिंह    की ये रचना आप लोगो के साथ साझा कर रहा हूँ ,,,,,,,
















55 टिप्‍पणियां:

  1. गहन अभिव्यक्ति... साझा करने के लिए आपका बहुत-बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  2. दामिनी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि और विक्रम सिंह जी की कलम को सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं
  3. दामिनी को अश्रुपूरित श्रद्धांजलि और विक्रम सिंह जी की कलम को सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं
  4. झकझोरती काव्य रचना साझा करने के लिए धन्यवाद !!

    उत्तर देंहटाएं
  5. BEHAD GAMBHIR RACHNA,वह फिर आयी थी मेरे कमरे में
    मुझे देख सकुचाई थी
    नव-पल्लव सी अपार शोभा लिये
    पलक संपुटो में लाज को संजोये
    सुहाग के वस्त्रों में सजी
    उषा की पहली किरण की तरह
    कॉप रही थी
    जाने से पहले मांगनें आयी थी ,वात्सल्य भरा प्यार
    जो अभी तक मुझसे पा रही थी

    उत्तर देंहटाएं
  6. शानदार लिखा है विक्रम सिंह जी ने

    उत्तर देंहटाएं
  7. गहन अभिव्यक्ति... आपका बहुत-बहुत आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  8. दिल को झकझोर देने वाली रचना, बिक्रम सिंह जी को सादर अभिनन्दन।आपने ऐसी मार्मिक रचना को साझा किया,इसके लिए आभार।

    उत्तर देंहटाएं
  9. अपनी धरोहरों को सम्हालने वाली सुनयना से कैसा बर्ताव कर रहे हैं हम।

    उत्तर देंहटाएं
  10. बड़ा ही दिलकश लिखा है। जो सोचने को मजबूर कर देता है। चंद अलफ़ाज़ में बहुत सारे जज़्बात छुपे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  11. आदरणीय धीरेन्द्र सर ह्रदय को खंड-२ कर देने वाली बेहद मार्मिक रचना, आपने हम सब के साथ साझा किया आपको अनेक-२ धन्यवाद. सादर

    उत्तर देंहटाएं
  12. अन्तस् को उद्वेलित करती हुयी रचना !

    साभार विक्रम जी का !

    उत्तर देंहटाएं
  13. दर्द से टूट रहा है मानस ...चश्मे-तर :(

    recent poem : मायने बदल गऐ

    उत्तर देंहटाएं
  14. अत्यंत सटीक विचारों से परिपूर्ण समसामयिक विमर्श करती, सच्चाई को वयां करती हुई कविता....

    उत्तर देंहटाएं
  15. इतनी झकझोर देने वाली रचना सटीक कविता लिखने के लिए साधुवाद ।
    सादर नमन |

    उत्तर देंहटाएं
  16. इक नारी को घेर लें, दानव दुष्ट विचार ।
    शक्ति पुरुष की जो बढ़ी, अंड-बंड व्यवहार ।
    अंड-बंड व्यवहार, करें संकल्प नारियां ।
    होय पुरुष का जन्म, हाथ पर चला आरियाँ ।
    काट रखे इक हाथ, बने नहिं अत्याचारी ।
    कर पाए ना घात, पड़े भारी इक नारी ।।

    उत्तर देंहटाएं
  17. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल रविवार (06-01-2013) के चर्चा मंच-1116 (जनवरी की ठण्ड) पर भी होगी!
    --
    कभी-कभी मैं सोचता हूँ कि चर्चा में स्थान पाने वाले ब्लॉगर्स को मैं सूचना क्यों भेजता हूँ कि उनकी प्रविष्टि की चर्चा चर्चा मंच पर है। लेकिन तभी अन्तर्मन से आवाज आती है कि मैं जो कुछ कर रहा हूँ वह सही कर रहा हूँ। क्योंकि इसका एक कारण तो यह है कि इससे लिंक सत्यापित हो जाते हैं और दूसरा कारण यह है कि किसी पत्रिका या साइट पर यदि किसी का लिंक लिया जाता है उसको सूचित करना व्यवस्थापक का कर्तव्य होता है।
    सादर...!
    नववर्ष की मंगलकामनाओं के साथ-
    सूचनार्थ!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  18. कभी कभी सोचती हूँ कि हर जीवित इंसान अपने हिस्से का कर्म पूरा कर ले तो ऐसे गुनहा कभी हो ही ना और ऐसे अपराध करने वाले ना तो इंसान है और ना जीवित

    उत्तर देंहटाएं
  19. बहुत-बहुत आभार..... मार्मिक रचना को साझा किया...........दामिनी को श्रद्धांजलि है।

    उत्तर देंहटाएं
  20. दिल्ली रेप की तदानुभूति है इस रचना में .

    उत्तर देंहटाएं
  21. भावपूर्ण मर्मस्पर्शी एक सुन्दर कविता |

    उत्तर देंहटाएं
  22. अच्छी रचना के लिए विक्रम जी को बधाई
    आभार साझा करने के लिए !

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत मार्मिक प्रस्तुति. विक्रम जी की कविता साझा करने के लिये धन्यबाद.

    उत्तर देंहटाएं
  24. बहुत ही मार्मिक रचना!

    उस पुत्री को, उस भगिनी को

    जिसने पूरे देश को भले ही चंद

    दिनों के लिए ही जगा दिया,

    हार्दिक श्रद्धांजलि .....

    उत्तर देंहटाएं
  25. विक्रम जी की प्रभावी रचना हिला जाती है अंदर तक ...
    बहुत मार्मिक चिंतन ...

    उत्तर देंहटाएं
  26. दिल को छू लेने वाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  27. अति सुंदर ,बधाई
    नई पोस्ट में :" अहंकार " http://kpk-vichar.blogspot.in

    उत्तर देंहटाएं
  28. ............
    क्या कहें ? कुछ कहने के लिए बचा ही नही... :(((
    विनम्र श्रद्धांजलि सुनयना को !
    ~सादर!!!

    उत्तर देंहटाएं
  29. मन को उद्वेलित करती हुयी रचना !
    आभार साझा करने के लिए.

    सादर
    अनु

    उत्तर देंहटाएं
  30. bhaavpurn lekhan Vikram ji ka...

    Dheerendra sir padhaane k liye dhanyavaad

    उत्तर देंहटाएं
  31. बड़ा ही दिलकश लिखा है।
    जो सोचने को मजबूर कर
    देता है। चंद अलफ़ाज़ में बहुत
    सारे जज़्बात छुपे हैं।

    उत्तर देंहटाएं
  32. दामिनी को श्रद्धांजलि और विक्रम सिंह जी की कलम को सादर नमन

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत मार्मिक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  34. धीरेन्द्र जी ...एक बहुत ही भावपूर्ण रचना से परिचित करवाया है आपने...बेहद मर्मस्पर्शी!

    उत्तर देंहटाएं
  35. अति सुन्दर भाव पूर्ण रचना

    उत्तर देंहटाएं


  36. अच्छी रचना के लिए विक्रम जी को बधाई !

    साझा करने के लिए आभार आपको धीरेन्द्र सिंह भदौरिया जी !





    उत्तर देंहटाएं
  37. मर्मस्पर्शी और भावों को झकझोर देने वाली रचना.

    उत्तर देंहटाएं
  38. प्रकाशमान रचना
    ---
    नवीनतम प्रविष्टी: गुलाबी कोंपलें

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत मार्मिक प्रस्तुति...

    उत्तर देंहटाएं
  40. आपकी यह बेहतरीन रचना शनिवार 12/01/2013 को http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर लिंक की जाएगी. कृपया अवलोकन करे एवं आपके सुझावों को अंकित करें, लिंक में आपका स्वागत है . धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  41. बहुत प्रभावशाली रचना

    उत्तर देंहटाएं
  42. मर्मस्पर्शी रचना को साझा करने के लिए आभार

    उत्तर देंहटाएं
  43. झकझोरती काव्य रचना ,,,,,

    उत्तर देंहटाएं

आपकी टिप्पणियाँ मेरे लिए अनमोल है...अगर आप टिप्पणी देगे,तो निश्चित रूप से आपके पोस्ट पर आकर जबाब दूगाँ,,,,आभार,